धार्मिक भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

धार्मिक भाषा एक ऐसी भाषा होती है जिसे धार्मिक प्रयोगों के लिये इस्तेमाल किया जाता है। किसी धार्मिक भाषा का प्रयोग करने वाले अपने दैनिक जीवन में किसी अन्य भाषा का प्रयोग करते हैं और वह धार्मिक भाषा उनकी मातृभाषा नहीं होती। अक्सर श्रद्धालुओं की दृष्टि में धार्मिक भाषा को मातृभाषा से अधिक शुद्ध, आध्यात्मिक, या अन्य गुणों से भरपूर माना जाता है। हिन्दुओं के लिये संस्कृत, दक्षिण भारत, श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व एशियाई हिन्दू दक्षिण पूर्व एशियाई हिंदू के लिये तमिल, कैथोलिक ईसाईयों के लिये लातीनी, इथोयोपियाई पारम्परिक ईसाईयों के लिये गिइज़, सीरियाई ईसाईयों के लिये सीरियाई, मुसलमानों के लिये शास्त्रीय अरबी (जो आधुनिक अरबी भाषा से काफ़ी भिन्न है) और बौद्ध धर्मियों के लिये पालि धार्मिक भाषाओं की भूमिका निभातीं हैं। इनमें से कोई भी आधुनिक युग में दैनिक प्रयोग की भाषा नहीं है। समाज में अक्सर किसी धार्मिक भाषा को लिखने-पढ़ने वालों को अन्य लोग मान्यता देते हैं, क्योंकि वे धर्मग्रंथ समझने-समझाने और धार्मिक समारोहों में सही भाषा प्रयोग व उच्चारण द्वारा धार्मिक नियमों का पालन करने में सक्षम माने जाते हैं।[1][2]

धार्मिक धर्म[संपादित करें]

हिंदू धर्म का पहला साहित्यिक संदर्भ ईसा पूर्व ५वीं-१०वीं शताब्दी के प्राचीन तमिल संगम साहित्य में मिलता है। वेद, भगवद गीता, पुराण, उपनिषद, महाकाव्य रामायण और महाभारत और विभिन्न पूजा ग्रंथ जैसे सहस्रनाम, समागम और रुद्रम संस्कृत में लिखे गए हैं। पुराण और आगम तमिल और संस्कृत दोनों में पाए जाते हैं। भारतीय उपमहाद्वीप के प्राचीन मंदिरों में अधिकांश शिलालेख तमिल में हैं। संस्कृत और तमिल के अलावा, भारत की विभिन्न क्षेत्रीय भाषाओं जैसे हिंदी, असमिया, बंगाली, ओडिया, मैथिली, पंजाबी, तेलुगु, तमिल, गुजराती, कन्नड़, मलयालम, मराठी, तुलु, पुरानी जावानीस और कई हिंदू आध्यात्मिक रचनाओं की रचना की गई। बाली.

पाली, संस्कृत, चीनी और तिब्बती बौद्ध धर्म की प्रमुख पवित्र भाषाएँ हैं। शैववाद, वैष्णववाद, शक्तिवाद, बौद्ध धर्म और जैन धर्म के भजन, ग्रंथ तमिल में रचे गए हैं। पंजाबी और संस्कृत सिख धर्म की धार्मिक भाषा हैं ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Buswell, Robert E., ed. (2003), Encyclopedia of Buddhism 1, London: Macmillan, p. 137.
  2. Salvucci, Claudio R. 2008. The Roman Rite in the Algonquian and Iroquoian Missions. Merchantville, NJ:Evolution Publishing.