द लास्ट लीफ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
"द लास्ट लीफ"
लेखक ओ हेनरी
देश Flag of the United States.svg संयुक्त राज्य
भाषा अंग्रेज़ी
शैली लघुकथा
प्रकाशन द ट्रिमड लैम्प एंड अदर स्टोरीज
प्रकाशन तिथि 1907

"द लास्ट लीफ" (अंग्रेज़ी: The Last Leaf, हिन्दी: अन्तिम पत्ता) ओ हेनरी द्वारा रचित एक लघु कथा है। ग्रीनविच गाँव में में रहने वाले पात्रों और विषयों के बारे में इसमें बताया जाता है जैसा ओ हेनरी की कृतियों में पाया जाता है।

कहानी[संपादित करें]

जोहंसी बिमार पड़ गयी है और निमोनिया की वजह से मर रही है। वह अपने कमरे की खिड़की के बाहर एक लता (बेल) से गिरते हुए पत्तों को देखती है और निर्णय कर लेती है कि जब अंतिम पत्ता गिरेगा तो वो मर जायेगी। तब उसके साथ रह रही उसकी सब से अच्छी मित्र सू, निराश होकर उसे ऐसा सोचने से रोकने की कोशिश करती है।

एक बेहराम नामक बुढ़ा निराश और असफल कलाकार उनके नीचे के मकान में रहता है। वह दावा करता है कि वो एक अतिउत्तम रचना का निर्माण करेगा, यद्दपि उसने कभी भी यह कार्य आरम्भ नहीं किया। सू उसके पास जाती है और उसे बताती है कि उसकी दोस्त जोहंसी निमोनिया से मर रही है और दावा कर रही है कि जब उसके कमरे की खिड़की के बाहर की लता का अन्तिम पत्ता गिरेगा तो वह मर जायेगी। बेहराम ने इसका मजाक उडाया और इसे उसकी मुर्खता बताया लेकिन — जैसा कि वह इन दो युवा कलाकारों का रक्षक था — अतः उसने जोहंसी और लता को देखने का निर्णय किया।

रात में एक बहुत ही बुरी आँधी आती है और हवा सरसराहट कर रही है और बारिश की छिंटे लगातार खिड़की पर गिर रही हैं। सू खिड़कियाँ और पर्दे बंद कर देती है और जोहंसी को सोने के लिए कहती है, यद्दपि लता पर अब भी एक पत्ता बचा हुआ था। जोहंसी विरोध करती है लेकिन वह जोर देकर ऐसा करने को कहती है क्योंकि वह नहीं चाहती थी कि जोहंसी अन्तिम पत्ते को गिरते हुए देखे। सुबह, जोहंसी लता को देखना चाहती है कि सभी पत्ते गिर चुके हैं लेकिन उसे आश्चर्य होता है कि अभी भी एक पत्ता बचा हुआ है।

जब जोहंसी हैरान हुई कि वह अब भी वहीं था, तो वह हठ करती है कि यह आज गिरेगा। लेकिन ऐसा नहीं होता है और वह ना ही रात को गिरता है और न ही अगले दिन। जोहंसी को मान लेती है कि यह पत्ता उसे यह दिखाने के लिए ही वहाँ रुका हुआ है कि वह कितनी निर्बल है जो उसने मृत्यू चाहने जैसा पाप किया। उसने अपने आप को जीने के लिए पुनः तैयार किया और उसकी हालत में बहुत सुधार आता है।

जब जोहंसी पर्याप्त रूप से स्वस्थ हो जाती है, तब सू उसे बताती है कि उनके पड़ोसी बेहर्मन की निमोनिया के कारण मृत्यु हो गई है और वास्तव में जोहंसी के जीवित रहने के खातिर, शेष बची हुई पत्ती बेहर्मन की सबसे उत्तम रचना थी।

अनुरूपण[संपादित करें]

इस कहानी पर आधारित १९५२ में ओ. हेनरी'ज फुल हाउस नामक चलचित्र बना और पुनः 1983 में 24-मिनट की फ़िल्म बनी।[1] 2013 में बॉलीवुड फिल्म लुटेरा भी इसी कहनी पर आधारित निर्मित की गयी।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Easter "TV Special To Affirm LDS Belief in Resurrected Christ" जाँचें |url= मान (मदद) (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 5 जुलाई 2013.
  2. कोमल नाहटा (5 जुलाई 2013 को 18:11 IST). "फिल्म रिव्यू: ये 'लुटेरा' आपका मन लूट पाएगा?". बीबीसी हिन्दी. अभिगमन तिथि 5 जुलाई 2013. |date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Wikisource
अंग्रेज़ी विकिस्रोत पर इस लेख से संबंधित मूल पाठ उपलब्ध है: