द्वैतवाद (बहुविकल्पी)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

द्वैतवाद (Dualism) से निम्नलिखित सिद्धान्तों का बोध होता है-

  • मन और शरीर का द्वैत (Mind–body dualism), मन और पदार्थ के अन्तर्सम्बन्ध सम्बन्धी दार्शनिक विचारों का एक समुच्चय। इसका मुख्य प्रतिपाद्य यह है कि मानसिक कार्य, कुछ मामलों में, अशारीरिक हैं।
  • Epistemological dualism, a philosophical concept also known as representative realism, indirect realism, and the veil of perception
  • Dualistic cosmology, the moral, spiritual, or religious belief that two fundamental concepts exist, which often oppose each other
  • Soul dualism, the belief that a person has two (or more) kinds of souls
  • Ethical dualism, the attribution of good solely to one group of people and evil to another
  • द्वैतवाद (विधि), इस सिद्धान्त का मानना है कि अन्तरराष्ट्रीय विधि तथा स्थानीय विधि, दो अलग-अलग चीजें हैं और अन्तरराष्ट्रीय विधि वहीं तक लागू होती है जहाँ तक वह स्थानीय विधि के विरुद्ध न हो।
  • द्वैतवाद (राजनीति), कैबिनेट और संसद के उत्तरदायित्वों को अलग-अलग रखने की नीति
  • द्वैत (गणित)
  • Duality (physics), media with properties that can be associated with the mechanics of two different phenomena, such as wave-particle duality
  • Dualism (cybernetics), systems or problems in which an intelligent adversary attempts to exploit the weaknesses of the investigator

इन्हें भी देखें[संपादित करें]