द्विवेदी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

द्विवेदी एक भारतीय उपनाम है। ब्राह्मण जाति में एक उप जाति जो द्विवेदी, दूबे, दबे के उप-नाम से विभिन्न स्थानों में निवास करती है। ब्राम्हण की इस उप-जाति का उद्गम स्थान अधिकतर लोग उ॰ प्र॰ के गोरखपुर जिले के "समदरिया एवं सरार" को मानते हैं।इनका विवाह 13 घरों में किया जाता है । 3 घरों में विवाह निषेध है।[कृपया उद्धरण जोड़ें] यह एक यर्जुवेदिय मध्यान्धनी शाखा के ब्राम्हण होते हैं। जिनमें प्रमुख गोत्र बत्स, भारद्वाज, शान्डिल्य इत्यादि होते हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

द्विबेदी अथवा दूबे उप-नाम से विशेष कर उ॰प्र॰ में गोरखपुर,Siddharth nagar देवरिया, मदरिया, वाराणसी, लखनऊ, कानपुर (कान्यकुब्ज दूबे) म॰ प्र॰ में इन्दौर, भोपाल, जबलपुर, सतना, रीवा; पंजाब में होशियारपुर,नांगल एवं गुजरात में नन्दियाड़, भावनगर ,महेशाना में द्विबेदी अथवा दूबे, दबे उप-नाम से निवास करते हैं। द्विवेदी उप-नाम में महत्व पूर्ण व्यक्तित्व प्रमुख लेखक, कवी संत एवं विद्वान-संत तुलसी दास, महाबीर प्रसाद द्विवेदी, हजारी प्रसाद द्विवेदी, बाल गोबिन्द द्विवेदी, लाल बहादुर दुबे, रेवा प्रसाद द्विवेदी प्रसिद्ध हैं।