द्विविधा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

द्विविधा (dilemma) तर्कशास्त्र में ऐसी दुविधा को कहते हैं जिसमें दो सम्भावित विकल्प हों, जिनमें से सरल रूप से कोई भी श्रेष्ठतर न हो। यानि ऐसी स्थिति जिसमें व्यक्ति असमंजस में पड़ जाये कि दोनो चारों या उत्तरों में से किसे चुना जाये। साधारण बोलचाल में द्विविधा को कई मुहावरों व लोकोक्तियों में कहा जाता है। मसलन अगर दो बुरे विकल्पों में से एक चुनना हो तो हिन्दी में कहा जाता है कि "सामने अंधा कुआँ, पीछे गहरी खाई"।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Beyond Tocqueville: Civil Society and the Social Capital Debate in Comparative Perspective, Bob Edwards, Michael W. Foley, Mario Diani, pp. 126, UPNE, 2001, ISBN 978-1-58465-125-3, ... Trust enables economic actors to cooperate in prisoners' dilemma-type circumstances, in which each would benefit from cooperation but each has an incentive not to cooperate ...