दोलनदर्शी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
टेक्ट्रानिक्स का मॉडल 475A पोर्टेबल अनॉलॉग दोलनदर्शी जो १९७० के दशक में बहुधा प्रयुक्त होता था
आधुनिक डिजितल स्टोरेज दोलनदर्शी

दोलनदर्शी (ऑसिलोस्कोप) एक इलेक्ट्रानिक उपकरण है जो किसी विभवान्तर को समय के सापेक्ष या किसी विभवान्तर के सापेक्ष एक ग्राफ के रूप में प्रर्दशित करता है। विभिन्न संकेतों को देखने से परिपथ के काम करने के बारे में जानकारी प्राप्त होती है और पता चलता है की कौन सा अवयव ख़राब है या काम नही कर रहा। स्कोप, इलेक्ट्रानिकी में प्रयुक्त होने वाले सर्वाधिक उपयोगी उपकरणों में से एक है। [1] [2] [3] [4] [5]

प्रकार[संपादित करें]

दोलनदर्शी मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं-

  • (१) कैथोड किरण ट्यूब(ऋणाग्र किरण नलिका) वाले दोलनदर्शी (CRO)
  • (२) डिजिटल स्टोरेज दोलनदर्शी (DSO)

[2] [3] [4] [5] आजकल कैथोड किरण ट्यूब वाले दोलनदर्शी प्रचलन में नहीं हैं। यूएसबी से जुड़ने वाले दोलनदर्शी नवीनतम प्रकार के दोलनदर्शी हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

दोलनदर्शी के पर्दे पर दो संकेत (दो अलग-अलग रंगों में) दिख रहे हैं।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]