देवशयन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दू धर्म में देवशयन चार माह के उस काल को कहा जाता है जिसमें यह माना जाता है कि इस समय देवता विश्राम के लिए चले जाते हैं और इस समय में विवाह एवं अन्य मांगलिक कार्य बन्द रहते हैं।[1] देवशयन का समय आषाढ़ शुक्ल एकादशी से कार्तिक शुक्ल एकादशी तक का माना जाता है। कार्तिक शुक्ल एकादशी को "देव उठनी एकादशी" भी कहा जाता है।[2][3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "देवशयन एकादशी पर्व मनाया : चार माह तक नहीं होंगे मांगलिक कार्य". दैनिक भास्कर. १ जुलाई २०१२. अभिगमन तिथि १० जून २०१५.
  2. "कल देव सोएंगे, चार माह नहीं होंगे मांगलिक कार्य". दैनिक नवज्यौति. १० जुलाई २०१४. अभिगमन तिथि १० जून २०१५.
  3. "तुलसी से विवाह के लिए जागेंगे शालिग्राम". नई दुनिया, दैनिक जागरण. २८ अक्टूबर २०१४. अभिगमन तिथि १० जून २०१५.