दृष्टांत अलंकार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जहाँ उपमेय और उपमान तथा उनके साधारण धर्मों में बिंब प्रतिबिंब भाव होता है वहाँ दृष्टांत अलंकार की रचना होती है। यह एक अर्थालंकार है। जैसे- सुख-दुःख के मधुर मिलन से

यह जीवन हो परीपुरण

पिर घन में ओझल हो शशी

फिर शशी से ओझल हो घन।

यहाँ सुख-दुःख तथा शशी-घन में बिंब प्रतिबिंब का भाव है इसलिए यहाँ दृष्टांत अलंकार है।