दुलियाजान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दुलियाजान
Duliajan
দুলিয়াজান
ऑयल इंडिया लिमिटेड का क्षेत्र मुख्यालय
ऑयल इंडिया लिमिटेड का क्षेत्र मुख्यालय
उपनाम: "तेल नगरी"
दुलियाजान की असम के मानचित्र पर अवस्थिति
दुलियाजान
दुलियाजान
असम में स्थिति
निर्देशांक: 27°22′00″N 95°19′00″E / 27.3667°N 95.3167°E / 27.3667; 95.3167निर्देशांक: 27°22′00″N 95°19′00″E / 27.3667°N 95.3167°E / 27.3667; 95.3167
ज़िलाडिब्रूगढ़ ज़िला
प्रान्तअसम
देशFlag of India.svg भारत
ऊँचाई123 मी (404 फीट)
जनसंख्या (2011)
 • कुल28,626
 • दर्जाअसम में 16वाँ
भाषा
 • प्रचलितअसमिया
समय मण्डलभारतीय मानक समय (यूटीसी+5:30)
पिनकोड786602
वाहन पंजीकरणAS-06

दुलियाजान (Duliajan) भारत के असम राज्य के डिब्रूगढ़ ज़िले में स्थित एक शहर है।[1]

विवरण[संपादित करें]

दुलियाजान असम के सुदूर पूर्व में बसा एक औद्योगिक नगरी है. यह डिब्रूगढ़ जिले के अंतर्गत आता है और यह डिब्रूगढ़ शहर से पूर्व में ४५ कि.मि. की दूरी पर स्थित है. तिनसुकिया इसके उत्तर में २८ कि.मि. की दूरी पर स्थित है. यह नगर आयल इंडिया लिमिटेड का हेड-क्वार्टर है. आयल इंडिया लिमिटेड देश का तेल और गैस उत्पादन की अग्रणी कम्पनी है.[2]. इस नगर में असम सरकार की प्राकृतिक गैस वितरण करने वाली संस्था असम गैस कम्पनी लिमिटेड का भी मुख्यालय है.[3]

इतिहास[संपादित करें]

दुलियाजान आज से १००-१५० साल पहले घने जंगलों से घिरा हुआ एक इलाका था. यहाँ दिहिंग नदी के दोनों ओर दिहिंग वनांचल हुआ करता था. आहोम राजा जो की स्वर्गदेव भी कहलाते थे, बड़े शिकार प्रिय थे. वे अपनी शिवसागर स्थित राजधानी रंगपुर और गड़गाँव से इस इलाके में शिकार के लिए आते थे. स्वर्गदेव यहाँ आने के लिए नाव के द्वारा पहले तो दिखौ नदी से ब्रह्मपुत्र नदी और फिर ब्रह्मपुत्र से दिहिंग नदी में धारा के विपरीत यात्रा करते थे. इस यात्रा में दुलियाजान से सटे स्थान टिपलिंग घाट में वे अपना पड़ाव डालते थे. यहीं नदी की धारा के करीब "दुलिया" यानी की कहार अथवा पालकी ढोने वाले, स्वर्गदेवों का पथप्रदर्शन किया करते थे. जब यहाँ तेल नगरी बसाने का निर्णय लिया गया तभी इन्ही नदी की धारा "जान" के समीप रहने वाले "दुलिया" यानी की कहारों के सम्मान में इस जगह का नाम दुलियाजान पडा.

एक अन्य कथा के मुताबिक, अहोम के एक राजा सुहाँफा को एक षड़यंत्र से मार डाला गया. उसकी मृत्यु के पश्चात् उसका पुत्र सुपिन्हा उत्तराधिकारी चुना गया. सुपिन्हा को बाद में पता चला की उसके पिता की मृत्यु के पीछे उनके ही मंत्री लातुरबन और उसके पुत्र मुख्य षड़यंत्रकारी थे. स्वर्गदेव सुपिन्हा ने मंत्री लातुरबन और उसके पुत्रों की इस बर्बर कांड के लिये उन्हें मृत्युदंड दिया और उनके सर कलम कर देने का आदेश दिया. मंत्री लातुरबन और उसके पुत्रों को सज़ा के लिए अहोमों की राजधानी से दूर स्थान की एक छोटी नदी के किनारे लाया गया और सज़ा दी गयी. दूर स्थित जान अर्थात छोटी नदी के कारण इस नदी का नाम दुरियाजान पड़ गया.

बाद में अहोम की एक उप-जाति "दुलियाखेल" दुरियाजान नदी के किनारे बसने लगे. अपने जाति के नाम के अनुरूप उन्होंने दूरियाजान नदी को दुलियाजान कहना शुरू कर दिया और बाद में पूरी जगह का नाम ही दुलियाजान पड़ गया. यह नदी आज भी दुलियाजान के पास ही बसे एक जगह कछारीपथार में स्थित है.

इस खूबसूरत तेल नगरी का नाम दुलियाजान कब से पडा, इसका कोई ठोस और अधिकारिक तथ्य उपलब्ध नहीं है. लेकिन डिगबोई तेल क्षेत्र के तेल उत्खनन कम्पनी "असम तेल निगम" (ए.ओ.सी) और बर्मा आयल कम्पनी (बी.ओ.सी) के कई जानकारों ने इस स्थान को दुलियाजान के नाम से उल्लेख किया है. १ जनवरी १९६२ में दुलियाजान में "आयल इन्डिया लिमिटेड" ने अनुष्ठानिक रूप से अपने मुख्यालय की स्थापना की, जहाँ से तेल की खोज, खनन और इससे जुड़े कार्य संचालन होने लगे. एक और तथ्य ये भी है की दुलियाजान जहाँ पर है उस अंचल को पहले नाहरकटिया में रहने वाले जॉलोनी के नाम से बुलाते थे.

दुलियाजान में आयल इन्डिया लिमिटेड (OIL) की स्थापना से लखीमपुर जिले (जो पहले ब्रह्मपुत्र के दक्षिण में डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया और उत्तर में लखीमपुर और धेमाजी जिले को समेटे था), में पेट्रोलियम उद्योग में एक नए युग का सूत्रपात हुआ. स्थापना से अब तक यह तेल नगरी तेजी से विकास कर रहा है और राज्य और राष्ट्र दोनों के अर्थतंत्र की मजबूती में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है.[4]

जलवायु[संपादित करें]

दुलियाजान में, जलवायु गर्म और शीतोष्ण है। सर्दियों में गर्मियों की तुलना में बहुत कम वर्षा होती है। कोपेन और गीजर के अनुसार, जलवायु CWA के रूप में वर्गीकृत किया जाता है। दुलियाजान में औसत वार्षिक तापमान २३.२ डिग्री सेल्सियस है। औसत वार्षिक वर्षा २५२८ मिमी है। सबसे शुष्क महीने २१ मिमी के साथ दिसंबर है जबकि जुलाई के महीने में ४८९ मिमी की औसत के साथ सर्वाधिक वर्षा होती है। वर्ष की सबसे गरम माह २७.८ डिग्री सेल्सियस के औसत तापमान के साथ अगस्त है। जनवरी में औसत तापमान १६.१ डिग्री सेल्सियस है। यह पूरे वर्ष की सबसे कम औसत तापमान है। सबसे सूखा महीना और नम महीने के बीच वर्षा में अंतर ४६८ मिमी है। वर्ष के दौरान औसत तापमान में ११.७ डिग्री सेल्सियस का अंतर रहता है.[5]

Climate Table

परिवहन[संपादित करें]

दुलियाजान हवाई मार्ग, राष्ट्रीय राजमार्ग और रेलवे से जुड़ा हुआ शहर है। यह गुवाहाटी, असम के राज्य की राजधानी से सड़क मार्ग से ४८० किमी दूर है। निकटतम राष्ट्रीय राजमार्ग ३७ मात्र २५ किमी की दूरी पर है.

यहाँ स्थानीय हवाई अड्डा मोहनबाड़ी, डिब्रूगढ़ में है जो दुलियाजान से लगभग ४० किमी दूर है। यहाँ से दिल्ली, गुवाहाटी, कोलकाता और पूर्वोत्तर राज्यों कि राजधानियों के लिए दैनिक और साप्ताहिक हिसाब से हवाई यात्रा उपलब्ध हैं। दुलियाजान में आयल इन्डिया लिमिटेड का अपना हेलिपैड भी है. हालांकि इसका इस्तेमाल केवल आयल इन्डिया लिमिटेड के उच्च अधिकारियों के लिए ही सीमित है.

दुलियाजान रेलवे से जुड़ा हुआ है। हाल ही में यहाँ के स्टेशन का पुनर्निर्माण कराया गया है सुविधाओं का विस्तार किया गया है. कई महत्वपूर्ण ट्रेन जैसे - डिब्रूगढ़ राजधानी एक्सप्रेस, ब्रह्मपुत्र मेल, कामरूप एक्सप्रेस, कामख्या एक्सप्रेस, चेन्नई एक्सप्रेस, लेडो इंटर सिटी एक्सप्रेस आदि दुलियाजान से होकर चलती हैं। हालांकि कुछ सलेक्टेड ट्रेनें ही यहाँ रूकती हैं. जैसे इंटरसिटी एक्सप्रेस, कामरूप एक्सप्रेस, कामख्या एक्सप्रेस, तिनसुकिया-राजेंद्रनगर स्पेशल, डिब्रूगढ़-रंगिया स्पेशल आदि.[6]

दुलियाजान से राज्य के अन्य शहरों जैसे डिब्रूगढ़, जोरहाट, नौगाँव, गुवाहाटी आदि के लिए दिन और रात्रि दोनों समय डीलक्स बसे चलती रहती है। अरुणाचल प्रदेश तथा राज्य के विभिन्न जगहों पर जाने के लिए Arunachal State Transport Coorporation- APST की बसें, प्राइवेट बसें, विंगर और छोटे वाहन नियमित रूप से चलती हैं। स्थानीय परिवहन में ऑटो रिक्शा, ट्रैकर्स, रिक्शा आदि बुनियादी साधन हैं। दुलियाजान में हाल ही में बैटरी द्वारा चालित इ-रिक्शा भी दिखें हैं.

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

२०११ की जनगणना अनुसार, असम के डिब्रूगढ़ जिले में स्थित तेल नगरी दुलियाजान में २८,६२६ लोगों की आबादी है। पुरुषों की जनसंख्या १४,८९८ (५२.०४%) और महिलाओं की जनसंख्या १३,७२८ (४७.९६%) है। दुलियाजान में, महिला लिंग अनुपात ९२१ प्रति १००० है जो की राज्य के औसत ९५८ से काफी कम है. हालांकि बाल लिंग अनुपात की स्थिति ९६२ प्रति १००० के साथ कुछ बेहतर है. साक्षरता दर ९३.९८% है. महिला साक्षरता दर ९१.१६% है, जबकि पुरुष साक्षरता ९६.५७% है। [7]

स्वास्थ्य सुविधा[संपादित करें]

दुलियाजान में ऑयल इंडिया अस्पताल है जो कि ऑयल इंडिया लिमिटेड द्वारा चलाया जाता है। यह मुख्य रूप से ऑयल इंडिया कंपनी के कर्मचारियों के लिए है किन्तु यह अस्पताल बाहरी लोगों के लिए भी सुविधा प्रदान करता है। यह दुलियाजान नेहरू मैदान के निकट बहुत बड़े काम्प्लेक्स में स्थित है। यह अस्पताल सभी आधुनिक उपकरणों के साथ सुसज्जित है.

असम गैस कंपनी लिमिटेड मेडिकल सेंटर सार्वजनिक क्षेत्र असम गैस कंपनी द्वारा चलाया जाता है। यह कंपनी के परिसर के अंदर स्थित है।

लाइफ केयर नर्सिंग होम टिपलिंग रोड, जयनगर में स्थित एक निजी अस्पताल है।इन के अलावा, कुछ जाने-माने क्लीनिक जैसे ड्रग होम, दुलियाजान होमियो क्लिनिक और संजीवनी भी स्वास्थ्य क्षेत्र में अपनी भूमिका निभा रहे हैं.[8]

भौगलिक स्थिति[संपादित करें]

दुलियाजान २७°२२′००उ ९१°१९'०३पू पर स्थित है। यह शहर १२३ मीटर (४०४ फीट) की औसत ऊंचाई पर अवस्थित है।[9]

खेल[संपादित करें]

दुलियाजान में खेल हमेशा से लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण और उत्साही विषय रहा है। यहाँ के स्थानीय युवा और बच्चों में विभिन्न खेलों के प्रति हमेशा उत्साह रहा हैं। यहाँ फुटबॉल और क्रिकेट सबसे लोकप्रिय हैं। अन्य खेलों में लॉन टेनिस, टेबल टेनिस, बैडमिंटन, तैराकी, स्क्वैश, गोल्फ और मार्शल आर्ट भी खेले जाते हैं. शहर के दो मुख्य क्लब, दुलियाजान क्लब और ज़ालोनी क्लब, कम उम्र के स्थानीय बच्चों के लिए बुनियादी खेल सुविधाएं और प्रशिक्षण प्रदान करते हैं।[10]

दुलियाजान में फुटबाल खेल के प्रति ज़बरदस्त दीवानगी है. स्थानीय फुटबॉल क्लब, ऑयल इंडिया लिमिटेड एफसी एआईएफएफ का एक सदस्य है और [आई-लीग 2 डिवीजन] में खेलता है। ऑयल इंडिया लिमिटेड एफसी का पूर्व में काफी नाम रहा है, और इसने कई राष्ट्रीय और अंतरष्ट्रीय टूर्नामेंटो में हिस्सा लिया है और कई खिताब अपने नाम किये हैं. टीम असम क्लब फुटबॉल चैम्पियनशिप के मौजूदा विजेता है।[11]. यहाँ के कई खिलाडियों ने विभिन्न राज्यिक और राष्ट्रीय स्पर्धाओं में सुनाम अर्जित किया है.

ऑयल इंडिया ग्राउंड या नेहरू मैदान, जो कि ऑयल इंडिया लिमिटेड एफसी का भी घरेलू मैदान है, कई राष्ट्रीय और राज्य स्तरीय फुटबॉल टूर्नामेंटो नंबर का आयोजन कर चुका है। जिला स्तरीय क्रिकेट टूर्नामेंट भी यहाँ आयोजित की जाती रही है। यहाँ 10,000 लोगों की बैठने की क्षमता है।[12] दुलियाजान में उच्च स्तर के टेनिस कोर्ट, स्क्वाश कोर्ट, बैडमिंटन और टेबल टेनिस के लिए इंडोर स्टेडियम भी है. यहाँ १८ होल्स का एक शानदार गोल्फ कोर्स भी है.

होटलों की सूची[संपादित करें]

दुलियाजान में स्थित कुछ होटल और लॉज निम्नलिखित है.

  • होटल कंचनजंघा
  • होटल सुरभि (मयूरी)
  • होटल जोंकी पानोई
  • प्रणामी लॉज
  • इशान गेस्ट हाउस
  • होटल एंजेल
  • एल इंडिया लिमिटेड गेस्ट हाउस (केवल आयल स्टाफ के लिए)[13]

शिक्षा[संपादित करें]

स्कूलों की सूची[संपादित करें]

  • केंद्रीय विद्यालय, दुलियाजान
  • दुलियाजान आयल हायर सेकेंडरी स्कूल
  • पूर्व ज़ालोनी प्राथमिक विद्यालय
  • मध्य ज़ालोनी प्राथमिक विद्यालय
  • पश्चिम ज़ालोनी प्राथमिक विद्यालय
  • उत्तर ज़ालोनी प्राथमिक विद्यालय
  • दिल्ली पब्लिक स्कूल
  • सेंट जेविएर्स स्कूल
  • राष्ट्रभाषा स्कूल

कॉलेजों की सूची[संपादित करें]

  • दुलियाजान कॉलेज
  • दुलियाजान विमेंस कॉलेज

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "District Census 2011". Census2011.co.in. 2011. मूल से 11 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2011-09-30.
  2. "Oil India Ltd. Headquarters". मूल से 18 फ़रवरी 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 June 2011.
  3. "Assam Gas Company Limited". मूल से 8 मार्च 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 26 November 2012.
  4. "संग्रहीत प्रति". मूल से 24 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  5. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  6. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अप्रैल 2015.
  7. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अप्रैल 2015.
  8. "संग्रहीत प्रति". मूल से 27 दिसंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  9. "संग्रहीत प्रति". मूल से 2 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 अप्रैल 2015.
  10. "संग्रहीत प्रति". मूल से 8 दिसंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  11. "संग्रहीत प्रति". मूल से 29 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  12. "संग्रहीत प्रति". मूल से 18 दिसंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.
  13. "संग्रहीत प्रति". मूल से 27 दिसंबर 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 मार्च 2015.