दुर्लभराज द्वितीय

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
दुर्लभराज द्वितीय
महाराजाधिराज
सपादलक्ष के राजा
शासनावधिसी॰ 998-1012 सीई
पूर्ववर्तीविग्रहराज द्वितीय
उत्तरवर्तीगोविंदराज तृतीय
राजवंशचाहमान वंश

दुर्लभराज द्वितीय (शासन 998-1012 ई.) शाकम्भरी चम्हाण वंश से संबंधित एक भारतीय राजा थे। उन्होंने सपादलक्ष देश पर शासन किया, जिसके अन्तर्गत उत्तर-पश्चिमी भारत में वर्तमान राजस्थान के कुछ भाग शामिल थे।

दुर्लभराज चाहमान राजा सिंहराज के पुत्र थे। उन्होंने अपने भाई विग्रहराज द्वितीय को चाहमान सिंहासन पर बैठाया। विग्रहराज के हर्ष शिलालेख में दोनों भाइयों की तुलना राम-लक्ष्मण और कृष्ण-बलराम से की गई है। उनके दो अन्य भाई भी थे, जिनका नाम चंद्रराज और गोविंदराज (समान नाम वाले चाहमान राजाओं से भ्रमित न हों) था।[1]

राजस्थान के किनसरिया और सकराय में दुर्लभराज के शासनकाल के सन् 999 ई के दो शिलालेख खोजे गए हैं। सकराय शिलालेख के अनुसार, वो महाराजाधिराज (राजाओं के राजा) की उपाधि से धारण थे। किनसरिया के शिलालेख में बताया गया है कि वह दुरलंघ्य-मेरु के रूप में जाने जाते थे, जिसका अर्थ है कि उनके दुश्मनों ने उनके आदेशों का पालन किया था। शिलालेख में यह भी कहा गया है कि उन्होंने असोसिटाना या राशोषितन मंडल पर विजय प्राप्त की।[1] इतिहासकार आर॰ बी॰ सिंह के अनुसार यह वर्तमान रोहतक जिला हो सकता है, जिसे दुर्लभ ने संभवत: एक तोमर राजा से कब्जा करके लिया था।[2]

दुर्लभराज का हस्तिकुंडी राष्ट्रकूट शाखा के प्रमुख धवाला के 996 ई शिलालेख में भी एक उल्लेख मिलता है। इस शिलालेख के अनुसार, धवाला महेंद्र नाम के एक राजा की सहायता के लिए आई थी।[1] इस महेन्द्र की पहचान समकालीन नद्दुल चाहमान राजा से की जा सकती है, जो दुर्लभ के प्रतिद्वंद्वियों, चालुक्यों के सामंत थे। शिलालेख में कहा गया है कि धवाला ने महेंद्र को राहत देने के लिए कूटनीति और बल दोनों का इस्तेमाल किया। डी॰ आर॰ भंडारकर के अनुसार, धवाला के शिलालेख में उल्लिखित दुर्लभराज एक अलग राजा थे।[3]

प्रारंभिक मध्ययुगीन मुस्लिम इतिहासकारों का कहना है कि अजमेर के शासक 1008 सीई में गजनवी गजनी के महमूद के खिलाफ आनन्दपाल का समर्थन करने के लिए हिंदू राजाओं के एक संघ में शामिल हुए थे। आर॰ बी॰ सिंह इस शासक को दुर्लभराज के रूप में पहचानते हैं। महमूद को बार-बार हिंदू प्रदेशों को लूटने से रोकने में संघ विफल रहा था।[2]

दुर्लभराज के अधीनस्थों में, माधव नामक एक मंत्री और दधीचिका चाचा नामक एक सामंत को जाना जाता है। वह अपने भाई गोविंदराज द्वितीय के उत्तराधिकार थे।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Dasharatha Sharma 1959, पृ॰ 33.
  2. R. B. Singh 1964, पृ॰ 122.
  3. R. B. Singh 1964, पृ॰ 240.

ग्रंथसूची[संपादित करें]

  • Dasharatha Sharma (1959). Early Chauhān Dynasties. S. Chand / Motilal Banarsidass. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780842606189.
  • R. B. Singh (1964). History of the Chāhamānas. N. Kishore. OCLC 11038728.