दुर्जनसाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दुर्जनसाल कोटा (राजस्थान) के राजा भीमसिंह के तृतीय पुत्र। बड़े भाई अर्जुन सिंह के निस्संतान मर जाने पर इनमें और मझले भाई श्यामसिंह में गद्दी के लिए झगड़ा शुरू हुआ। श्यामसिंह की युद्ध में मृत्यु हो जाने पर इन्हें बड़ा दु:ख हुआ और इन्होंने संवत्‌ १७८० में बड़े आकुल हृदय से राज्यासन पर बैठना स्वीकार किया। संवत्‌ १८०० में जब अंबर नरेश ईश्वरीसिंह ने जाटों और मराठों से मित्रता कर कोटा पर आक्रमण किया तो दुर्जनसाल ने दृढ़ता से उनका मुकाबिला किया। ईश्वरीसिंह को असफल होकर वापस लौट जाना पड़ा। इन्होंने पुरानी शत्रुता भुलाकर उम्मेदसिंह को बूँदी राज्य के सिंहासन पर आरूढ़ कराने का प्रयत्न किया। बाद में संवत्‌ १८१० में जब हर और खीची जातियों में युद्ध हुआ तो उम्मेदसिंह ने दुर्जनसाल की सहायता की। तीन वर्ष बाद इस साहसी राजा की मृत्यु हो गई।