दुग्ध ज्वर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दुग्ध ज्वर (मिल्क फीवर) पशुओं को लगने वाला एक रोग है जो अक्सर ज्यादा दूध देने वाले पशुओं को ब्याने के कुछ घंटे या दिनों बाद होता है। पशु के शरीर में कैल्शियम की कमी के कारण यह रोग होता है। सामान्यतः ये रोग गायों में 5-10 वर्ष की उम्र में अधिक होता है। आमतौर पर पहली ब्यांत में ये रोग नहीं होता।

लक्षण[संपादित करें]

इस रोग के लक्षण ब्याने के 1-3 दिन तक प्रकट होते है। पशु को बेचैनी रहती है। मांसपेशियों में कमजोरी आ जाने के कारण पशु चल फिर नही सकता पिछले पैरों में अकड़न और आंशिक लकवा की स्थिती में पशु गिर जाता है। उसके बाद गर्दन को एक तरफ पीछे की ओर मोड़ कर बैठा रहता है। शरीर का तापमान कम हो जाता है।