दीर्घतपा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दीर्घतपा सन् १९६४ में प्रकाशित फणीश्वर नाथ रेणु का उपन्यास है। इसकी कथावस्तु बिहार की राजधानी पटना के एक वर्किंग वीमेंस हॉस्टल के आस-पास बुनी गई है। गोपाल राय के अनुसार-"इस उपन्यास में इन छात्रावासों के अन्दर पनपने वाले भ्रष्टाचार, स्त्रियों के काम-शोषण आदि का अंकन हुआ है।"[1]

संदर्भ[संपादित करें]

  1. गोपाल, राय (२०१४). हिन्दी उपन्यास का इतिहास. नई दिल्ली: राजकमल प्रकाशन. पृ॰ २५१.