दिल की बाज़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दिल की बाज़ी
दिल की बाज़ी.jpg
दिल की बाज़ी का पोस्टर
निर्देशक अनिल गाँगुली
निर्माता अनिल गाँगुली
लेखक मदन जोशी (संवाद)
पटकथा राम केलकर
कहानी अनिल गाँगुली
अभिनेता अक्षय कुमार,
अविनाश वाधवन,
आयशा जुल्का
संगीतकार रामलक्ष्मण
प्रदर्शन तिथि(याँ) 7 मई, 1993
देश भारत
भाषा हिन्दी

दिल की बाज़ी 1993 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसका निर्देशन अनिल गाँगुली ने किया और मुख्य भूमिकाओं में अक्षय कुमार, अविनाश वाधवन और आयशा जुल्का हैं।

संक्षेप[संपादित करें]

अजय (अविनाश वाधवन) समृद्ध बिगड़ैल है जो आशा से प्यार करता है, जिसने अपने परिवार की सभी जिम्मेदारियों को उसके कंधों पर रख रखा है। विजय (अक्षय कुमार) एक मध्यम वर्ग का व्यक्ति है जो नौकरियों की तलाश में हैं और आरती (आयशा जुल्का) से प्यार करता है। अजय और विजय एक दूसरे से नफरत करते हैं। आरती के पिता विजय को उसी कंपनी में नौकरी दिलवाते हैं जहां वह काम कर रहे थे, इस तथ्य से अनजान होकर कि यह अजय के पिता की कंपनी है। अजय उसे निकालने की कोशिश करता है, लेकिन हर बार विफल रहता है। यह पता चला है कि अजय और विजय सौतेले भाई हैं। विजय के पिता ने अजय की मां निर्मला देवी (राखी) को पैसे के लिए अजय की मां से शादी करने के लिए छोड़ दिया। वह अजय को सच्चाई बताते हैं और उससे वादा करते हैं कि वह उसके भाई और उसकी मां से मिलेंगे और उन्हें संपत्ति में बराबर हिस्सा देंगे। इस बीच, विजय को पता चलता है कि अजय उसका सौतेले भाई है और अपनी मां के लिए बदला लेना चाहता है। अजय को नष्ट करने के लिए वह अजय के प्रतिद्वंद्वियों के साथ हाथ मिलाता है। वह अजय की उसकी माँ के साथ बातचीत को सुनता है जहां वह कहता है कि वह अपनी आधी संपत्ति को अपने सौतेले भाई और मां को देना चाहता है जिसे वह इतने दिनों तक ढूंढने की कोशिश कर रहा था। विजय ने अपनी गलती को महसूस किया और अजय को माफ कर दिया। कुछ गुंडे अजय की माँ पर हमला करते हैं और लड़के भोगिलाल से बदला लेते हैं, जिसने अजय के दादा को मार डाला था। दोनों भाई इतने सालों बाद एकजुट हो जाते हैं। कहानी अजय की मां के मरने से समाप्त होती है जो निर्मला देवी से उनके दोनों बेटों को स्वीकार करने के लिए कहती हैं। तब सब एक परिवार के रूप में एक साथ रहते हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी रामलक्ष्मण द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."तुम साज छेड़ो मैं गीत गाऊँ"रविन्दर रावललता मंगेशकर6:23
2."रुक भी जाओ जाना दिल को"शैली शैलेन्द्रउदित नारायण, लता मंगेशकर5:31
3."आगरे से आई हो या आई बरेली से"देव कोहलीअमित कुमार5:51
4."ये बादल आसमान पे क्यों"शैली शैलेन्द्रलता मंगेशकर, एस॰ पी॰ बालासुब्रमण्यम5:21
5."शादी करूँगी"देव कोहलीअलका याज्ञनिक, अमित कुमार6:28
6."कितनी सर्दी पड़ गई"रविन्दर रावलअलका याज्ञनिक, उदित नारायण4:31
7."बुड्ढा क्या जवानों से कम है"देव कोहलीअलका याज्ञनिक5:11

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]