दिल्ली की चाट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दिल्ली की चाँदनी चौक की चटपटी चाट बहुत प्रसिद्ध है और अब तो यह दिल्ली चाट के रूप में भारत के कई हिस्सों में बेची जाती है। यह चाट मिर्च मसाले से भरपूर होती है। यह चाट खाने में जितनी स्वादिष्ट होती है इसका इतिहास भी उतना ही रोचक है।

आज जहाँ चाँदनी चौक स्थित है, वहाँ किसी समय एक नहर बहा करती थी। दिल्ली (उस समय शाहजहाँबाद) के सुल्तान शाहजहाँ ने इस नहर का निर्माण राजधानी की सुंदरता को बढाने के लिए किया था। यह नहर उस समय आमोद प्रमोद की प्रमुख जगह हुआ करती थी। यह लोगों की भारी भीड जुटती थी और खुद सुल्तान शाहजहाँ इस नहर में नौकाविहार करते थे।

लेकिन जैसे जैसे समय बीतता गया वैसे वैसे इस नहर में भी गंदगी फैलने लगी। इस नहर का पानी चारों तरफ से बंद हो जाता था और निकासी की कोई अच्छी व्यवस्था नहीं थी। धीरे धीरे इस नहर के प्रदूषित पानी की वजह से लोगों में बीमारियाँ बढने लगी। शाहजहाँ के मुख्य हकीम ने पता लगाया कि इस नहर का गंदा पानी बिमारियों के फैलने की मुख्य वजह है। हकीम चाहकर भी शाहजहाँ को नहर मिट्टी से भरवा देनी की सलाह नहीं दे सकता था क्योंकि शाहजहाँ को यह नहर बहुत प्यारी थी।

इसलिए हकीम ने एक अलग ही युक्ति सोची. उसने शहर की प्रजा को मिर्च मसाले से भरपूर व्यंजन खाने की सलाह देनी शुरू की। उसका मानना था कि मिर्च एक उपयोगी रोग प्रतिरोधक है इसलिए मिर्च का अधिक से अधिक सेवन लोगों को बिमारियों से बचाएगा. उसके बाद नहर के किनारे चटपटी चीजों का विक्रय शुरू हुआ। समय बीतने पर नहर का नामोनिशान ही मिट गया और वहाँ एक बाजार लग गया जो आज चाँदनी चौक के नाम से जाना जाता है।

उन बिमारियों की वजह चाहे जो रही हो लेकिन दिल्लीवासी उसके बाद चटपटी चीजों को खाने के शौकीन जरूर हो गए। इसके कहानी के पीछे कितनी सच्चाई है यह अज्ञात है लेकिन यह जरूर सच है कि दिल्ली चाट आँखो में पानी ला दे इतनी तीखी जरूर होती है।