दिलजले (1996 फ़िल्म)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दिलजले
चित्र:दिलजले.jpg
दिलजले का पोस्टर
अभिनेता अजय देवगन,
सोनाली बेंद्रे,
अमरीश पुरी
प्रदर्शन तिथि(याँ) 1996
देश भारत
भाषा हिन्दी

दिलजले 1996 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है।

संक्षेप[संपादित करें]

श्याम (अजय देवगन) ऱाधिका (सोनाली बेन्द्रे) से प्यार करता है। लेकिन राधिका के पिता (शक्ति कपूर) जो कश्मीर के जो भूतपूर्व राजा व वर्तमान मन्त्री हैं वो इसे पसन्द नहीं करते। इसलिये वो श्याम के पिता और श्याम को अपने प्रभाव से आतंकवादी होने का आरोप लगाकर जेल में बन्द कर देता है। अधिक पिटाई व यातना से श्याम के पिता की मृत्यु हो जाती है। श्याम इस अन्याय का बदला लेने के लिए आतंकवादी (शाका) बन जाता है। वह दारा (अमरीश पुरी) के साथ मिल जाता है जो कि एक आतंंकवादी है। राजा साहब अपनी पुत्री का विवाह सैन्य अधिकारी कैप्टन रणवीर (परमीत सेठी) से करना चाहते हैं लेकिन शाका आतंक फैला देता है। कैप्टन रणवीर शाका को मारने का प्रण कर लेता है। दारा के चार साथियों को सेना पकड़ लेती है। उन्हें छुड़ाने के लिये शाका वैष्णो देवी तीर्थयात्रा से लौट रही बस का अपहरण कर लेता है जिसमें राजा साहब की की बेटी व बहन भी शामिल है। इसी बीच आतंकवादियों के दल में शामिल शबनम (मधु) भी शाका से प्यार करने लगती है। वो राधिका को मारने की कोशिश करती है लेकिन शाका उसे बचा लेता है। इसी बीच राधिका शाका को आतंकवाद छोड़ने के लिये कहती है। शाका राधिका को दिये वचन के लिये उसके अलावा सभी को रिहा कर देता है। सेना शाका का पीछा करती है। राजा साहब भी शाका को मारने के षड्यन्त्र में शामिल हो जाता है। दारा के पाकिस्तानी आका उसके विरुद्ध धोखा करते हैं और जब वो सीमा पार करने जाता है तो जमीन में बारूद बिछा देते हैं। शाका उन सबको अपनी जान पर खेलकर बचा लेता है। कैप्टन रणवीर व राधिका सारी सच्चाई जान जाते हैं इसी के साथ फिल्म समाप्त होती है।

चरित्र[संपादित करें]

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

दल[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

रोचक तथ्य[संपादित करें]

परिणाम[संपादित करें]

बौक्स ऑफिस[संपादित करें]

फिल्म सुपरहिट रही थी।

समीक्षाएँ[संपादित करें]

नामांकन और पुरस्कार[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]