दाउदी बोहरा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

दाउदी बोहरा समुदाय इस्लाम की शिया इस्माइली शाखा के भीतर एक धार्मिक संप्रदाय है | उनकी सबसे बड़ी संख्या भारत, पाकिस्तान, यमन, पूर्वी अफ्रीका और खाड़ी राज्यों में रहती है|  इसके अलावा; मध्य पूर्व देशों, उत्तरी अमेरिका, दक्षिण पूर्व एशिया और ऑस्ट्रेलिया में भी महत्वपूर्ण संख्या में दाउदी बोहरा समुदाय उपस्थित है |

अधिकांश अनुमानों के अनुसार, इस समुदाय की आबादी दुनिया भर मे लगभग दस लाख है [1]

पारम्परिक वेशभूषा में एक दाउदी बोहरा परिवार

दाऊदी बोहरा शिया और सुन्नी दोनों होते हैं। दाऊदी बोहरा तक़रीबन ज़्यादातर तौर पर शियाओं से समानता रखते हैं।[2] बोहरा पूर्ण रूप से इस्लामिक कानून को मानते हैं।

सभी मुसलमानों की तरह, वे दिन में पांच बार नमाज़ पढ़ते हैं, रमजान के महीने में रोज़ा रखते हैं, हज और उमराह करते हैं और ज़कात देते हैं। दाउदी बोहरा समुदाय सदियों पुराने सिद्धांतों के एक समूह द्वारा एकजुट हैं: विश्वास के लिए एक अटूट प्रतिबद्धता; स्थानीय कानून का पालन करने वाले नागरिक होने और जिस देश में वे रहते हैं, उसके लिए एक वास्तविक प्रेम विकसित करना; समाज, शिक्षा, कड़ी मेहनत और समान अधिकारों के मूल्य में विश्वास; अन्य धार्मिक विश्वासों के साथ जुड़ाव; पर्यावरण और उसके प्रतिवेश सभी प्राणियों की देखभाल करने की जिम्मेदारी मे अपना जीवन बिताते हैं [3]

बोहरा शब्द, गुजराती शब्द वोहरू / व्यव्हार से आया है, जिसका अर्थ है "व्यापार", उनके पारंपरिक व्यवसायों और परंपराओं के अनुसार आज भी दाउदी बोहरा समुदाय मे ये व्यावसायिक प्रथा जारी है[4]

इतिहास[संपादित करें]

दाऊदी बोहरा समुदाय इस्लाम का एक उप-समूह है। उनका पता; दाऊदी, तैय्येबी, मुस्ताली, इस्माईली, शिया, मुसलमानों मे लगाया जाता है[5]

दाऊदी बोहरा समुदाय फातेमी खिलाफत के नाम पर अपनी विरासत का पता लगाते हैं, इस साम्राज्य का नाम फ़ातेमा; जो इस्लामी पैगंबर मोहम्मद की पुत्री थी, उनके नाम पर रखा गया है | फ़ातेमा की वंशावली मे जन्मे गए इमामो और मोहम्मद के कुलीन परिवार के प्रति संपूर्ण समर्पण, यह दाऊदी बोहरा विश्वास की एक महत्वपूर्ण कसौटी है

दाऊदी बोहरा समुदाय की विरासत फ़ातिमी इमामों से जुड़ी है, जिन्हें मुहम्मद (570-632) का वंशज माना जाता है।[6] यह समुदाय मुख्य रूप से इमामों के प्रति ही अपना अक़ीदा (श्रद्धा) रखता है।

दाऊदी बोहरा समुदाय और फातेमी राज-वंश[संपादित करें]

फातेमी राज-वंश ने पहले मदीना में निवास किया और बाद में १० वीं और ११वीं शताब्दी के दौरान इस्लामी क्षेत्र के बड़े हिस्सों पर शासन किया, जिसमें उत्तर अफ्रीका और मिस्र (today: Cairo) शामिल थे | उन्होंने मोहम्मद द्वारा स्थापित धार्मिक परंपराओं को बढ़ावा देने और मजबूत करने के उद्देश्य से शासन किया | फातेमी राज-वंश के इमामो ने अपनी राजनीतिक, आर्थिक, साहित्यिक, कलात्मक और वैज्ञानिक उपलब्धियों के मामले में इस्लामी इतिहास की एक अद्वितीय अवधि की एक अनोखी मिसाल कायम की | इस राज-वंश ने मिस्र मे अल-अज़हर विश्वविद्यालय की स्थापना की, जिसे दुनिया की सबसे पुरानी जीवित विश्वविद्यालयो में गिना जाता है, साथ ही मिस्र के क़ाहेरा शहर में कई स्थापत्य कला कृतियों की स्थापना की, जो आज तक उस युग की एक स्थायी विरासत बनी हुई है

२०वे इमाम, अल-आमिर बी-अहकामिल्लाह की शहादत से पहले, उन्होंने यमन में अपनी प्रतिभाशाली दूत, अरवा अस्सुलेही (यमन की महारानी) को दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) के कार्यालय की स्थापना के लिए निर्देशित किया जो तब से २१वें इमाम अट्टतैयब अबुलक़ासिम के एकांत के युग मे उनके उपाध्यक्ष के रूप में रहते हुए सदियों लग उनका महाकार्य चलाने की मजबूत योजना बनाएगी | महारानी अरवा द्वारा पहले दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सय्यदना ज़ोएब बिन मूसा को निर्देश दिया गया था कि वह इमाम के विशेष कार्य को जारी रखे, जिसे दावत-ए-हादिया, जिसका अर्थ है कि विश्वासियों को यथार्थ मार्गदर्शन प्रदान करना [7]


दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) के कार्यालय का उत्तराधिकार “नस” नामक एक प्रक्रिया द्वारा निर्धारित किया जाता है, जिसके तहत प्रत्येक दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - तिरोभूत इमाम द्वारा निर्देशित होते है और इस तरह वह अपने स्वयं के उत्तराधिकारी की नियुक्ति करते है

प्रत्येक दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) ने अपने जीवनकाल में एक उत्तराधिकारी को नियुक्त करते है, जो उस उच्चपद पर निहित सभी अधिकार और शक्ति के साथ तिरोभूत इमामों के नाम पर विशेष कार्य को आगे बढ़ाने के योग्य हो। दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) की श्रृंखला आज तक बिना किसी रुकावट के  ९०० साल से अधिक से जारी है [8]



आज ५३वें दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) के कार्यालय के वर्तमान पदाधिकारी  डॉ. सैयदना मुफद्दल सैफ़ुद्दीन हैं

विश्वास और आचरण[संपादित करें]

पैगंबर मोहम्मद, उनके परिवार और उनके उच्च-वंशजों को कुल भक्ति करना दाउदी बोहरा समुदाय के विश्वास की एक बानगी है, और इसे “वलायत” कहा जाता है | अन्य बुनियादी प्रथाओं में “तहारत” (शरीर और विचार में पवित्रता), “सलात” (दैनिक पाँच समय अनुष्ठान प्रार्थना), “ज़कात” (आय का एक भाग की पेशकश), “सौम” (उपवास, विशेष रूप से रमजान के महीने में), “हज” (मक्का और उसके आसपास अनुष्ठान तीर्थ) और “जिहाद” (अल्लाह की राह में अपनी खुद की आत्मा को अनुशासित करते रहना) मान्य है | अल्लाह और उसके चुने हुए लोगों की याद में दाऊदी बोहरा समुदाय जहां भी रहते हैं वहां नमाज़ के लिए और धार्मिक सभा “मज्लिस” के लिए मस्जिदें स्थापित करते हैं

रीति रिवाज़[संपादित करें]

करदन हसनः[संपादित करें]

इस्लाम और क़ुरान मजीद मे “रीबा” (सूदखोरी) और ब्याज पर कठोर प्रतिबंध लगाया गया है; इसी लिए दाउदी बोहरा समुदाय, इस्लाम और क़ुरान मजीद मे बताए गये “करदन हसनः” के पवित्र सिद्धांतो का पालन करता है | करदन हसनः (अच्छा ऋण, उधार) - शून्य ब्याज दर पर ऋण लेने या उधार देने की दिशा में एक धारणा है, जिसे आमतौर पर ब्याज मुक्त ऋण के रूप में भी जाना जाता है [9]

क़ुरान मजीद में करदन हसनः शब्द इस्लाम के लिए विशिष्ट एक अनोखी शब्दावली है, जिसका कुरान में छह बार उल्लेख किया गया है | दाउदी बोहरा ब्याज मुक्त लेन-देन के सिद्धांत का सख्ती से पालन करते हैं | जैसा कि यह पहल उधारकर्ता के उत्थान के आदर्श पर आधारित है, इस उपक्रम मॉडल ने समुदाय के भीतर आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है |

दाउदी बोहरा स्वैच्छिक रूप से एक संस्थागत स्तर से, व्यक्तिगत और नियमित रूप से इस कोष में योगदान करते हैं | इस प्रकार एकत्र किए गए धन का प्रबंधन इस उद्देश्य के लिए केंद्रीय सामाजिक प्रशासन द्वारा नियुक्त संबंधित समितियों द्वारा किया जाता है। इन कोष का उपयोग समुदाय के सदस्यों द्वारा घर खरीदने, उनकी शिक्षा और व्यवसायों को निधि देने के लिए किया जाता है |

मीसाक[संपादित करें]

बोहरा समुदाय में प्रवेश के लिए मार्ग का धार्मिक कृत्य “मीसाक” (निष्ठा की शपथ) का अनुष्ठान है | यह धार्मिक क्रिया आस्तिक और सर्वशक्तिमान प्रभु के बीच एक वाचा है, जो पृथ्वी पर उनके प्रतिनिधि के माध्यम से प्रभावित होता है | अल्लाह के प्रति मूल कर्तव्यों का पालन करने के अलावा, इसमें दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना के आध्यात्मिक मार्गदर्शन को पूरी ईमानदारी से और आरक्षण के बिना स्वीकार करने का संकल्प ही निष्ठा की शपथ मे शामिल है | समुदाय के विश्वास की तह में प्रवेश करने के लिए “मीसाक” क्रिया अनिवार्य है |

मीसाक की शपथ सबसे पहले उस उम्र में ली जाती है, जिस उम्र में बच्चे को परिपक्वता तक पहुँचा हुआ समझा जाता है: लड़कियों के लिए आमतौर पर तेरह साल, लड़कों के लिए चौदह या पंद्रह साल माना जाता है | प्रारंभिक यौवन के दौरान, एक बच्चे को उसके माता-पिता द्वारा स्थानीय आमिल साहेब (समुदाय के स्थानीय प्रमुख) के समक्ष एक साक्षात्कार अनुष्ठान पाठ के लिए लाया जाता है । आमिल साहेब बोहरा विश्वास के बारे में योग्य युवाओं से कई सवाल पूछते है, और पर्याप्त जवाब देने के बाद ही योग्य बच्चे को “मीसाक” के लिए स्वीकार किया जाता है |

इस्लाम का आखिरी और बारहवां महीना, ज़िल्हिज्जः के अठारहवें दिन, हर साल प्रत्येक परिपक्व बोहरा सदस्य, अपने “मीसाक” को एक साथ नवीनीकृत करवाते है | [10]

पंचांग (बोहरा कैलेंडर)[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय, फातेमी राज-वंश के युग से चली आ रही इस्लामी कैलेंडर का पालन करते हैं, जो चंद्र चक्र के साथ पूरी तरह से मेल खाता है और उसे अन्य कैलेंडर के विपरीत समय-समय पर किसी भी सुधार की आवश्यकता नहीं पढ़ती [11] | इस कैलेंडर में, चंद्र वर्ष में ३५४ दिन होते हैं | केवल एक लीप वर्ष को छोड़कर जब १२ वें और अंतिम महीने में ३० दिन होते हैं, बाकी सब विषम संख्या वाले महीनों में ३० दिन होते हैं और सम-विषम महीनों में २९ दिन होते हैं | इस पंचांग चक्र को मानने की प्रथा, अन्य मुस्लिम समुदायों के साथ विरोधाभास करता है, जो अन्य समुदायों का चाँद अर्धचंद्र की दृष्टि से विशिष्ट इस्लामी महीनों की शुरुआत का आधार है |

साल भर के महत्वपूर्ण कार्यक्रम[संपादित करें]

पवित्र इस्लामी ग्रंथ कुरान मजीद में कहा गया है कि कुरान रमज़ान के महीने में उतारा गया, जो इस्लामी कैलेंडर का ९ वां महीना है | इस महीने के दौरान, दाउदी बोहरा समुदाय एक अनिवार्य अभ्यास के रूप में सुबह से शाम तक “रोज़ा” (उपवास) करते हैं | बोहरा सदस्यों दैनिक प्रार्थनाओं के लिए इस शुभ महीने के दौरान अपनी मस्जिदों में एकत्र होते हैं, लेकिन विशेष रूप से शाम की प्रार्थना के दौरान, और दिन भर का उपवास एक साथ तोड़ते हैं, और इफ्तार (उपवास तोड़ना) एक साथ करते हैं |  यह बुलंद भक्ति गतिविधि का एक मौसम है, जो महान त्योहारों में से एक “ईद उल-फ़ित्र ” के पश्चात समाप्त होता है |

आखरी महीना, ज़िल्हिज्जः के महीने में, हज (तीर्थयात्रा होती है)| ज़िल्हिज्जः के १० वें दिन, एक और महान त्योहार ईद के रूप में मनाया जाता है | बोहरा (और शिया) परंपरा के अनुसार, ज़िल्हिज्जः के १८ वें दिन, मोहम्मद ने सार्वजनिक रूप से अपने दामाद अली इब्न अबीतालिब को अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था | यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटना है जिसमें दाऊदी बोहरा “रोज़ा” (उपवास) करते हैं और विशेष प्रार्थना करते हैं |

अन्य प्रमुख आयोजनों में विशेष प्रार्थनाएँ और समारोहों भी आयोजित की जाती हैं, जैसे कि जिस दिन मोहम्मद ने पहली बार अपना मिशन (महाकार्य) शुरू किया, मोहम्मद का जन्मदिन, समुदायों के संतों और सैनिकों की मृत्यु की कुछ वर्षगांठ, और वर्तमान दाई (सैयदना साहेब) का जन्मदिन, इत्यादि | सभी घटनाओं में, मोहम्मद और उनके परिवार की भक्ति और उनके नेक कार्यों को स्मरण रखना एक आवर्ती प्रसंग है |

मुहर्रम[संपादित करें]

अली इब्न अबी तालिब के बेटे और मोहम्मद के नवासे, इमाम हुसैन की शहादत की याद दाउदी बोहरा समुदाय की भक्ति की कई अभिव्यक्तियों में से एक महत्त्वपूर्ण अभिव्यंजना है।

शास्त्रों के अनुसार, मोहम्मद के नवासे, इमाम हुसैन, अपने परिवार और साथियों के साथ मदीना (सऊदी अरब) से कूफ़ा (वर्तमान में इराक) की यात्रा के दौरान करबला (वर्तमान में इराक) के गर्म चिलचिलाती रेगिस्तान के मैदानों पर तीन दिन पानी और भोजन के बिना रोक दिए गए और तीसरे दिन बहुत बेरहमी से क़त्ल कर दिए गए। कई मुसलमानों का मानना ​​है कि इमाम हुसैन की शहादत उनके नाना, मोहम्मद से पूर्वाभास था, और यह दुखद घटना इस्लाम के इतिहास के पाठ्यक्रम को बदलने के लिए निर्णायक था [12]

अशरः मुबारकः, या धन्य दस दिन के नाम से मशहूर इमाम हुसैन की शहादत की याद में दस सभाओं की एक श्रृंखला होती है, जो इस्लामिक नए साल की शुरुआत में इमाम हुसैन, उनके प्रिय परिवार और कर्बला में वफादार साथियों की पीड़ा को याद करने के लिए समर्पित होती हैं।

दाउदी बोहरा समुदाय का मानना ​​है कि इमाम हुसैन की शहादत मानवता के सार्वभौमिक मूल्यों, न्याय, सत्य और महान व्यक्तिगत बलिदान की कीमत पर अन्याय और अत्याचार के खिलाफ खड़ा रहना, इस महान विचार पर निर्धारित है | यह सभी के लिए बहादुरी, वफादारी और करुणा का पाठ प्रस्तुत करता है | इन मूल्यों को विश्वास,आत्म-बलिदान और पालन की भावना को प्रोत्साहित करने के लिए दोहराया जाता है |

मुसलमानों, विशेष रूप से दुनिया भर के शिया मुसलमान मुहर्रम के महीने के दौरान इमाम हुसैन की शहादत को इस विश्वास के साथ मानते है कि ऐसा करना आशीर्वाद का स्रोत है और आध्यात्मिक शुद्धि का साधन है |

अशरः मुबारकः विकास, शैक्षिक और भौतिक विश्वास की आध्यात्मिक यात्रा है। दुनिया भर के सभी दाऊदी बोहरा समुदाय, सुबह और शाम को मजलिसों या समारोहों की एक श्रृंखला की मेज़बानी करते हैं, जिसके दौरान इमाम हुसैन के बलिदान को याद करने वाले उपदेश दिए जाते हैं और प्रार्थना सेवाएं आयोजित की जाती हैं।

सय्यदना मुफद्दल सैफुद्दीन साहेब के नेतृत्व वाली मज्लिस कभी-कभी सैकड़ों हजारों अनुयायियों को आकर्षित करती है |

वर्ष २०२० में, कोरोनावायरस महामारी की वजह से सरकारी नियमों के अनुसार, दाउदी बोहरा समुदाय ने अपने-अपने घरों के अंदर रहकर अशरः मुबारकः का आयोजन किया | सय्यदना ताहेर सैफुद्दीन, सय्यदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन और सय्यदना मुफ़ददल सैफुद्दीन द्वारा पूर्ववर्ती वर्षों में दिए गए उपदेशों की ऑडियो और वीडियो रिकॉर्डिंग दुनिया भर में बोहरा समुदाय के घरों मे प्रसारित की गई | जबकि सामुदायिक रसोई के स्वयंसेवकों की  सहायता से “फैज़ुल मवाईदिल बुरहानियाः”, ने हर घर में पकाया हुआ भोजन वितरित किया; स्थानीय जमात के सदस्य, विशेष रूप से युवा, सुनिश्चित वरिष्ठ सदस्यों को सभी धर्मोपदेशों और प्रार्थनाओं में भाग लेने के लिए आवश्यक सुविधाओं को परिदत्त किया | [13]

सामाजिक कार्यालय और प्रशासन[संपादित करें]

दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहेब का कार्यालय, जिसे दावत-ए-हादिया के नाम से जाना जाता है, दाऊदी बोहरा समुदाय के बीच धर्मनिरपेक्ष और धार्मिक मामलों का मुख्य केंद्र है | [14]

वर्तमान कार्यालय बद्री महल (मुंबई, भारत) में है, जिसका प्रतिनिधित्व जमात समितियों द्वारा सभी शहरों में जहां दाउदी बोहरा सदस्यों की महत्वपूर्ण संख्या होती है वहा किया जाता है | [15] आमिल साहेब अपने संबंधित शहर में स्थानीय जमात समिति के आधिकारिक अध्यक्ष है | वह दाउत-ए-हादिया द्वारा, दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहेब की अनुमति के साथ नियुक्त किये जाते है | जमात समिति के तहत कई उप समितियां और ट्रस्ट भी होती हैं, जो दाउदी बोहरा प्रशासन के विभिन्न पहलुओं की देखभाल करते हैं |

दाउदी बोहरा समुदाय, इस्माइली और जाफ़री पंथ का हिस्सा हैं, और इस संबंध मे वे “अम्मान संदेश (२००४)” के हस्ताक्षरकर्ता भी हैं |

जनसांख्यिकी और संस्कृति[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय की दुनिया भर में संख्या दस लाख से कुछ अधिक अनुमानित है[16] | अधिकांश अनुयायी भारत में गुजरात राज्य, मुंबई शहर और पाकिस्तान के कराची शहर में रहते हैं |

यूरोप, उत्तरी अमेरिका, सुदूर पूर्व और पूर्वी अफ्रीका में भी बोहरा प्रवासी कई जनसंख्या में उपस्थित हैं [17]

भाषा - बोली[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय में जातीय संस्कृतियों का मिश्रण है, जिनमें यमनी, मिस्री, अफ्रीकी, पाकिस्तानी और भारतीय संस्कृति शामिल हैं [18]| स्थानीय भाषाओं के अलावा, दाऊदी बोहरा की अपनी भाषा है, जिसे “लिसानुद्दावत” कहा जाता है, जो फ़ारसी-अरबी लिपि में लिखा गया है और यह भाषा अरबी, फारसी, उर्दू और गुजराती का एक मिश्रण है [19]

पहनावा[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय की पोशाक का एक अलग ही रूप है | पारंपरिक रूप से पुरुष तीन सफेद टुकड़े वाले परिधान पहनते हैं, जिसमें एक अंगरखा होता है जिसे “कुर्ता” कहा जाता है, समान लंबाई का एक ओवरकोट जिसे “साया” कहा जाता है, और पैंट या पतलून जिसे “इज़ार” कहा जाता है |

पुरुष सफेद या स्वर्ण रंग की टोपी भी पहनते हैं, जिसमें स्वर्ण और सफेद रंग के धागे का प्रयोग किया जाता है | बोहरा समुदाय के पुरुष मे, पैग़म्बर मोहम्मद के अभ्यास का पालन करते हुए पूरी दाढ़ी बढ़ाने की उम्मीद की जाती है | [20]

इस समुदाय की महिलाएं एक दोहरी पोशाक पहनती हैं, जिसे “रिदा” कहा जाता है, जो हिजाब के अन्य रूपों से अलग है |  रिदा अपने चमकीले रंग, सजावटी प्रतिरूप और फीते से तैयार होता है | रिदा महिला के चेहरे को पूरा कवर नहीं करता है | काले रंग को छोड़कर रिदा किसी भी रंग का हो सकता है | इसमें एक छोटा सा पल्ला होता है जिसे परदी कहा जाता है जो आमतौर पर एक तरफ मुड़ा होता है ताकि महिला का चेहरा दिखाई दे सके लेकिन ज़रूरत के अनुसार इसे चेहरे पर पहना भी जा सकता है |

भोजन[संपादित करें]

सांप्रदायिक भोजन[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय में सांप्रदायिक भोजन की एक अनूठी प्रणाली है जिसमें एक “थाल” (एक बड़ी धातु प्लेट) के आसपास आठ या नौ लोग शामिल होते हैं | [21] यह सांप्रदायिक दावत के साथ-साथ एक परिवार के रूप में घर में खाने के लिए समान परंपरा और शैली है | भोजन के प्रत्येक कोर्स को थाल पर साझा करने के लिए परोसा जाता है [22]

भोजन की शुरुआत नमक की एक चुटकी स्वाद से होती है जो इस्लामी शास्त्रों के अनुसार कई बीमारियों की रोकथाम है [23]

समुदाय के सभी सदस्य आम तौर पर भोजन के सम्मान में भोजन के दौरान अपने सिर को ढंकते हैं | भोजन से पहले और बाद में हाथ धोने की परंपरा का भी पालन किया जाता है जहां मेजबान अपने मेहमानों के हाथों को स्वच्छ करने के लिए एक धातु “चिलमची लोटा” (जंगम बेसिन और जग) का उपयोग करता है | सामुदायिक दावतों में, बोहरा पहले मिठास (मीठा पकवान) खाते हैं, उसके बाद खारास (नमकीन पकवान) और फिर मुख्य भोजन करते हैं [24]

शुरुआत की तरह, सभी सदस्य अंत में भी नमक की एक चुटकी स्वाद पर भोजन को समाप्त करते हैं | बोहरा व्यंजन अपने अनोखे स्वाद और व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है जैसे बोहरा शैली बिर्यानी और दाल चावल पालिदु (चावल, दाल और करी से बनी विधि)

सामुदायिक रसोई - फैज़ुल मवाईदिल बुरहानियाः[संपादित करें]

वर्ष २०१२ में, ५२वे दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक), सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन, बोहरा परिवारों को प्रति दिन कम से कम एक भोजन साथ मे वितरित करने के लिए सभी शहरों मे सामुदायिक रसोई की स्थापना की | उनका मुख्य इरादा था की आंशिक रूप से यह सुनिश्चित हो जाए कि अब से कोई एक बोहरा सदस्य भी आर्थिक कमज़ोरी की वजह से अपने घर मे भूका ना सोए [25] [26] ऐसी सामुदायिक रसोई अब दुनिया भर में प्रत्येक बोहरा समुदाय के शहरों में सक्रिय है | उनका मुख्य उद्देश्य यही है की प्रत्येक बोहरा परिवार को कम से कम एक वक़्त का ताजा पका हुआ पौष्टिक भोजन प्रदान करना और विशेष रूप से महिलाओं के लिए - भोजन तैयार करने में हर दिन बिताया गया समय को कम करना है - इस प्रकार उन्हें अन्य उत्पादक गतिविधियों को आगे बढ़ाने के लिए मूल्यवान समय मिलता है।

इस योजना ने व्यापक अनेक संकट के समय (विशेषत: COVID-19 महामारी के दौरान) समुदाय के भीतर से खाद्य गरीबी को समाप्त कर दिया है, ऐसी सामुदायिक रसोईघरों ने व्यापक रूप से अन्य समाजों को भी महामारी के दौरान बड़े पैमाने पर भोजन और प्रावधान प्रदान किए हैं [27]

दाना समिति (भोजन की बर्बादी रोकें विषय)[संपादित करें]

अधिकांश बोहरा समुदायों में एक स्थापित दाना (अनाज) समिति है जो खाद्य अपव्यय को समाप्त करने का काम करती है | उनका काम यह सुनिश्चित करना है कि एक भी अनाज या प्रत्येक निवाला बेकार न जाए | दुनिया में ४० देशों में फैले ६००० से अधिक दाना समिति के बोहरा स्वयंसेवक हैं, जिनमें से कुछ विशेष मोबाइल ऐप और अन्य वेब और मोबाइल-आधारित प्लेटफ़ॉर्म संचालित करते हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सांप्रदायिक रात्रिभोज के दौरान अनावश्यक भोजन से कोई अपव्यय न हो। यह रात्रिभोज के लिए वास्तविक आवश्यकताओं के आकलन के संयोजन के माध्यम से किया जाता है, जितना संभव हो उतना सटीक रूप से अपनी थाली मे खाना परोसे ताकि बचा हुआ ताज़ा भोजन को जरूरतमंदों में वितरित किया जा सके [28]

बोहरा समुदाय शून्य-भूख एवं स्वस्थ आहार के लिए संयुक्त राष्ट्र की व्यापक रूप से घोषणा की गई वार्षिक विश्व खाद्य दिवस अभियान का समर्थन करते हैं। इसके अलावा, वर्ष भर में, और परियोजना उदय के हिस्से के रूप में “प्रोजेक्ट राइज़” नामक एक पहल के माध्यम से कम भाग्यशाली के जीवन को बेहतर बनाने के लिए वैश्विक दाउदी बोहरा समुदाय की एक पहल की स्थापना हुई है | बोहरा समुदाय भूख को कम करने के प्रति, माताओं और बच्चों के बीच स्वास्थ्य और पोषण का स्तर बढ़ाने की ओर, पर्यावरण और स्वच्छता की स्थिति में सुधार करने और भोजन की बर्बादी को कम करने में मदद करने के लिए दुनिया भर के सरकारी निकायों और स्थानीय संगठनों के साथ साझेदारी में काम कर रही है |

इस काम के एक उदाहरण के रूप में, सितंबर २०१९ में २७००० से अधिक बोहरा सदस्यों जो श्रीलंका में सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन के साथ मुहर्रम मनाने के लिए इकट्ठा हुए थे, सदस्यों ने बहुत आश्चर्यजनक रूप से शून्य खाद्य अपशिष्ट नीति का पालन किया। इस नीति को २०१८ मे इंदौर में आयोजित मुहर्रम स्मरणोत्सव के दौरान पहली बार अपनाया गया था जहा २ लाख से अधिक बोहरा समुदाय के सदस्य एकत्रित हुए थे

सामुदायिक केंद्र[संपादित करें]

मस्जिद[संपादित करें]

दाउदी बोहरा के लिए, “मस्जिद” को आस्था का एक प्राथमिक स्थान होने के अलावा एक आध्यात्मिक पोषण के महत्वपूर्ण केंद्रों में से माना जाता है जो समुदाय के सभी सदस्यों के सामाजिक-सांस्कृतिक विकास के लिए एक आश्रय प्रदान करता है | धार्मिक सभाओं के उद्देश्य की सेवा करने के साथ, मस्जिद नागरिक मामलों के केंद्र के रूप में एक महत्वपूर्ण भूमिका भी निभाती है | मस्जिद परिसर में आम तौर पर समुदाय के कई प्रशासनिक कार्यालय होते हैं, जिसमें औपचारिक समारोहों के लिए विशाल कक्ष भी होते हैं [29]

समकालीन दाऊदी बोहरा मस्जिद में एक परिदृश्य सौंदर्य शैली दिखती है जो वर्तमान के साथ अतीत को मिश्रित करती है। मिस्र के काहेरा शहर के फातेमी मस्जिदों में पाई जाने वाली वास्तुकला की विशेषताएं बोहरा समदाय की मस्जिदों की नई संरचनाओं के लिए ब्लू-प्रिंट के रूप में काम करती हैं और विश्व भर मे महान फातेमी वास्तुकला की गवाही देता है |

इन विशेषताओं का पुनरुत्पादन सैयदना ताहेर सैफुद्दीन और सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन के युग में दुनिया के विभिन्न हिस्सों में फातेमी वास्तुकला के लिए बोहरा मस्जिदों के निर्माण में तेजी से वृद्धि देखी गई। सैयदना मुफ़द्दल सैफुद्दीन के नेतृत्व में, समुदाय एक समृद्ध सामाजिक-सांस्कृतिक वातावरण सुनिश्चित करने के लिए निर्माण की समान भावना को बढ़ावा देता है जो सभी के लिए शांति और सद्भाव प्रदान करता है |


गुजरात के सूरत शहर में मस्जिद-ए-मोअज़्ज़म, समुदाय की सबसे बड़ी मस्जिद है | [30]

मर्कज़[संपादित करें]

दाऊदी बोहरा समुदाय मर्कज़ (केंद्र) में तब केंद्रित होते हैं जहाँ कोई मस्जिद नहीं है | इन सभी जगहों पर जमात समितियाँ (अंजुमन) - दुनिया भर में काम करती हैं जहाँ दाऊदी बोहरा समुदाय रहते है | बोहरा समुदायों की आबादी छोटे शहरों में एक सौ से लेकर प्रमुख शहरों में दसियों हज़ार तक है |

अमिल साहेब अपने संबंधित नियुक्त शहर में स्थानीय अंजुमन के आधिकारिक अध्यक्ष है | वह दावत-ए-हादिया द्वारा नियुक्त किए जाते है, जो दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहेब का मुख्य कार्यालय है | प्रत्येक जमात समिति के अंतर्गत विशेष रूप से १२ समितियां और अन्य समितियां और ट्रस्ट हैं जो दाउदी बोहरा समुदाय के प्रशासन के विभिन्न पहलुओं की देखभाल करते हैं |

प्रमुख रूप में, अमिल साहेब जमात के सामाजिक-धार्मिक मामलों का संचालन और प्रबंधन करते है। वे प्रार्थनाओं का नेतृत्व करते है और प्रवचन भी देते है |

दावत घर (जमात खाना / मवाईद )[संपादित करें]

भोजन कक्ष में सांप्रदायिक भोजन परोसा जाता है, जिसे “जमात खाना” या “मवाईद” कहा जाता है, जो आमतौर पर मस्जिद कॉम्प्लेक्स का हिस्सा होता है | यहाँ आम तौर पर समुदाय के लोग अवसरों के अनुसार दावत खाने के लिए इकट्ठा होते हैं। शादी की दावतें भी यहां आयोजित की जाती हैं |

शिक्षा[संपादित करें]

पैगम्बर मोहम्मद के अनुसार ज्ञान प्राप्त करना हर मुस्लिम पुरुष और महिला पर समान रूप से अनिवार्य है | बोहरा समाज मे को लेकर काफी एहमियत दी जाती है [31]

शिक्षण संस्थान[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय में, धार्मिक, लौकिक और धर्मनिरपेक्ष शिक्षा दोनों अत्यधिक मूल्यवान हैं | समुदाय में साक्षरता की दर बहुत अधिक है और लड़कों या लड़कियों के बीच सीखने के अवसरों में कोई असमानता नहीं है |  यह स्तर समुदाय के अपने स्कूलों, विशेष रूप से “मदरसा सैफिया बुरहानिया” में देखा जा सकता है, जो इन संस्थानों में लड़कियों और लड़कों के साथ विज्ञान, मानविकी, भाषा और धार्मिक विषयों का एक एकीकृत पाठ्यक्रम सिखाते हैं। १९८४  में, सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने नैरोबी (अफ्रीका) और मुंबई में “मदरसा सैफिया बुरहानिया (MSB)” शैक्षिक संस्थान की स्थापना की | वर्तमान में, दुनिया भर में इस स्कूल की २५ शाखाएँ हैं | यह उच्च दर्शन सूरत, मुंबई, कराची और नैरोबी में अपने चार परिसरों के साथ समुदाय के प्राथमिक शिक्षण संस्थान, “अल-जामेआ तुस-सैफियाः” में बखूबी देखा जा सकता है | इन सभी परिसरों में महिला छात्रों के लिए पुरुष का अनुपात उसके पाठ्यक्रम के पहले सात वर्षों के बराबर है |

महिलाओं की शिक्षा को इस समझ के साथ सक्रिय रूप से प्रोत्साहित किया जाता है कि एक शिक्षित लड़की, जो शायद माँ बनने के लिए आगे बढ़ेगी, ऐसे परिवारों की ओर जाती है जो शिक्षा को महत्व देते हैं और इस तरह एक शिक्षित समाज को जन्म देती है | वर्तमान में, पूरी दुनिया में बोहरा समुदाय के बच्चों को विश्वविद्यालयों और शैक्षिक संस्थानों मे शिक्षा के लिए पाए जाना आम बात है |

२०वीं सदी के दौरान, ५१वें और ५२वें दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहबों ने दुनिया भर में बोहरा समुदाय के गांवों, कस्बों और शहरों में कॉलेज, स्कूल और मदरसे स्थापित किए | बोहरा समुदाय की साक्षरता और शिक्षा पर ध्यान केंद्रित करने से समुदाय के सदस्यों का उच्चस्तरीय हुआ है - पुरुष और महिला दोनों - डिग्री हासिल करने और चिकित्सा, कानून, वास्तुकला, इंजीनियरिंग, शिक्षण, सूचान प्रौद्योगिकी (आई.टी.) और उद्योग जैसे क्षेत्रों में सफल करियर बनाये हुए है । बोहरा समुदाय के कई लोग विश्व मे सफल प्रमुख व्यवसाय चला रहे है |

अल-जामेआ तुस-सैफियाः[संपादित करें]

समुदाय का प्राथमिक शैक्षणिक संस्थान एक अरबी अकादमी है जिसे “अल-जामेआ तुस-सैफियाः” कहा जाता है | यहां, समुदाय के युवाओं को धार्मिक विद्या में तैयार किया जाता है और समुदाय का नेतृत्व करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है | यह अरबी भाषा, कुरान, विज्ञान और धार्मिक सिद्धांत में ११ साल तक छात्रों लड़कों और लड़कियों दोनों को प्रशिक्षित करता है | यह संस्थान राष्ट्रीय बोर्डों और कैम्ब्रिज इंटरनेशनल के माध्यम से छात्रों को माध्यमिक और कॉलेज स्तर की शिक्षा भी देता है | इस प्रकार छात्रों को डिग्री पाठ्यक्रमों में आगे बढ़ाने के लिए अपनी पसंदीदा और अध्ययन की रुचि अनुसार सुसज्जित किया जाता है | यह संस्था समुदाय की धार्मिक परंपराओं का पालन करती है और इस संस्थान को, दुनिया के सबसे पुराने अरबी पांडुलिपियों में से कुछ को आवास के लिए जाना जाता है। यह संस्थान कुरान परंपरा, अरबी सुलेख और इस्लामी परंपरा में ज्यामितीय डिजाइन की कलाओं में माहिर है |

इस संस्थान का पहला परिसर भारत में गुजरात के सूरत शहर में १९वीं शताब्दी में स्थापित किया गया था | १९वीं शताब्दी की शुरुआत में, ४३वे दाई मुत्लक़, सैयदना अब्देअली सैफुद्दीन, ने एक धार्मिक बोर्डिंग अकादमी, “दरसे सैफी” की स्थापना की |

यह अंततः ५१वे दाई मुत्लक़ द्वारा अंग्रेजी और विज्ञान पढ़ाने वाले आधुनिक विश्वविद्यालय में बदल दिया गया और इसके नाम का उन्नयन करते हुए “अल-जामेआ तुस-सैफियाः” रख दिया गया। एक दूसरा परिसर १९८३  में कराची की उत्तरी क्षेत्र में स्थित किया गया था | तीसरा कैंपस नैरोबी (केन्या) में २०११ में स्थापित किया गया था, और २०१३ में मरोल अंधेरी (मुंबई) में चौथा परिसर स्थापित किया गया |

दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहब ने कई अरबी साहित्यिक कृतियों के द्वारा इस सीख का अनुकरण किया है जो उन्होंने कविता और गद्य दोनों में लिखी हैं | इसके अलावा, कई कविताएँ हैं, जो उस भाषा में जीवन के इस्लामी मूल्यों को प्रदान करती हैं, जो भाषा अधिकांश समुदाय बोलते हैं जिसे “लिसानुद्दावत” के नाम से जाना जाता है।

५१ वें दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहब के ग्रंथों की एक बड़ी मात्रा, उदाहरण के लिए, संस्था के पुस्तकालय में रखी गई है। ये ५२ वें और ५३ वें दाई मुत्लक़ के कार्यों में भी शामिल की गई हैं | दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) - सैयदना साहब व्यक्तिगत रूप से संस्था की वार्षिक परीक्षाओं की अध्यक्षता करते है | वरिष्ठ छात्रों के लिए मौखिक परीक्षाएं विशिष्ट रूप से आयोजित की जाती हैं, प्रत्येक छात्र को समुदाय की सार्वजनिक सभाओं में सैयदना साहब की उपस्थिति में ४ मुख्याधिष्ठाता (ओमोराउल जामेआ) द्वारा पूछताछ की जाती है।

सामाजिक ज़िम्मेदारियाँ[संपादित करें]

दाउदी बोहरा समुदाय मुख्य रूप से व्यापारी हैं और अब एक ऐसे समुदाय के रूप मे विस्तारित हो गए हैं, जिसमें परोपकारी व्यवसाय व्यक्ति, उद्योगपति, उद्यमी और अत्यधिक कुशल पेशेवर शामिल हैं |

दाउदी बोहरा समुदाय के लिए विश्वास का एक महत्वपूर्ण लेख, अपने निवास के किसी एक देश के प्रति वफादारी का उच्च इस्लामी शिक्षण है | बोहरा समुदाय उन संस्कृतियों और समुदायों में भाग लेना चाहते हैं जहा वे रहते हैं, एकीकृत होने के लिए एक ही समय में अपनी स्वयं की पहचान को संरक्षित करते हैं |

दाउदी बोहरा मान्यताओं के अनुसार, सच्ची पूर्णता, समुदाय के सदस्यों को उन समाजों के लिए संसाधन और सक्रिय योगदान की आवश्यकता होती है, जिनमें वे रहते हैं और उन देशों के यथार्थ वफादार नागरिक बने जिन्हें वे “घर” कहते हैं |

पर्यावरण संरक्षण[संपादित करें]

बोहरा विश्वास प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा और बढ़ाने और सतत विकास की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाने पर बहुत महत्व देता है | नज़ाफ़त (स्वच्छता) इस्लामी आस्था का एक अभिन्न अंग है, और बोहरा समुदाय के सदस्यों से साफ-सफाई अभियान, पेड़ लगाने और अन्य हरी पहल को बढ़ावा देने और जहां भी वे रहते हैं, एक स्वच्छ जीवन वातावरण को बढ़ावा देने के लिए आग्रह किया जाता है; कचरे और प्रदूषण से बचने के लिए; प्रयोग की गयी वस्तु का पुन: प्रयोग करना; और जीवन के सभी रूपों का पोषण करना, उनकी सामाजिक जिम्मेदारी है |

बुरहानी फाउंडेशन[संपादित करें]

१९९२ में, स्वर्गीय सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने “बुरहानी फाउंडेशन” की स्थापना की, जो एक धर्मार्थ ट्रस्ट है, जो पर्यावरण के संरक्षण को हर बोहरा की जिम्मेदारी बनाने और पर्यावरणीय स्वास्थ्य और संबंधों के बीच जागरूकता फैलाने के लिए समर्पित है। बुरहानी फाउंडेशन पेड़ लगाने, जल प्रदूषण नियंत्रण, सतत विकास के लिए तकनीकों को बढ़ावा देने, सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाने और धन अनुसंधान के माध्यम से प्राकृतिक वातावरण को बढ़ाने का प्रयास करता है। २०१७  में सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन, ५३वें और वर्तमान दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) ने पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए २,००,००० पौधे लगाने के लिए दुनिया भर में एक भव्य कार्यक्रम की शुरुआत की।

टर्निंग ध टाइड (एक अभियान)[संपादित करें]

“पृथ्वी के चैंपियंस” - अफरोज शाह के साथ मिलकर, बोहरा समुदाय “टर्निंग ध टाइड” नामक अभियान के माध्यम से एकल-उपयोग प्लास्टिक को खत्म करने के लिए काम कर रहा है | भारत में महासागरों, नदियों और समुद्र तटों से प्लास्टिक को चुन चुन के निकालकर प्राकृतिक पर्यावरण की रक्षा के लिए लोगों को शिक्षित और प्रेरित कर रहा है | जहां वे रहते हैं, बोहरा समुदाय नियमित रूप से प्राकृतिक वातावरण की रक्षा, वृद्धि और सफाई के लिए व्यावहारिक प्रयासों का नेतृत्व करते हैं और जागरूकता बढ़ाते हैं।

प्रोजेक्ट राइज़  (सामाजिक उत्थान)[संपादित करें]

जून २०१८ में, दाउदी बोहरा समुदाय ने प्रोजेक्ट राइज़ का शुभारंभ किया, जो एक वैश्विक पहल है जो गरीबी में रहने वाले लोगों के जीवन को बेहतर बनाने में मदद करती है। सरकारी निकायों और दुनिया भर के स्थानीय संगठनों के साथ साझेदारी में, “प्रोजेक्ट राइज़” का उत्थान कार्यक्रम स्वास्थ्य, पोषण, स्वच्छता और पर्यावरणीय जिम्मेदारी और संरक्षण, और शिक्षा सहित कई नीतिगत क्षेत्रों में फैला हुआ है। “प्रोजेक्ट राइज़” इस्लाम और उपदेशात्मक परंपराओं की शिक्षा से अपनी प्रेरणा लेता है, जो मुसलमानों को दूसरों की भलाई के लिए काम करने का निर्देश देता है |

“फाइट हंगर फाउंडेशन” के साथ साझेदारी में मुंबई से “प्रोजेक्ट राइज़” लॉन्च किया गया | वैश्विक भूख के खिलाफ कार्रवाई का हिस्सा बनते हुए भारत के कुछ सबसे गरीब हिस्सों में भूख को कम करने में मदद करने के लिए; गंभीर रूप से कुपोषण से पीड़ित बच्चों और माताओं के स्वास्थ्य और पोषण के स्तर में वृद्धि; और रोग निवारण तकनीकों के साथ माताओं, देखभाल करने वालों और स्थानीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को सहायता प्रदान करते हैं |

प्रोजेक्ट राइज़, महाराष्ट्र के पालघर ज़िले के मोखदा और उपनगरीय गोवंडी इलाके में परिवारों के बीच पोषण का समर्थन करते हुए शुरू किया गया, लेकिन तब से पूरे भारत और बोहरा समुदाय में इस मुहीम का विस्तार हो गया है |

सितंबर २०१९ में, बोहरा स्वयंसेवकों ने केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र और गुजरात में विनाशकारी बाढ़ और भूस्खलन से उबरने में मदद की और प्रभावित परिवारों को भोजन और आवश्यक आपूर्ति प्रदान की।

अक्टूबर २०१९ में, उत्तरी अमेरिका में बोहरा स्वयंसेवकों ने संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य दिवस के रूप में चिह्नित किया, जिसमें स्थानीय खाद्य बैंकों को दान करने और समाज के कमजोर सदस्यों को खिलाने में मदद करने सहित परियोजना वृद्धि की पहल की गई।

प्रोजेक्ट राइज़ के मूल में कई मूल्य हैं - जिसमें गरीबी और भूख को मिटाना, स्वास्थ्य और शिक्षा में सुधार, महिलाओं को सशक्त बनाना, बर्बादी से बचना और प्राकृतिक पर्यावरण का संरक्षण करना शामिल है जो संयुक्त राष्ट्र के सतत विकास लक्ष्यों के स्थापित अभ्यास के अनुसार है | सदियों से, दुनिया भर के बोहरा समुदाय  इन सिद्धांतों के अनुसार अपने दैनिक जीवन जी रहे हैं, और नियमित रूप से समाज के सदस्यों की सहायता के लिए व्यावहारिक कार्रवाई कर रहे हैं |

इसके अलावा, हर साल, दाउदी बोहरा उत्थान अभियान के हिस्से के रूप में, दुनिया भर के बोहरा समुदायों के हजारों स्वयंसेवक समाज के कम भाग्यशाली सदस्यों के जीवन स्तर को बढ़ाने के उद्देश्य से कई पहल करते हैं जिन्हें आवास के संदर्भ में, भोजन, स्वास्थ्य और आध्यात्मिक कल्याण अतिरिक्त समर्थन की आवश्यकता होती है।

हैप्पी नेस्ट (बोहरा महिलाओं द्वारा एक पहल)[संपादित करें]

वर्ष २०२० मे, बोहरा समाज की महिलाओं ने हैप्पी नेस्ट नामक एक पहल शुरू की जिस्मे घर पर मौजूद सभी अप्रयुक्त प्लास्टिक को नया रूप देते हुए उसे पुनरावृत्ति किये जाने की शुरुआत की | इस पहल के माध्यम से घर मे प्लास्टिक की बोतल को फेंकने की बजाय उसे फूलदान, पेन स्टैंड, सजावट का साजो सामान मे लिया जाए ताके फेकने से पर्यावरण प्रदूषित न हो और घर को आकर्षित बनाने मे मदद मिले | यह पहल अब विश्व मे सभी बोहरा समुदाय के शहरों मे चर्चित और प्रयोज्य है |

भूख, पोषण, बेघरपन[संपादित करें]

बोहरा समुदाय ने इस दृष्टिकोण पर चल रहा है कि किसी को भी भूखे पेट नहीं सोना चाहिए, और यह विचारधारा पर अमल कर समाज के कम भाग्यशाली सदस्यों की मदद करना अपना कर्तव्य मानना ​​चाहिए | बोहरा समुदाय नियमित रूप से दुनिया भर के शहरों में बेघरों और भूखे लोगों को भोजन देने के लिए फूड ड्राइव का आयोजन करते हैं।

अक्टूबर २०१९ में, उत्तरी अमेरिका में बोहरा समुदाय ने संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य दिवस के रूप में चिह्नित किया, जिसमें स्थानीय खाद्य बैंकों को दान करने और समाज के कमजोर सदस्यों को खिलाने में मदद करने सहित परियोजना वृद्धि की पहल की गई।

मार्च और अप्रैल २०२० में, दुनिया भर के बोहरा समुदायों ने स्थानीय दान में महत्वपूर्ण मात्रा में भोजन दान किया जो आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को सबसे ज्यादा प्रभावित कर रहे थे विशेष तौर पर जो COVID -19 से प्रभावित थे।  भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने समुदाय के ५३वे दाई मुत्लक़ सय्यदना मुफद्दल सैफुद्दीन साहेब के बेटे शहज़ादा हुसैन बुरहानुद्दीन के साथ एक बैठक में महामारी के दौरान समुदाय द्वारा किए गए प्रयासों को स्वीकार किया और इसकी सराहना की ।

क्लस्टर विकास परियोजना (SBUT)[संपादित करें]

मुंबई के भेंडी बाज़ार इलाके मे सैफ़ी बुरहानी अपलिफ्टमेंट ट्रस्ट (SBUT) पर योजना २००९ में शुरू हुई और स्वर्गीय सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन द्वारा इस   अस्वस्थ इलाके को एक योजनाबद्ध, निवास करने योग्य, समृद्ध और स्थायी पड़ोस में बदलने की कल्पना की गई | इस इलाके की १६.५ एकड़ जमीन में लगभग २५० मौजूदा इमारतें, १२५० दुकानें और ३२०० परिवार हैं; जिनमें से सभी को १३ नए भवनों, चौड़ी सड़कों, आधुनिक बुनियादी ढांचे, अधिक खुले स्थानों और अत्यधिक दृश्यमान वाणिज्यिक क्षेत्रों के साथ एक अत्याधुनिक समग्र विकास में शामिल किया गया है। एक बार आवासीय और वाणिज्यिक परियोजना पूरी हो गई तो उसके बाद मालिकों और किरायेदारों को एक बार फिर उनके परिसर सौंप दिए जाएंगे |

वर्तमान में चरण-१ में “अल-सादह भवन” के पहले दो टावरों को पूरा कर लिया गया है और ६०० से अधिक निवासी और १२८ दुकान मालिक अपने परिसर में वापस आ गए हैं |

स्वास्थ्य[संपादित करें]

बोहरा समुदाय स्वास्थ्य सेवा और व्यक्तिगत स्वच्छता पर बहुत जोर देते हैं | दुनिया भर में, चिकित्सा व्यवसायों में काम करने वाले हजारों बोहरा पुरुष और महिलाएं हैं| बोहरा समुदाय, भारत और दुनिया भर में २५ बड़े अस्पतालों और क्लीनिकों को चलाता है |

सैफी अस्पताल[संपादित करें]

सैफी अस्पताल दाऊद बोहरा समुदाय की एक प्रमुख परियोजना है | यह १९४८ में भारत में सभी धर्मों और सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि के लोगों को सुरक्षित, नैतिक और सस्ती चिकित्सा सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से मुंबई  में स्थापित किया गया था। २००५ में, अस्पताल को मौजूदा साइट पर फिर से बनाया गया था। उस समय प्रधानमंत्री, मनमोहन सिंह, ५२वें दाई, सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन के साथ एक भव्य समारोह में शामिल हुए थे |

सैफी अस्पताल बेरियाट्रिक सर्जरी, कार्डियोलॉजी, क्रिटिकल केयर मेडिसिन, डेंटिस्ट्री, गायनोकोलॉजी, हिपेटोलॉजी, ऑन्कोलॉजी, न्यूरोलॉजी, नेफ्रोलॉजी, नेत्र विज्ञान, नियोनेटोलॉजी, हाई डोज़ रेडियोएक्टिव थेरेपी यूनिट और दबाव इंट्रा पेरिटोनियल एरोसोल कीमोथेरेपी (PAC) में माहिर है। अस्पताल में सर्जन को जटिल लेकिन न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी करने की सुविधा प्रदान करने के लिए एक अत्यधिक उन्नत रोबोटिक सर्जिकल सिस्टम की सुविधा है।

अस्पताल ने गुणवत्ता के मामले में कई पुरस्कार जीते हैं और अब स्थानीय और पर्यटक चिकित्सा हस्तक्षेपों के लिए देश में अत्यधिक मांग वाले अस्पताल में से एक है |

इसी नाम का एक नया बोहरा अस्पताल वर्तमान में भारत में गुजरात के दाहोद शहर में बनाया जा रहा है।

मान्यताएं[संपादित करें]

अमेरीका – २०११ : अपने अभियान "सेव अवर स्पैरो" (एस.ओ.एस) के तहत बुरहानी फाउंडेशन को बर्ड फीडरों के सबसे बड़े वितरण के लिए गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड्स का पुरस्कार मिला।

भारत – २०१८ : दाउदी बोहरा समुदाय को गोल्डन बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स द्वारा इंदौर में अशरः मुबारकः प्रवचन के दौरान सबसे बड़ा शून्य अपशिष्ट धार्मिक आयोजन करने के लिए एक पुरस्कार मिला।

भारत  - २०१८ : इंदौर के दाउदी बोहरा समुदाय को ९ मार्च २०१९ को स्वच्छ भारत अभियान के तहत "सर्वश्रेष्ठ नागरिक नेतृत्व की पहल" के लिए "स्वच्छ शहर पुरस्कार" मिला।

मस्जिदें[संपादित करें]

खाड़ी मुल्कों में पहली दाऊदी बोहरा मस्जिद दुबई (संयुक्त अरब अमीरात) में १९८३ में बनाई गई थी | जिसके बाद २००४ में एक और मस्जिद बनाई गई और बाद में शारजाह, अजमान और अबूधाबी जैसे शहरों में मस्जिदों का उद्घाटन किया गया।

पश्चिम में पहली दाऊदी बोहरा मस्जिद का निर्माण १९८८ में मिशिगन के फार्मिंगटन हिल्स में किया गया था | इसके तुरंत बाद, टोरंटो में पहली कनाडाई मस्जिद का उद्घाटन सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने किया। सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने १९९६ में अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में मस्जिद का उद्घाटन किया, जिसे एक बार फिर बड़ी मस्जिद में बनाया गया, जो मूल आकार से चार गुना है | इस नई मस्जिद का उद्घाटन अक्टूबर २०१५ में सैयदना मुफ़ददल सैफ़ुद्दीन द्वारा किया गया था |

यूरोप में पहली दाउदी बोहरा मस्जिद लंदन (इंग्लैंड) में १९९६ में बनाई गई थी, जिसके बाद ब्रैडफोर्ड, मैनचेस्टर, बर्मिंघम और लेस्टर जैसे शहरों में भी मस्जिद का निर्माण और उद्घाटन किया गया था।

१९९९ में, सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने कोलंबो (श्रीलंका) में मस्जिद हुसैनी का उद्घाटन किया।

जून २००१ में शिकागो में मस्जिद बद्री का उद्घाटन किया गया | जुलाई २००४ में न्यूजर्सी में मस्जिद ज़ैनी, वाशिंगटन डीसी और बोस्टन में नई मस्जिदों का उद्घाटन किया गया | अगले वर्ष, अगस्त २००५, दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) ने फ़्रेमोंट (कैलिफोर्निया) में एक और नई मस्जिद का उद्घाटन किया जिस्मे स्थानीय, राज्य और संघीय अमेरिकी सरकारों के विभिन्न अधिकारियों और गणमान्य लोगों द्वारा बधाई दी गई। राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने भी व्हाइट हाउस से एक पत्र भेजा था । ८ जुलाई २००७ को, सैयदना मोहम्मद बुरहानुद्दीन ने पेरिस (फ्रांस) में एक नई मस्जिद का उद्घाटन किया।

मार्च २०१५ में, सैयदना मुफद्दल सैफ़ुद्दीन ने लॉस एंजिल्स, सैन होसेय, बेकर्सफील्ड और ऑरेंज काउंटी में मस्जिद का उद्घाटन किया।

जुलाई २०१८ में, सैयदना मुफद्दल सैफ़ुद्दीन ने क्वालालुम्पुर (मलेशिया) में मस्जिद शुज़ाई का उद्घाटन किया |


मकबरों / शाही कब्रिस्तान[संपादित करें]

हर साल, हजारों दाउदी बोहरा, स्वर्गवासी दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) और विश्वास के अन्य पवित्र गणमान्य लोगों को सम्मान देने के लिए कई स्थानों पर जाते हैं, जिन्हें वहां आराम करने के लिए रखा गया है। इन स्थानों पर एक समुदाय प्रशासित परिसर (मज़ार) है जो आने वाले तीर्थयात्रियों को आवास, व्यापार केंद्र, भोजन और विभिन्न मनोरंजक गतिविधियाँ प्रदान करता है। इन परिसरों में रुचि के अद्भुत बिंदु यह है की श्रद्धालुओ को यहाँ आने पर सद्भाव और एकांत प्राप्त हो | मुख्य रूप से मध्य और पश्चिमी भारत के आसपास पाया जाने वाला ये परिसर, मकबरा बोहरा सदस्यों को मिलने और मिलाने के लिए एक सामान्य मैदान प्रदान करते हैं |

एक दाउदी बोहरा मकबरे की असाधारण विशेषताएं अपने बाहरी मुखौटा का आलीशान सफेद रंग है, जिसके साथ गुंबद के शीर्ष पर एक सुनहरा पंखुड़ी है | मकबरे का भीतरी भाग आमतौर पर उज्ज्वल रोशनी में जलाया जाता है, और इसकी दीवारों पर क़ुरान मजीद के छंद के उत्कृष्ट लेखन पाए जाते है |

सौंदर्य और निस्तब्धता दोनों को संवारते हुए, एक मकबरा भी निर्माण के रूप में कई अर्थों का प्रतीक है | मुंबई शहर में “रौदत ताहेरा” एक उदहारण के रूप में सामने आता है, जहाँ यद्यपि शुरुआत में एक सरल, सुरुचिपूर्ण संरचना दिखती है, लेकिन इसके निर्माण के सटीकता और लघुता में घंटे और महीनों की योजना और निष्पादन महसूस होता है | उदाहरण के लिए, मकबरे की आंतरिक ऊँचाई प्लिंथ से ८० फीट ऊपर है: यह संख्या वहा सोए हुए समाधि संत सैयदना ताहिर सैफुद्दीन की उम्र का द्योतक है | मकबरे का कालीन गर्भगृह ५१ X ५१ फुट का मापक है, जो ५१वें दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) के रूप में उनकी स्थिति का प्रतीक है।

इसके अतिरिक्त, दाउदी बोहरा समुदाय के सदस्य, भारत के बाहर विभिन्न मकबरों पर तीर्थयात्रा करते हैं, जिसमें इस्लामिक पैगंबर, उनके पवित्र परिवार के सदस्य, और यमन मे दाई मुत्लक़ (अप्रतिबंधित प्रचारक) के मकबरों भी शामिल हैं, जो कि लेवेंट के क्षेत्रों के आसपास और अर्थात् इराक, यमन, सीरिया, यरुशलम और काहेरा मे  हैं।

सामंजस्यपूर्ण संबंध[संपादित करें]

यह बोहरा समुदाय के लिए विश्वास का एक लेख है कि सार्वभौमिक सत्य और सच्चा ज्ञान सभी समाजों और धर्मों में पाया जाता है | सृष्टि में सभी एक ही उद्देश्य और एक ही वंश को साझा करते हैं | यह मोहम्मद की शिक्षा है कि सभी मानव जाति, वास्तव में अल्लाह का एकल परिवार है, और अल्लाह के लिए सबसे प्रिय वह है जो अल्लाह के परिवार को सबसे अधिक लाभान्वित करता है | इस प्रकार बोहरा समुदाय को अच्छे पड़ोसी और अच्छे नागरिक होने की आवश्यकता होती है, और उसके लिए सदैव प्रयास करते हैं जो सभी के लिए फायदेमंद हो ।

वी. के. सिंह (पूर्व मुख्याधिकारी, भारतीय सेना) ने २०१५ के यमनी गृहयुद्ध के दौरान नागरिकों को निकालने के लिए भारतीय नौसेना द्वारा किए गए ऑपरेशन राहत के सहयोग मे बोहरा समुदाय की भूमिका की प्रशंसा की थी |

समाज मे महिलाओं की स्थिति[संपादित करें]

अवलोकन[संपादित करें]

बोहरा समुदाय में महिलाओं की स्थिति २०वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में एक बड़े बदलाव से गुजरी | प्रसिद्ध लेखक जोनाह ब्लांक के अनुसार, भारतीय उपमहाद्वीप में सबसे अधिक शिक्षित महिलाओं में बोहरा समुदाय की महिलाएं हैं। अमेरिका और यूरोप में बोहरा महिला कई व्यवसायों के मालिक, वकील, डॉक्टर, शिक्षक और नेता बन गए हैं |

७ जून २०१९ को डेट्रायट, मिशिगन, संयुक्त राज्य अमेरिका के दाउदी बोहरा समुदाय द्वारा आयोजित ईदुल फ़ित्र के एक अंतरजातीय उत्सव में, अमेरिकी कांग्रेस के ब्रेंडा लॉरेंस (डेमोक्रेट, मिशिगन के १४ वें कांग्रेस के ज़िला) ने बोहरा की प्रशंसा यूँ की, “बोहरा महिलाओं ने अपनी आवाज़ का इस्तेमाल लैंगिक समानता और पर्यावरण सहित अनगिनत मुद्दों पर प्रगति के लिए किया”


सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Blank, Jonah (2001). Mullahs on the mainframe: Islam and modernity among the Daudi Bohras. Chicago: University of Chicago Press.
  2. "कितने पंथों में बंटा है मुस्लिम समाज?". मूल से 2 दिसंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 14 सितंबर 2018.
  3. Abdulhussein, Mustafa (2001). Al-Dai Al-Fatimi, Syedna Mohammed Burhanuddin: an illustrated biography. London: Al-Jamea-Tus-Saifiyah Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-9536256-0-4.
  4. Suk-Wai, Cheong (2015). Roots, culture and customs. The Straits Times.
  5. Abdulhussein, Mustafa (2001). Al-Dai Al-Fatimi, Syedna Mohammed Burhanuddin: an illustrated biography. London: Al-Jamea-Tus-Saifiyah Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-9536256-0-4.
  6. "कौन हैं वो मुसलमान जिनके दरबार में पहुँचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी". मूल से 18 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 16 सितंबर 2018.
  7. Daftary, Farhad (2013). Ismāʻı̄lı̄s: Their History and Doctrines. Google Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780521429740.
  8. Blank, Jonah (2001). Mullahs on the mainframe: Islam and modernity among the Daudi Bohras. Chicago: University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0226056767 . OCLC 923455839. |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).
  9. Abdulhussein, Mustafa (2001). Al-Dai Al-Fatimi, Syedna Mohammed Burhanuddin: an illustrated biography. London: Al-Jamea-Tus-Saifiyah Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-9536256-0-4.
  10. Blank, Jonah (2001). Mullahs on the mainframe: Islam and modernity among the Daudi Bohras. Chicago: University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0226056767. OCLC 923455839 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).
  11. Farhad, Daftary (1992). Ismāʻı̄lı̄s: Their History and Doctrines. Google: Google Books. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 9780521429740.
  12. Newman, Andrew (2020). Battle of Karbala. Encyclopedia: Encyclopedia Britannica.
  13. Saiyed, Kamal. ""Dawoodi Bohra head praises PM Modi in Muharaam speech". The New Indian Express. मूल से पुरालेखित 17 जून 2020. अभिगमन तिथि 17 June 2020.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  14. Sifra, Lentin (2021). The Bohra transcultural network. Gateway House.
  15. Abdulhussein, Mustafa (2001). Al-Dai Al-Fatimi, Syedna Mohammed Burhanuddin: an illustrated biography. London: Al-Jamea-Tus-Saifiyah Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-9536256-0-4.
  16. Amman: The Royal Islamic Strategic Studies Centre. https://themuslim500.com/wp-content/uploads/2020/10/TheMuslim500-2021_Edition-low_res_20201028.pdf. 2021. पृ॰ 172. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-9957-635-56-5.सीएस1 रखरखाव: स्थान (link)
  17. Beiträge zur (2021). Kölner Afrikawissenschaftlichen Nachwuchstagung. http://www.uni-koeln.de/phil-fak/afrikanistik/kant/data/PE1_kant1.pdf. |publisher= में बाहरी कड़ी (मदद)
  18. Adam, Michel (2009). L'Afrique indienne: les minorités d'origine indo-pakistanaise en Afrique orientale. Africa: Karthala Editions. पृ॰ 272. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-2-8111-0273-9.
  19. Sifra, Lentil (2021). he Bohra transcultural network". Gateway House.
  20. Blank, Jonah (2001). Mullahs on the mainframe: Islam and modernity among the Daudi Bohras. Chicago: University of Chicago Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0226056767. OCLC 923455839 |isbn= के मान की जाँच करें: invalid character (मदद).
  21. Priyadershini (2015). A slice of Gujarat. https://www.thehindu.com/features/metroplus/society/kochis-small-dawoodi-bohra-community-is-more-than-a-century-old/article7404283.ece.सीएस1 रखरखाव: स्थान (link)
  22. Somdatta, Saha (2020). Bohra Cuisine: A pinch of salt and desserts first. https://archive.ph/20210610170120/https:/food.ndtv.com/food-drinks/bohra-cuisine-a-meal-tradition-that-starts-with-a-pinch-of-salt-and-dessert-2264495. |publisher= में बाहरी कड़ी (मदद)
  23. Somdatta, Saha (2020). ""Bohra Cuisine: A pinch of salt and desserts first". NDTV.
  24. "A community affair! How the Dawoodi Bohras celebrate Eid". Economic Times. 2018. मूल से पुरालेखित 16 जून 2021. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2021.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  25. Bhattacharya, Sourish (30 March 2013). "Faith & food in the Bohra way". Mail Today. मूल से पुरालेखित 5 अप्रैल 2014. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2021.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  26. Parmar, Vijaysinh (15 February 2012). "Community kitchen' gives Bohra women freedom from cooking". The Times of India. मूल से पुरालेखित 5 अप्रैल 2014. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2021.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  27. Mrityunjay, Bose (27 June 2020). "Dawoodi Bohras join other volunteers to serve migrants food, water during their arduous journey back home". Deccan Herald, Mumbai. मूल से पुरालेखित 25 जून 2021. अभिगमन तिथि 05 Nov 2021. |access-date= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  28. Madsen, Kristina (5 June 2019). "Lower waste, slimmer waists (India)". Archive Today. मूल से पुरालेखित 16 जून 2021. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2021.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  29. Basrai, Zameer. "Evolution of the Bohra Masjid in Gujarat" (PDF). Journal of the Development and Research Organisation for Nature, Arts, and Heritage. मूल से पुरालेखित 7 जुलाई 2021. अभिगमन तिथि 5 नवंबर 2021.सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  30. "Surat - The City of Unique Attractions, Gujarat". Native Planet. 8 September 2014. मूल से पुरालेखित 13 जून 2021. अभिगमन तिथि 13 June 2021. |firstlast= missing |lastlast= in first (मदद)सीएस1 रखरखाव: BOT: original-url status unknown (link)
  31. Abdulhussein, Mustafa (2001). Al-Dai Al-Fatimi, Syedna Mohammed Burhanuddin: an illustrated biography. London: Al-Jamea-Tus-Saifiyah Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-9536256-0-4.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]