दर्शन लाल जैन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दर्शन लाल जैन (जन्म 12 दिसंबर 1927) एक भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता हैं[1], जिन्हें सामाजिक कार्यों में उनके योगदान के लिए 2019 में भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।[2][3] उन्हें युवा लड़कियों और आर्थिक रूप से परेशान बच्चों को शिक्षित करने के लिए जाना जाता है।[4][5]

वे सरस्वती विद्या मंदिर, जगाधरी (1954), डीएवी कॉलेज फॉर गर्ल्स, यमुनानगर, भारत विकास परिषद हरियाणा, विवेकानंद रॉक मेमोरियल सोसाइटी, वनवासी कल्याण आश्रम हरियाणा, हिंदू शिक्षा समिति हरियाणा, गीता निकेतन आवासीय विद्यालय, कुरुक्षेत्र, और नंद लाल गीता विद्या मंदिर, अंबाला (1997) सहित हरियाणा के विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों के संस्थापक हैं।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Sharma, Shiv Kumar (August 11, 2018). "Nonagenarian social crusader of Y'nagar". Tribune India. मूल से 22 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2019.
  2. "राज्यपाल का पद ठुकराया, 'भागीरथ' बन सरस्वती के लिए संघर्ष किया, अब मिलेगा पद्मश्री अवार्ड" (Hindi में). Amar Ujala. January 28, 2019. मूल से 21 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2019.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  3. "पद्मभूषण दर्शन लाल जैन को शिक्षा मंत्री रामबिलास ने किया सम्मानित" (Hindi में). Daily Bhaskar. January 29, 2019. मूल से 21 अप्रैल 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2019.सीएस1 रखरखाव: नामालूम भाषा (link)
  4. "Padma Awards 2019: Social, environmental and animal welfare crusaders who have been awarded for their efforts". Times Now. January 25, 2019. मूल से 30 मार्च 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2019.
  5. "List of Padma Awardees 2019" (PDF). Padmaawards.gov.in. Government of India. मूल से 26 जनवरी 2019 को पुरालेखित (PDF). अभिगमन तिथि 9 सितंबर 2019.