दन्त्य व्यंजन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दन्त्य ध्वनियाँ वो होती हैं जिनके उच्चारण में जीभ दांतों के पिछले भाग को छूती है। जैसे कि "त","थ", "द" , "ध" , " न"। याद रहे कि बिन्दु वाला "ऩ" जिसका ठीक उच्चारण बहुत कम लोग जानते हैं, वो भी इसी श्रेणी से संबद्ध है। "ऩ" की ध्वनि लगभग न होने के बराबर पाई जाती है लेकिन आम तौर पर इसका उच्चारण भारत के गायक अपनी गायकी में कर जाते हैं और उन्हें पता भी नहीं चलता। जब आप कभी राहत फ़तह अली खान का कोई गीत सुनेंगे तो ध्यान दीजिए कि वो "न" को बड़ी कोमलता से उच्चारित कर जाता है और उसकी ध्वनि कुछ "र्ँ" करके आती है। वही "ऩ" ठीक उच्चारण है। और ये लगभग दंतव्य ध्वनि है।