दक्षिणी कमान अलंकरण समारोह 2017

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
दक्षिण कमान का अलंकरण सामारोह
Felicitation Ceremony Southern Command Indian Army Bhopal (291).jpg
सम्मान प्राप्त सैन्यकर्मी एवं उनकी पत्निया
तिथि 14 सितम्बर 2017
समय ०९:०० बजे (भारतीय मानक समय)
स्थान सुदर्शन चक्र कोर,भोपाल

दक्षिण कमान का अलंकरण सामारोह ,भोपाल में 14 सितम्बर 2017 को आयोजित किया गया[1]। लेफ्टिनेंट जनरल पी एम हैरिज़,जनरल ऑफिसर कमांडिंग - इन - चीफ, दक्षिणी कमान (भारत) ने 63 अधिकारी, जूनियर कमीशन अधिकारी एवं अन्य पदों को वीरता और विशिष्ट सेवा पुरस्कारों से सम्मानित किया[2]। इन पुरस्कारों को वीरता अदम्य साहस और राष्ट्र के प्रति असाधरण कर्तव्यनिष्ठा प्रदर्शन करने के लिए दिया गया।

लेफ्टिनेंट जनरल पी एम हैरिज़,जनरल ऑफिसर कमांडिंग - इन - चीफ, दक्षिणी कमान

पुरस्कार संख्या[संपादित करें]

पुरस्कार विजेताओं में 6 युद्ध सेवा पदक, 24 सेना पदक (वीरता), 14 सेना पदक (उत्कृष्ट), 18 विशिष्ट सेवा पदक और 4 सेना पदक बार शामिल थे। इनमें तीन अधिकारीयों और चार अन्य पदों को मरणोपरांत पदक प्रदान किया गया। सेना कमांडर ने दक्षिणी कमान की 19 युनिटों को भी अपने प्रशंसनीय और उत्कृष्ट कार्य प्रदर्शन के लिए प्रशस्ति पत्र से सन्मानित किया। यह कार्यक्रम लेफ्टिनेंट जनरल घुमन की अगुवाई में सुदर्शन चक्र कॉर्प्स द्वारा आयोजित किया गया था। समारोह में कई विशिष्ट नागरिक गण, सैन्य अधिकारी गण और अन्य प्रतिष्ठित अतिथि गण उपस्थित रहे।

पुरस्कार प्राप्तकर्ता[संपादित करें]

अलंकरण समारोह मे शहीद सैनिको के परिवार भी शामिल थे। शहीद सिपाही रामा मुर्ति और हवलदार एलुमलाई एम ने सेना कीसर्वोच्च परम्परा को निभाते हुए अपने प्राण देश की सेवा मे न्योछावर कर दिये। इन्होंने असाध्य दुर्गम और उपशून्य तापमान में तैनातरहते हुए विशाल बर्फखण्ड के निचे 35 फीट बर्फ में दबे होने के बावजूद भी खोजी दस्तो का सफल मार्गदर्शन किया। उसी प्रकार ले. कर्नलरणजीत सिंह पवार और मेजर कृष्णन मनोज कुमार ने अपने प्राणों की बिल्कुल भी परवाह किये बिना आयुध भण्डार में फैलती औरदहकती हुई आग को काबू करने के प्रयास मे अपने प्राणों की आहूति दे दी। मेजर ताहीर हुसैन खान ने भी अपने प्राण देश की सेवा मेउस समय अर्पण कर दिये जब बिल्कुल विपरीत परीस्थितियों और खराब मौसम के बावजूद उन्होंने अपने हेलिकाप्टर से उडान भरी औरफौजी टुकड़ीयों को उनके निर्गत स्थानों पर पहुचायाँ।

इन के अलावा, अलंकरण समारोह में वे सैन्य अधिकारी भी शामिल थे, जिन्होंने अदम्य साहस, निर्णायक नेतृत्व, असाधारणकार्य कुशलता व व्यक्तिगत सुरक्षा की उपेक्षा करते हुए, आतंकवादीयों को मार गिराया एंव बहुमूल्य जन एंव जनसम्पति की रक्षा की। दक्षिणी कमान अलंकरण समारोह - 14 सितम्बर 2017 सम्मानित लोगों की सूची

क्रं सं रैंक नाम कोर / रेजिमेंट
युद्ध सेवा मेडल
1 लेफ्टिनेंट जनरल नागेश पी राव, सेना मेडल पैराशूट रेजिमेंट
2 ब्रिगेडियर हरजीत सिंह साहि, सेना मेडल राजपूताना राइफल्स
3 ब्रिगेडियर गोविंद कलवाड़ मराठ लाइट इन्फैंट्री
4 कर्नल अमिताभ वालावलकर पैराशूट रेजिमेंट
5 कर्नल गगनदीप सिंह द ब्रिगेड ऑफ गार्डस
6 कर्नल सुभंजन चटर्जी बिहार रेजिमेंट
सेना मेडल (वीरता)
7 लेफ्टिनेंट कर्नल रंजीत सिंह पवार (मरणोपरांत) आर्मी आर्डीनेन्स कोर
8 मेजर कृष्णनन मनोज कुमार (मरणोपरांत) आर्मी आर्डीनेन्स कोर
9 मेजर ताहेर हुसेन खान (मरणोपरांत) आर्मी ऐविएशन कोर
10 हवलदार एलुमलाई एम (मरणोपरांत) मद्रास रेजिमेंट
11 नायक विजया कुमार (मरणोपरांत) कोर ऑफ इंजीनियर्स
12 लांस नायक लांस नायक आश कुमार गुरुंग (मरणोपरांत) गोरखा राइफल्स
13 सिपाही रामा मूर्ति एन (मरणोपरांत) मद्रास रेजिमेंट
14 मेजर येंडे रघुवेन्द्र कुमार कोर ऑफ इंजीनियर्स
15 मेजर मनीत कुमार पन्त पैराशूट रेजिमेंट
16 मेजर चंदन सिंह ग्रेनेडियरस
17 मेजर अमित यादव जाट रेजिमेंट
18 मेजर अर्जुन गलोथ पैराशूट रेजिमेंट
19 मेजर अजय कुमार पंडिता इलेक्ट्रानिकस और मैकेनिकल इंजीनियर्स
20 मेजर मुनीश गुज्जर राजपूताना राइफल्स
21 मेजर रोहताश सिंह आर्मड कोर
22 मेजर गौरव ग्रेवाल इलेक्ट्रानिकस और मैकेनिकल इंजीनियर्स
23 मेजर अजय सिंह रौतेला गोरखा राइफल्स
24 मेजर विनीत फोगट द ब्रिगेड ऑफ गार्डस
25 मेजर संदीप सिंह पठानिया डोगरा रेजिमेंट
26 कैप्टेन राहुल सोलंकी, सेना मेडल कोर ऑफ सिग्नलस
27 सूबेदार छत्र बहादुर फकामी गोरखा राइफल्स
28 हवलदार जितेन्द्र कुमार पैराशूट रेजिमेंट
29 लांस हवलदार नारायन श्रेष्ठा गोरखा राइफल्स
30 नाइक हरमेश सिंह द ब्रिगेड ऑफ गार्डस
सेना मेडल (उत्कृष्ट)
31 लेफ्टिनेंट जनरल राकेश कुमार आनंद, विशिष्ट सेवा मेडल कोर ऑफ सिग्नलस
32 मेजर जनरल प्रवीन दीक्षित, विशिष्ट सेवा मेडल (सेवानिवृत्त) आर्मड कोर
33 मेजर जनरल इन्दुपुरू नारायना, विशिष्ट सेवा मेडल रेजिमेंट ऑफ आर्टीलरी
34 मेजर जनरल अनिल पुरी, विशिष्ट सेवा मेडल कोर ऑफ इंजीनियर्स
35 ब्रिगेडियर संजय कुमार विद्यार्थी कोर ऑफ इंजीनियर्स
36 कर्नल गिरिधर ढोंडीराम कोले गढ़वाल राइफल्स
37 कर्नल दलविंदर सिंह अटवाल कोर ऑफ इंजीनियर्स
38 कर्नल एस एस कामतनुरकर आसाम राइफल्स
39 कर्नल योगेश कुमार बिष्ट पंजाब रेजिमेंट
40 कर्नल सोनेंदर सिंह कोर ऑफ इंजीनियर्स
41 कर्नल रघुदीप मिन्हास कोर ऑफ इंजीनियर्स
42 कर्नल गौराव जैन रेजिमेंट ऑफ आर्टीलरी
43 कर्नल परमजीत सिंह चीमा, विशिष्ट सेवा मेडल बिहार रेजिमेंट
44 मेजर कुलदीप सिंह, विशिष्ट सेवा मेडल कोर ऑफ इंजीनियर्स
बार टू विशिष्ट सेवा मेडल
45 लेफ्टिनेंट जनरल तरनजीत सिंह, विशिष्ट सेवा मेडल आर्मड कोर
46 मेजर जनरल प्रवीन दीक्षित, विशिष्ट सेवा मेडल (सेवानिवृत्त) आर्मड कोर
47 मेजर जनरल राजीव एडवर्ड़स, विशिष्ट सेवा मेडल आर्मड कोर
48 मेजर जनरल दीपक कालरा, विशिष्ट सेवा मेडल आर्मी मेडिकल कोर
विशिष्ट सेवा मेडल
49 लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह सलारिया रेजिमेंट ऑफ आर्टीलरी
50 लेफ्टिनेंट जनरल तरनजीत सिंह आर्मड कोर
51 लेफ्टिनेंट जनरल सतीश प्रभाकर नवाथे (सेवानिवृत्त) कोर ऑफ इंजीनियर्स
52 लेफ्टिनेंट जनरल राजन रवींद्रन ग्रेनेडियरस
53 लेफ्टिनेंट जनरल पी एस राजेश्वर रेजिमेंट ऑफ आर्टीलरी
54 मेजर जनरल सुरेन्दर कुमार पराशर द ब्रिगेड ऑफ गार्डस
55 मेजर जनरल अरुण कुमार सप्रा कोर ऑफ इंजीनियर्स
56 मेजर जनरल कृष्णा ईसवरन (सेवानिवृत्त) इलेक्ट्रानिकस और मैकेनिकल इंजीनियर्स
57 मेजर जनरल परमजीत सिंह इलेक्ट्रानिकस और मैकेनिकल इंजीनियर्स
58 मेजर जनरल राज विजयेन्द्र सिंह आर्मी सर्विस कोर
59 मेजर जनरल राजीव एडवर्ड़स आर्मड कोर
60 ब्रिगेडियर आलोक चंद्र महार रेजिमेंट
61 ब्रिगेडियर ओम प्रकाश वैष्णव आर्मी एयर डिफेंस
62 कर्नल अजय शर्मा सिख रेजिमेंट
63 कर्नल शुबीर सोंधी गढ़वाल राइफल्स
64 कर्नल बलजिंदर सिंह उप्पल गोरखा राइफल्स
65 कर्नल प्रशांत नायर, सेना मेडल मद्रास रेजिमेंट
66 कर्नल पंकज कौशल आर्मी ऐविएशन कोर

सम्बोधन[संपादित करें]

जनरल ऑफिसर कमांडिंग - इन - चीफ, दक्षिणी कमान लेफ्टिनेंट जनरल पी एम हैरिज़ ने समारोह को संबोधीत करते हए सभी पदक प्राप्तकर्ताओ और युनिट साइटेशन के पुरस्कार विजेताओं को बधाई दी। उन्होंने दक्षिण कमान के सभी अधिकारियो और सैनिको को पुरस्कार विजेताओं का अनुकरण करने के लिए और भारतीय सेना को राष्ट्र के लिए सर्वोत्तम योगदान देने के लिए प्रोत्साहित किया[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://indiatoday.intoday.in/story/investiture-ceremony-of-armys-southern-command-on-sept-14/1/1040742.html
  2. http://www.dailypioneer.com/state-editions/bhopal/southern-command-investiture-ceremony-conducted.html
  3. http://idrw.org/doklam-effect-indian-army-cannot-afford-to-lower-guard-says-command-lt-general-pm-hariz/