दंतोद्गम विश्लेषण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

दंतोद्गम विश्लेषण (Dentition analyses), दांत और जबड़े के मापन की प्रणाली है जिसका उपयोग विकलदन्तविज्ञान (orthodontics =orthodontology) में किया जाता है, जैसे चाप स्थान (आर्क स्पेस) को समझने तथा ताँदों और उनके कार्यस्थान (bite) के सही स्थान पर न होने का पूर्वानुमान करने के लिये।[1]

दंतोद्गम विश्लेषण के उदाहरण दिये जाते हैं-।

स्थायी दंतोद्गम (वयस्क दांत) विश्लेषण[संपादित करें]

  • ऊपरी दांत
  1. पोंट्स विश्लेषण
  2. लिंडर हार्ट इंडेक्स
  3. कोरखौस विश्लेषण
  4. आर्क परिधि विश्लेषण
  • निचले दांत
  1. एशले होवेस विश्लेषण
  2. कार्येस विश्लेषण
  • ऊपरी और निचले दांत
  1. बोल्टन विश्लेषण

मिश्रित दंतोद्गम विश्लेषण[संपादित करें]

  • मोयेर्स मिश्रित दंतोद्गम विश्लेषण
  • तनाका और जॉनसन विश्लेषण
  • रेडियोग्राफिक विश्लेषण
  • बेलार्ड और विली विश्लेषण
  • स्टले केर्बर विश्लेषण

चिकित्सकीय आर्क विश्लेषण[संपादित करें]

  • इनटरमोलर चौड़ाई
  • आर्क लंबाई
  • आर्क परिधि

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Ngan, P. "Management of space problems in the primary and mixed dentitions". Journal of American Dental Association. |access-date= दिए जाने पर |url= भी दिया जाना चाहिए (मदद)