थर्मोप्लास्टिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

थर्मोप्लास्टिक (thermoplastic) ऐसा प्लास्टिक पॉलिमर होता है जो तापमान बढ़ने पर अधिक कोमल और गिरने पर अधिक ठोस होता जाए। अधिकांश थर्मोप्लास्टिकों का अणु भार ऊँचा होता है और उनके पॉलिमर अणुओं में आपसी अंतराअणुक बल द्वारा जुड़ने वाली शृंख्लाओं से बनते हैं और तापमान बढ़ने से कमज़ोर होता जाता है जिस से प्लास्टिक की कोमलता बढ़ती है। इस कारणवश थर्मोप्लास्टिकों को गरम कर के उन्हें श्यान (गूढ़े या विस्कस) द्रवों में परिवर्तित करा जा सकता है, जिसे फिर कई आकारों में ढाला जा सकता है और उसके रेशे भी खींचे जा सकते हैं। नायलॉन एक बहुत ही महत्वपूर्ण थर्मोप्लास्टिक का उदाहरण है।[1][2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. http://www.lgschemistry.org.uk/PDF/Thermosoftening_and_thermosetting_plastics.pdf
  2. Baeurle SA, Hotta A, Gusev AA (2006). "On the glassy state of multiphase and pure polymer materials". Polymer. 47: 6243–6253. डीओआइ:10.1016/j.polymer.2006.05.076.