थकान (चिकित्सा)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
थकान
Sleeping students.jpg
ICD-10 R53.
ICD-9 780.7
DiseasesDB 30079
MedlinePlus 003088
MeSH D005221

थकान या श्रांति (fatigue/फैटिग) एक एसी स्थिति है जो एक विशिष्ट श्रेणी में जागरूकता की वेदनाओं का वर्णन करता है, आमतौर पर ये शारीरिक और/या मानसिक कमजोरी से जोड़ा जाता है, हालांकि ये एक सामान्य सुस्ती से लेकर विशिष्ट काम करने की वजह से कुछ खास मास पेसियो में जलन का आभास होना . शारीरिक थकान एक एसी सिस्थी है जब कोई व्यक्ति अपने सामान्य क्षमता से कार्य ना कर पाए[1][2][3] यह हर रोज़ की जिंदगी में विभु है मगर आमतोर पे इसका अभ्यास विशेष रूप से भारी कार्य के दौरान होता है। दूसरी ओर, मानसिक थकान, स्पष्ट रूप से निद्रालुता आवस्ता में पता चलता है।

थकान एक चिकित्सा इशारा की जगह एक लक्षण मन जाता है कियुकी ये मरीज़ के द्वारा धयान दिया जाता है ना की दोसरो के द्वारा . थकान और थकान की अनुभूति जयादा तर एक दुसरे से अस्पष्ट होते है।[4]

प्रकार[संपादित करें]

शारीरिक थकान[संपादित करें]

मांसपेशियों में शारीरिक थकना कमजोरी ("या ताकत में कमी ") एक सीदा शब्द है जो मांसपेशियों ताकत लगाने में असमर्थता को दर्शाता है जिसका एक सदारण व्यक्ति से स्वस्त आवस्था में लगाने की उमेद की जाती है।

रोग की पहचान के दोरान मास्पेसियो में विकार पता करने के लिए हेतुविज्ञान से पहेल ताकत का परीक्षण किया जाता है। ऐसे एटियलजि मास्पेसियो में कमजोरी पर निर्बर करता है है, जो सच भी हो सकता है या संवेदना साथ ही साथ केंद्रीय या परिधीय . वास्तविक कमजोरी शारीरिक है, जिसकी संवेदना होती है की वाही काम करने में जयादा मेहनत लगी है। दूसरी ओर, केंद्रीय मांसपेशी कमजोरी पूरे शरीर की समग्र थकावट है, जबकि परिधीय कमजोरी व्यक्ति की किसी एक मांसपेशियों के थकावट है।

मानसिक थकान[संपादित करें]

इन्हें भी देखें: Somnolence

शारीरिक के साथ मानसिक भी एक थकान का रूप है, जिसमे जरूरी नहीं कि कोई मांसपेशी थकान शामिल हो. एसे मानसिक थकान, में प्रत्यक्ष रूप से सुस्ती (नींद में कमी या सामान्य धयान में कमी दिखती है, जरुरी नहीं है की बस नींद ना आये . इसे हम कम या जायद चेतना के स्थर में कमी कह सकते है।[5] किसी भी मामले में, यह खतरनाक हो सकता है जब कोई एसा काम करना होता है जिसमे लगातार सांद्रता की जरुरत होती है, जेसे गाड़ी चलाना . उदाहरण के लिए, एक व्यक्ति जो पर्याप्त निद्राजनक हो वो लघु निद्रा महसूस करेगा. हालांकि, संज्ञानात्मक परीक्षण का उद्देश्‍य नुरोकांजेतिवे मानसिक रोग की कमी को रोप्य थकान से अलग कर सके .

विभेदक निदान[संपादित करें]

जयादा तर लोग जिनको थकान होती है एक साल के बाद भी एसके कारण का पता नहीं कर पाए . जिन लोगो को इसका संभव निदान हूआ उनमे ९.४% मुस्कुलोस्केलेतल और १६.५ % स्य्चोलोगिकल समस्या वाले लोग आम थे। निश्चित भौतिक स्थितियों 8.२% में ही पाया गया .[6]

छोटे काले घेरे, के साथ ही साथ नेत्र बैग लघु नींद हानि का विचारोत्तेजक संकेत है

थकान लाक्षणिक रूप से काम, मानसिक तनाव, जेट अंतराल, अवसादक, उचाट, रोग और निद्रा में कमी का फल है। यह विटामिन की कमी हो सकता है या खनिज या आईएनजी ज़हर, रासायनिक कारणों, की कमी से भी हो सकता है। भारी रक्त की हानि के कारण थकान होता है। थकान उनींदापन से अलग है जहा मरीज को लगता है की निद्रा जरुरी है। थकान शारीरिक परिश्रम या तनाव के लिए एक सामान्य प्रतिक्रिया है, लेकिन यह भी एक शारीरिक विकार का संकेत हो सकता है।

एसा माना जाता है की थकान का आरंभ निचला दिमाग के जालीदार सक्रिय प्रणाली में हुआ था और हो सकता है पेशीकंकालीय संरचना भी ब्रियन संरचना के साथ ही विकसित हुआ ताकि सुम्पूर्ण इकाई साथ में रचनात्मक एवं अनुकूलक काम करे . सम्पूर्ण मांसपेशियों, जोड़ों की पूरी प्रणाली और प्रोप्रायोसेप्शन और किनेस्ठेटिक कार्यों और कुछ दिमाग के भाग एक साथ विकसित हुए और और एक साथ काम करते है।[7]

अस्थायी थकान को एक छोटी बीमारी भी समजा जा सकता है जेसे की सामान्य सर्दी जो की एक बीमारी का लक्चन है जो तब होता है जब प्रतिरक्षा प्रणाली संक्रमण से लडती है। दूसरी ओर, क्रोनिक थकान, छह महीने या अधिक की अवधि का अर्थ है, विभिन्न रोगों या स्थितियों की एक बड़ी संख्या का एक लक्षण है। बीमारियों कि श्रेणियों जिस में थकान शामिल है :

  • स्वरोगक्षमता रोग जेसे की उदरीय रोग, एकाधिक काठिन्य और स्पोन्द्य्लोअर्थ्रोपथ्य
  • खून रोग जेसे की एनीमिया और हेमोच्रोमातोसिस
  • कैंसर
  • थकावट के पुराने लक्षण (सीएफएस)
  • अवसाद और अन्य मानसिक विकारों जो की हताश मनोदशा को दर्शाते है।
  • भोजन विकारों, जो अपर्याप्त पोषण के कारण थकान का उत्पादन कर सकते हैं
  • अन्तः स्रावी बीमारी जेसे की हाइपोथायरायडिज्म और एन्दोक्रिने मधुमेह
  • फिब्रोम्यल्गिया
  • हृदय रोग
  • संक्रामक बीमारी जेसे की और इन्फ्लूएंजाऔर संक्रामक मोनोनुक्लेओसिस
  • लेकिमिया या लिंफोमा
  • स्नायविक विकार जेसे पार्किंसंस रोग और बाद संघट्टन
  • शारीरिक आघात और अन्य दर्द जेसे की गठिया
  • नीद में कमी आना
  • उरेमिया
  • यकृत असफलता

औषधियां[संपादित करें]

  • कुछ औषधि, जैसे लिथियम नमक, सिप्रोफ्लोक्सासिं
  • बीटा ब्लॉकर औषधि थकान का कारण है, विशेष रूप से परिश्रम के बाद जो असहिष्णुता उत्प्रेरण व्यायाम को प्रवृत्त करता है।
  • कई कैंसर उपचार के थकान का कारण है, कास तोर पे रसायन चिकित्सा और रेडियोथेरेपी

निदान दृष्टिकोण[संपादित करें]

ये निश्चित करने के बाद की थकान की चिकित्सा के लिए डॉक्टर से मार्ग दर्शन लेगे, चिकित्सक सबसे पहेले वयेकती के पुराने मेडिकल रिकॉर्ड देख कर थकान का मूल्यांकन करता है। जब सोने का मूल्यांकन होता है तब ये प्रश्न पूछे जाते है जेसे की नींद की गुणवत्ता, भावनात्मक और तनाव का स्तर. प्रश्न जेसे की व्यक्ति के आहार, व्यायाम के स्तर और लक्षण जो कि वे आबास करते है पूछा जाता है। एक व्यक्ति की नींद की गुणवत्ता महत्वपूर्ण है। कुछ स्थिति जेसे की अगर वहाँ थकान की एक पद्धति दिन के एक ही समय के अनुरूप है या यह उत्तरोत्तर दिन भर में बिगड़ रहे हैं गोओर से देखा जाता है। यह महत्वपूर्ण है कि नींद और थकान के विशिष्ट क्षेत्रों में मरीज पहले से ध्यान रखे ताकि जब वो चिकित्सा के लिये जाये तो कुछ जबाब उनके पास हो. सोने की आवधि, दिन में किंटने घंटे सोने के लिए सेट कर रखे हैं, रात को व्यक्ति सोते समय किंतनी बार जगता है बहुत महत्वपूर्ण है। अन्य परीक्षण जो की चिकित्सक द्वारा किया जा सकता है रक्त जाँच संक्रमण को जंचना के लिए एनीमिया या उरिनाल्य्सिस मधुमेह और लीवर की जाँच के लिए, परीक्षणों{/० जिन से {3}थाइरोइड के क्रिया को मॉनिटर करते है। एक सामान्य परीक्षा है कि सात आम पदार्थों के स्तर पर नज़र रखता है जो रक्त में पाया जाता है। एसमे चार इलेक्ट्रोलाइट्स होते हैं : सोडियम, पोटेशियम, क्लोराइड और बिकारबोनिट, एनके साथ दो अपशिष्ट उत्पादों भी पाए जाते है जो है BUN) और क्रेअतिनिने और अंत में ग्लूकोज शरीर की कोशिकाओं के ऊर्जा का मुख्या स्रोत है। कुछ विशेष परीक्षण किये जाते है एचआईवी के लिए और गर्भावस्था वाली महिला रोगियों को गर्भावस्था परीक्षण करना अनिवार्य है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

अन्य थकान से संबंधित लेख
  • थकान (सुरक्षा)
  • वंचित ड्राइविंग नींद
  • लड़ाकू तनाव प्रतिक्रिया (युद्ध थकान)
अन्य चिकित्सा लक्षण और शर्तों
  • अस्वस्थता
  • शक्तिहीनता
  • केवल पेशियों का पक्षाघात
  • दुर्बलता
  • मांसपेशी थकान
  • नेत्र हलकों

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. Gandevia SC (1992). "Some central and peripheral factors affecting human motoneuronal output in neuromuscular fatigue". Sports medicine (Auckland, N.Z.). 13 (2): 93–8. PMID 1561512. डीओआइ:10.2165/00007256-199213020-00004.
  2. Hagberg M (1981). "Muscular endurance and surface electromyogram in isometric and dynamic exercise". Journal of applied physiology: respiratory, environmental and exercise physiology. 51 (1): 1–7. PMID 7263402.
  3. Hawley JA, Reilly T (1997). "Fatigue revisited". Journal of sports sciences. 15 (3): 245–6. PMID 9232549. डीओआइ:10.1080/026404197367245.
  4. Berrios GE (1990). "Feelings of fatigue and psychopathology: a conceptual history". Compr Psychiatry. 31 (2): 140–51. PMID 2178863. डीओआइ:10.1016/0010-440X(90)90018-N.
  5. [14] ^ AJ गिंनिनी थकान, लगातार. आरबी टेलर में मुश्किल निदान - २ . फिलाडेल्फिया, पश्चिम बंगाल सौन्देर्स कं १९९२, स्नातकोत्तर १५६ . ISBN 0-7817-6860-8.
  6. Nijrolder I, van der Windt D, de Vries H, van der Horst H (2009). "Diagnoses during follow-up of patients presenting with fatigue in primary care". CMAJ. 181 (10): 683–7. PMC 2774363. PMID 19858240. डीओआइ:10.1503/cmaj.090647. नामालूम प्राचल |month= की उपेक्षा की गयी (मदद)
  7. Kelso, J. A. Scott (1995). Dynamic patterns: the self-organization of brain and behavior. Cambridge, Mass: MIT Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-262-61131-7.

सदर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]