त्वरक-चालित उपक्रांतिक रिएक्टर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

त्वरक-चालित उपक्रांतिक रिएक्टर (accelerator-driven subcritical reactor) नाभिकीय भट्ठियों को कहते हैं जिनमें उपयोग आने वाले कुल न्यूट्रानों की एक अच्छी-खासी मात्रा (लगभग ५%) किसी उच्च ऊर्जा वाले प्रोटॉन त्वरक से आती है। ऐसे रिएक्टर, थोरियम को नाभिकीय ईंधन के रूप में प्रयोग करेंगे जो यूरेनियम और प्लूटोनियम की अपेक्षा अधिक मात्रा में उपलब्ध है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]