त्रिभुज के अन्तर्वृत्त और बहिर्वृत्त

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
किसी त्रिभुज (काले रंग में) का अंतर्वृत्त (नीला) , अन्तःकेन्द्र (I), बहिर्वृत्त (नारंगी), बहिर्केन्द्र (JA,JB,JC), अन्तःकोणों के समद्विभाजक (लाल) तथा बहिर्कोणों के समद्विभाजक (हरे)
S = ra/2 + rb/2 + rc/2 = rp.

ज्यामिति में, किसी त्रिभुज का अन्तर्वृत्त (या, अन्तःवृत्त / incircle) वह बड़ा से बड़ा वृत्त है जो उस त्रिभुज के अन्दर बनाया जा सकता है। वस्तुतः, अन्तःवृत्त तीनों भुजाओं को स्पर्श करता है। इसका केन्द्र 'अन्तःकेन्द्र' (incenter) कहलाता है। [1]

किसी त्रिभुज के तीन बहिर्वृत्त (excircle या escribed circle) होते हैं।[2] ये तीनों वृत्त उस त्रिभुज के बाहर होते हैं। इनमें से प्रत्येक वृत्त, त्रिभुज की किसी एक भुजा को तथा शेष दो भुजाओं को आगे बढाने से बनी दो रेखाओं को स्पर्श करता है।[3]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]