ककबरक भाषा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(त्रिपुरी भाषा से अनुप्रेषित)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ककबरक
त्रिपुरी
बोलने का  स्थान भारतबंगलादेश
क्षेत्र त्रिपुरा, असम, मिज़ोरम, बंगलादेश, बर्मा
समुदाय त्रिपुरी लोग
मातृभाषी वक्ता ८,५४,००० (भारत), १,१७,००० (बंगलादेश) - सन् २००१ के आंकड़े
भाषा परिवार
राजभाषा मान्यता
नियंत्रक संस्था कोई संगठन नहीं
भाषा कोड
आइएसओ 639-3 विभिन्न:
trp – कोकबोरोक (देब्बर्मा)
ria – रिआंग
tpe – तिप्पेरा (खग्राचरी)
usi – उसोई
xtr – पुरानी त्रिपुरी
भाषाविद् सूची xtr पुरानी त्रिपुरी

ककबरक भाषा (उच्चारण : कोक बोरोक) या तिप्राकक भाषा या त्रिपुरी भाषा भारत के त्रिपुरा राज्य के त्रिपुरी समुदाय और बंगलादेश के कुछ पड़ोसी क्षेत्रों में बोली जाने वाली भाषाएँ हैं। 'कक' का अर्थ 'भाषा' और 'बरक' का अर्थ 'लोग' होता है। यहाँ बरक शब्द से अर्थ त्रिपुरी लोग है। ककबरक तिब्बती-बर्मी भाषा-परिवार की सदस्य है और असम में बोली जाने वाली बोड़ो भाषा और दिमासा भाषा की निकट सम्बन्धी है।[1] ककबरक को कभी-कभी त्रिपुरी भाषा भी कह दिया जाता है।[2]

संख्याएँ और गिनती[संपादित करें]

ककबरक भाषा में गिनती' को लेखमुङ (लेखमुंग) कहते हैं। मुख्य संख्याओं के लिए ककबरक में प्रयुक्त शब्द नीचे दिए गये हैं।

1. sa (एक)
2. nwi (दो)
3. tham
4. brwi
5. ba
6. dok
7. sni
8. char
9. chuku
10. chi
20. nwichi (khol)
100. ra
101. ra sa
200. nwira
1000. sai
1001. sai sa
2000. nwi sai
10,000. chisai
20,000. nwichi sai
100,000. rasai
200,000. nwi rasai
1,000,000. chirasai
2,000,000. nwichi rasai
10,000,000. rwjak
20,000,000. nwi rwjak
1,000,000,000. rarwjak
1,000,000,000,000. sai rarwjak
100,000,000,000,000,000,000. rasaisai rarwjak

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Socio-linguistic Situation in North-east India, Pauthang Haokip, pp. 13, Concept Publishing Company, 2011, ISBN 9788180697609, ... Kokborok formerly known as 'Hill Tippera' is spoken in the low rolling hills of Tripura. ... Today, the Kokborok constitute just a 30 per cent minority in their own homeland, having been swamped by large scale Bengali immigrants ...
  2. Medieval Tibeto-Burman languages, pp. 83, BRILL, 2002, ISBN 9789004124240, ... Dimasha ('hills Kachari'), Kokborok (Tripuri), Lalung and so on covering the plains and low hill areas to the south, and also quite closely related Garo in the hills to the southwest ...