तुलसीपुर, डांग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
तुल्सीपुर उप-महानगरपालिका
उप-महानगरीय शहर
तुल्सीपुर उप-महानगरपालिका is located in नेपाल
तुल्सीपुर उप-महानगरपालिका
तुल्सीपुर उप-महानगरपालिका
नेपाल में स्थिति
निर्देशांक: 28°07′40″N 082°17′44″E / 28.12778°N 82.29556°E / 28.12778; 82.29556निर्देशांक: 28°07′40″N 082°17′44″E / 28.12778°N 82.29556°E / 28.12778; 82.29556
देशनेपाल
प्रदेशप्रदेश संख्या ५
जिलादांग जिला
स्थापना1992 (2048 विक्रम संवत)
शासन
 • मेयरघनश्याम पांडे
 • उप महापालिकाध्यक्षमाया शर्मा
क्षेत्रफल
 • कुल384.63 किमी2 (148.51 वर्गमील)
ऊँचाई725 मी (2,379 फीट)
जनसंख्या (2015)
 • कुल141,528
 • घनत्व370 किमी2 (950 वर्गमील)
भाषा
 • मुख्यनेपाली भाषा, थारू भाषा
 • सामान्यनेपाली भाषा, थारू भाषा
समय मण्डलनेपाल मानक समय (यूटीसी+5:45)
डाक कोड22412
दूरभाष कोड082
वेबसाइटtulsipurmun.gov.np

तुलसीपुर नेपाल के लुम्बिनी प्रांत के दांग जिले में एक उप-महानगरीय शहर है। जनसंख्या के अनुसार यह घोरही के बाद जिले का दूसरा सबसे अधिक आबादी वाला शहर है। इसकी स्थापना 1992 में पूर्व ग्राम विकास समितियों द्वारा तुलसीपुर और अमृतपुर को मिलाकर की गई थी। 2014 में उराहारी, तरिगांव, पवननगर और हलवार की ग्राम विकास समितियों के द्वारा इसका विस्तार किया गया। 2011 की नेपाल की जनगणना के समय इसकी जनसंख्या 141,528 थी, जो 31,243 व्यक्तिगत घरों में रहती थी।[1][2]

इतिहास[संपादित करें]

तुलसीपुर की सभा ने भारत के अवध के सबसे बड़े तालुकों में से एक पर शासन किया, जिसमें तब डांग और देखुरी घाटियाँ शामिल थीं इसलिए इसे बाईस राज्य में से एक के रूप में भी गिना जाता है, जो अभी पश्चिमी नेपाल बन गया है।[3] इसके अतिरिक्त सुकौराकोट की थारू सभ्यता सबसे पुरानी मानव सभ्यताओं में से एक है।[4]

यातायात[संपादित करें]

डांग हवाई अड्डा यहाँ से कुछ दूर पुरानी-तारिगांव में स्थित है और काठमांडू के लिए उड़ानें प्रदान करता है। सड़कें सल्यान जिले में उत्तर की ओर जाती हैं और राप्ती अंचल तक जाती है।[5]

स्थानीय परिवहन के रूप में यहाँ बसें और जीप हैं। आजकल इलेक्ट्रिक ऑटो रिक्शा भी स्थानीय परिवहन के रूप में बाजार और शहर के किनारे के क्षेत्र में चल रहे हैं।

शिक्षा[संपादित करें]

राप्ती अंचल का तत्कालीन क्षेत्रीय मुख्यालय विभिन्न सरकारी, सार्वजनिक-निजी और निजी शैक्षणिक संस्थानों की मेजबानी करता है। यहाँ स्थित नेपाल संस्कृत विश्वविद्यालय (पूर्व में महेंद्र संस्कृत विश्वविद्यालय) नेपाल का दूसरा सबसे पुराना विश्वविद्यालय है, जो शिक्षा की गुणवत्ता के लिए पूरे नेपाल और भारत में जाना जाता है। यहाँ प्राचीन संस्कृत, वैदिक ज्योतिष, नेपाली साहित्य शिक्षा का अध्ययन कराया जाता है। पूरे नेपाल से विद्यार्थी वैदिक भाषा के अध्ययन के लिए यहाँ आते हैं। यह मुख्य रूप से अपनी लागत प्रभावी के लिए प्रसिद्ध है, जिसे संस्कृत में मुफ्त शिक्षा भी कहा जा सकता है। इसका मुख्य प्रशासनिक कार्यालय बेलझुंडी में स्थित है जबकि परिसर बिजौरी में है। अन्य प्रमुख संस्थानों में राप्ती बाबाई कैंपस शामिल है, जो मास्टर डिग्री तक विभिन्न शैक्षिक धाराओं में अपनी सुविधाएँ प्रदान करता है।[6]

यहाँ स्थित तुलसी बोर्डिंग स्कूल को मध्य-पश्चिमी क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ स्कूल के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। तुलसीपुर के शैक्षणिक संस्थानों में गोरखा हायर सेकेंडरी स्कूल, दिव्य मंदिर अकादमी, हिमाल अकादमी, चंद्रोदय विद्या कुंज बोर्डिंग स्कूल, आदर्श अकादमी, नोवेक्स कॉलेज और ज्ञान ज्योति एजुकेशन फाउंडेशन भी शामिल हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "पृष्ठभूमि तथा अवस्था" (नेपाली में). Tulsipur Su-Metropolitan City. अभिगमन तिथि 1 October 2018.
  2. "National Population and Housing Census 2011" (PDF). Central Bureau of Statistics. November 2017. मूल (PDF) से 27 जनवरी 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 October 2018.
  3. Bouillier(1993) ().
  4. "Details: Vani Prakashan". www.vaniprakashan.in. मूल से 2 नवंबर 2021 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 नवम्बर 2021.
  5. "Dang Airport" (PDF). Civil Aviation authority of Nepal. मूल (PDF) से 7 सितंबर 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 October 2018.
  6. "Government of Nepal | The Ministry of Education and Sports (MOES) | Mahendra Sanskrit University | Constituent Campus". मूल से 8 अप्रैल 2022 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 3 नवंबर 2021.