तारापुर, बिहार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
तारापुर
कस्बा
तारापुर की बिहार के मानचित्र पर अवस्थिति
तारापुर
तारापुर
बिहार में अवस्थिति
निर्देशांक: 25°23′N 86°28′E / 25.38°N 86.47°E / 25.38; 86.47निर्देशांक: 25°23′N 86°28′E / 25.38°N 86.47°E / 25.38; 86.47
देशFlag of India.svg भारत
राज्यबिहार
ज़िलामुंगेर
भाषा
 • आधिकारिकअंगिका, हिंदी
समय मण्डलIST (यूटीसी+5:30)

तारापुर बिहार राज्य के मुंगेर जिले में एक नगर है जो इसी नाम के अनुमंडल और प्रखंड का मुख्यालय भी है। यह 15 फरवरी 1932 को हुए भीषण नरसंहार के लिये प्रसिद्ध है।[1][2]

तारापुर शहीद दिवस प्रत्येक वर्ष 15 फरवरी को मनाया जाता है जिसमें 15 फरवरी 1932 को बिहार राज्य के मुंगेर के तारापुर गोलीकांड में शहीदों को श्रंद्धाजलि दी जाती है। आजादी के बाद से हर साल 15 फरवरी को तारापुर दिवस मनाया जाता है।

15 फरवरी की दोपहर में क्रांतिवीरों का जत्था निकला, लोग घरों से बाहर आने लगे, तारापुर थाना भवन के पास भीड़ जमा हो गयी। धावक दल तिरंगा हाथों में लिए बेख़ौफ़ बढते जा रहे थे और उनका मनोबल बढ़ाने के लिए जनता खड़ी होकर भारतमाता की जय, वंदे मातरम् आदि का जयघोष कर रही थी । मौके पर थाना में कलेक्टर ई. ओ. ली व एसपी डब्लू. एस. मैग्रेथ ने निहत्थे स्वतंत्रता सेनानियों पर अंधाधुंध गोलियां चलवा दी थी. आजादी के दीवाने नौजवान वहां से हिले नहीं और सीने पर गोलियां खायीं। इसी बीच धावक दल के मदन गोपाल सिंह, त्रिपुरारी सिंह, महावीर सिंह, कार्तिक मंडल, परमानन्द झा ने तिरंगा फहरा दिया।

अंग्रेजी हुकूमत की इस बर्बर कार्रवाई में 34 स्वतंत्रता प्रेमी शहीद हो गये थे. इनमें से 13 की तो पहचान हुई बाकी 21 अज्ञात ही रह गये थे. आनन—फानन में अंग्रेजों ने कायरतापूर्वक वीरगति को प्राप्त कई सेनानियों के शवों को वाहन में लदवाकर सुल्तानगंज भिजवाकर गंगा में बहवा दिया था.

जिन 13 वीर सपूतों की पहचान हो पाई उनमें विश्वनाथ सिंह (छत्रहार), महिपाल सिंह (रामचुआ), शीतल चमार (असरगंज), सुकुल सोनार (तारापुर), संता पासी (तारापुर), झोंटी झा (सतखरिया), सिंहेश्वर राजहंस (बिहमा), बदरी मंडल (धनपुरा), वसंत धानुक (लौढिया), रामेश्वर मंडल (पढवारा), गैबी सिंह (महेशपुर), अशर्फी मंडल (कष्टीकरी) तथा चंडी महतो (चोरगांव) शामिल थे. इस घटना ने अप्रैल 1919 को अमृतसर के जलियांवाला बाग गोलीकांड की बर्बरता की याद ताजा कर दी थी।

लोग[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Prabhat Khabar Digital Desk. "तिरंगा लहराने में शहीद हुए थे तारापुर के रणबांकुरे". prabhatkhabar.com. प्रभात खबर. अभिगमन तिथि 13 अप्रैल 2020.
  2. "Battle for recognition". www.bihartimes.in. अभिगमन तिथि 13 अप्रैल 2020.
  3. "Nanadlal Bose A notable Indian painter of Bengal school of art". 4to40.com. अभिगमन तिथि 21 February 2014.