तराईन का द्वितीय युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


तराइन का दूसरा युद्ध
The last stan of Rajputs against Muhammadans.jpg
The last stan of Rajputs against Muhammadans.jpg

तिथि 1192
स्थान तारोरी (निकट करनाल)
परिणाम घुरिद विजय
योद्धा
घुरिद साम्राज्य राजपूत संघ
सेनानायक
मोहम्मद ग़ोरी
कुतुब-उद-दीन ऐबक
पृथ्वीराज चौहान
गोविंद राय  
सामंत सिंह
शक्ति/क्षमता
120,000 (मिन्हाज के अनुसार)[1] [2] संभवतः घुरिद बलों से संख्यात्मक रूप से श्रेष्ठ [3]

तराइन की दूसरी लड़ाई 1192 में घुरिद बलों द्वारा राजपूत संघ के खिलाफ तराइन (हरियाणा, भारत में आधुनिक तराओरी) के पास लड़ी गई थी। लड़ाई के परिणामस्वरूप आक्रमण करने वाली घुरिद सेनाओं की जीत हुई। मध्यकालीन भारत के इतिहास में इस लड़ाई को व्यापक रूप से प्रमुख मोड़ के रूप में माना जाता है क्योंकि इससे उत्तर भारत में कुछ समय के लिए राजपूत शक्तियों का बड़े पैमाने पर विनाश हुआ और दृढ़ता से मुस्लिम उपस्थिति स्थापित हुई, जिससे दिल्ली सल्तनत की स्थापना हुई।[4]


पृष्ठभूमि[संपादित करें]

पृथ्वीराज चौहान की सेना ने 1191 में तराइन का प्रथम युद्ध में घुरिदों को हराया था। घुरिद राजा मोहम्मद ग़ौरी (मूल नाम: मुईज़ुद्दीन मुहम्मद बिन साम), जो युद्ध में गंभीर रूप से घायल हो गया था, गजनी लौट आया, और अपनी हार का बदला लेने की तैयारी की। इतिहासकार आमतौर पर तराइन की दूसरी लड़ाई को 1192 में मानते हैं, हालांकि ऐसी संभावना है कि यह 1191 के अंत में हुआ था।[5]

सैन्यबल संख्या[संपादित करें]

16वीं-17वीं शताब्दी के लेखक फ़रिश्ता के अनुसार, "चौहान सेना में 3,000 हाथी, 300,000 घुड़सवार और पैदल सेना शामिल थी", जिसे आधुनिक इतिहासकारों द्वारा एक अतिशयोक्ति माना जाता है। सतीश चंद्र के अनुसार "मुइज़ुद्दीन के सामने आने वाली चुनौती और उसकी जीत के पैमाने पर जोर देने" के लिए आंकड़ों को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया गया था।[6] कौशिक रॉय इसी तरह टिप्पणी करते हैं कि मुस्लिम इतिहासकारों ने नियमित रूप से मुस्लिम राजाओं का महिमामंडन करने के लिए हिंदू सैन्य ताकत को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया, और संभवत: 300,000 सैद्धांतिक संख्या थी जिसे संभावित रूप से उस समय के सभी राजपूत राज्यों द्वारा जुटाया जा सकता था।[7]

हम्मीर महाकाव्य और पृथ्वीराज रासो जैसे भारतीय स्रोतों के अनुसार, चाहमान सेना एक साथ कई मोर्चों पर लगी हुई थी और पृथ्वीराज के पास युद्ध के मैदान में उसकी सेना का केवल एक हिस्सा था। उनकी दूसरी सेना पृथ्वीराज पहुंचने वाली थी लेकिन भाग्य मुइज़ुद्दीन के पक्ष में पहले ही तय हो चुका था।[8]

मिन्हाज-ए-सिराज के अनुसार, मोहम्मद ग़ौरी युद्ध के लिए 120,000 पूरी तरह से बख्तरबंद लोगों को लाया, [9] उन्होंने व्यक्तिगत रूप से 40,000 पुरुषों की एक कुलीन घुड़सवार सेना की कमान संभाली।

लड़ाई[संपादित करें]

लड़ाई उसी क्षेत्र में हुई जिसमें पहले युद्ध हुआ था। यह जानते हुए कि चाहमान सेना अच्छी तरह से अनुशासित थी, घुरीद उनके साथ हाथापाई युद्ध में शामिल नहीं होना चाहते थे। इसके बजाय घुरिद सेना को पांच इकाइयों में बनाया गया था, और चार इकाइयों को दुश्मन के किनारों और पीछे पर हमला करने के लिए भेजा गया था।[10] मोहम्मद ग़ौरी ने एक घुड़सवार सेना (10,000 घुड़सवार तीरंदाज) का निर्देशन किया, जिसे चार भाग में विभाजित किया गया, ताकि चार पक्षों पर चाहमान बलों को घेर लिया जा सके।[11] उन्होंने इन सैनिकों को निर्देश दिया कि जब दुश्मन हमला करने के लिए आगे बढ़े, तो युद्ध ना करे, और इसके बजाय चाहमना हाथियों, घोड़ों और पैदल सेना को थकाणे के लिए पीछे हटे।[12]

चाहमान बलों ने भागती हुई घुरिद इकाई पर धावा किया जैसा कि घुरिदों को उम्मीद थी। इस रणनीति के कारण चाहमाना सेना थक गयी , फिर घुरिदों ने 12,000 की एक नई घुड़सवार सेना भेजी और वे दुश्मन को आगे बढ़ने से रोकने में कामयाब रहे। शेष घुरीद सेना ने फिर चाहमान पर हमला किया।[10] अंततः उनकी जीत हुई।[10][12]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Satish Chandra 2006, पृ॰ 25.
  2. Roy, K. (2014). Military Transition in Early Modern Asia, 1400-1750: Cavalry, Guns, Government and Ships. Bloomsbury Studies in Military History. Bloomsbury Publishing. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-78093-800-4. अभिगमन तिथि 2022-05-30.
  3. Roy 2014, पृ॰ २२,23.
  4. Sugata Bose (2004). Modern South Asia: History, Culture, Political Economy (अंग्रेज़ी में). Psychology Press. पृ॰ 21. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-415-30786-4. It was a similar combination of political and economic imperatives which led Muhmmad Ghuri, a Turk, to invade India a century and half later in 1192. His defeat of Prithviraj Chauhan, a Rajput chieftain, in the strategic battle of Tarain in northern India paved the way for the establishment of first Muslim sultante
  5. Talbot, C. (2016). The Last Hindu Emperor: Prithviraj Cauhan and the Indian Past, 1200–2000. Cambridge University Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-1-107-11856-0. अभिगमन तिथि 2022-05-30.
  6. Satish Chandra 2006, पृ॰प॰ 25-26.
  7. Kaushik Roy 2014, पृ॰प॰ 22-23.
  8. Singh, R. B. (1964). History of the Chāhamānas (अंग्रेज़ी में). Varanasi: N. Kishore. पपृ॰ 199–200.
  9. सतीश चंद्र 2006.
  10. Spencer C. Tucker 2009, पृ॰ 263.
  11. Cynthia Talbot 2015, पृ॰ 47.
  12. Cynthia Talbot 2015, पृ॰ 48.