डेविड अर्नाल्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

डेविड अर्नाल्ड एक इतिहासकार है और वर्ष २००६ के बाद से वारविक विश्वविद्यालय में एशियाई और विश्व के इतिहास के प्राध्यापक रहे है।[1] इसके पहले लंदन विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ओरिएण्टल एंड अफ्रीकन स्टडीज़ में दक्षिण एशियाई इतिहास के प्राध्यापक थे। यहाँ अर्नाल्ड ने कई वर्षों तक महात्मा गांधी और गांधीवाद पर एक स्नातक पाठ्यक्रम पढ़ाया।[2] १९७० के दशक में सबाल्टर्न अध्ययन समूह के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। वर्ष १९९३ में रंजीत गुहा ने उन्हे "ऍन अस्सोर्टमेंट ऑफ़ मार्जिनलाइस्ड अकॅडेमिक्स " कहकर याद किया।[3] वर्ष १९९४ में डेविड हार्डीमैन के साथ एक प्रकाशन के लिये कुल ७ लेखो का योगदान देते हुए आठवें विस्तार-क्षेत्र को सह संपादित किया।[4]

उपनिवेशी दवा के क्षेत्र में भी पूर्व योगदानकर्ताओं मे एक है। "कोलोनाइज़िग द बॉडी " इनकी एक प्रभावशाली रचना है।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. David Arnold. "David Arnold". University of Warwick. अभिगमन तिथि ७ अप्रैल २०१५.
  2. "SASNET Newsletter". Lunds University. अभिगमन तिथि ७ अप्रैल २०१५.
  3. Guha, Ranajit (1993). Subaltern Studies Reader, 1986-1995. University of Minnesota Press. पृ॰ xiv. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8166-2759-2.
  4. Philip McEldowney. "By Authors From the Books of the Subaltern Studies Series". University of Virginia. अभिगमन तिथि ७ अप्रैल २०१५.
  5. Arnold, David (1993). Colonizing the Body: State Medicine and Epidemic Disease in Nineteenth-Century India. University of California Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-0-520-08295-3.