डाॅबेराइनर के त्रिक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आवर्त सारणी के इतिहास में जर्मन वैज्ञानिक डॉबेराइनर ने तीन तत्वों का त्रिक बनाया जिन्हें परमाणु द्रव्यमान के आरोही क्रम में रखने पर बीच वाले तत्व का परमाणु द्रव्यमान, अन्य दो तत्वों के परमाणु द्रव्यमान का लगभग औसत होता है। इस नियम को डाॅबेराइनर का त्रिक (Döbereiner's triads) का नियम कहते हैं।

उदाहरण:

(१) लिथियम (Li), सोडियम (Na) एवं पोटैशियम (K)

(२) कैल्शियम (Ca), स्ट्रांशियम (Sr) एवं बेरियम (Ba)

(३) क्लोरीन (Cl), ब्रोमिन (Br) एवं आयोडीन (I)

डाॅबेराइनर उस समय तक केवल तीन ही त्रिक ज्ञात कर सके थे।

डाॅबेराइनर त्रिक की असफलता : जिस आधार पर जे. डब्ल्यू डाॅबेराइनर ने त्रिक बनाए थे, उस आधार पर वे तीन ही त्रिक का पता लगा पाए वे अन्य तत्वों के साथ कोई और त्रिक नहीं बता सके। इसलिए त्रिक में वर्गीकृत करने की यह पद्धति सफल नहीं रही।