डर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

डर एक नकारात्मक भावना है। डर संभावित खतरे के लिए एक सहज वृत्ति प्रतिक्रिया के रूप में सभी जानवरों और लोगों में पूर्व क्रमादेशित एक ऐसी भावना है। यह भावना हमेशा अनुकूली नहीं है। यह एक अच्छी भावना नहीं है; कोई आजादी, खुशी नहीं है। यह कई रूपों में प्रकट होता है। सबसे आम अभिव्यक्ति गुस्सा है। आपका जीवन डर के जीत के लिए एक संघर्ष है। डर के विपरीत, एकता के बारे में जागरूकता है। डर के सबसे शक्तिशाली जनरेटर मृत्यु की अवधारणा है। डर हम सब एक समय पर महसूस करते हैं। यह बच्चों के रूप में सबसे पहले अनुभव किया जाता है। ज्यादातर लोगों को डर एक अप्रिय भावना लगती है। खतरे की उपस्थिति या निकटस्थता की वजह से एक बहुत अप्रिय भावना को डर केहते हैं। भय, मानव प्रजाति द्वारा अनुभव किया जाता है, यह एक पूरी तरह से अपरिहार्य भावना है। भय की हद और सीमा व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बदलता है, लेकिन भावना एक ही है। यह प्रत्याशा के कारण होता है। डर में कुछ आम चेहरे के भाव -- डरा हुआ चहरा, बडी आंखें, खुला मुह आदि। अंधविश्वासी, बुद्घिमान, और अनिश्चितता: भय के तीन अलग अलग प्रकार होते हैं। अंधविश्वासी डर काल्पनिक चीजों का एक भय है। बुद्घिमान डर बड़े हो जाने पर और उसके दुनिया का अधिक ज्ञान लाभ के रूप में आता है। अनिश्चितता के डर से एक के कार्रवाई के परिणाम का ना पता चलना होता है। डर एक खतरनाक प्रोत्साहन की उपस्थिति, या प्रत्याशा में एक भावनात्मक राज्य है। कुछ भय कंडीशनिंग प्रक्रिया के माध्यम से हासिल किया जाता है। कुछ माता पिता और भाई के भय के नकल के माध्यम से सीखा रहे जाता है। इन्सानों एवं जानवरों में एक एेसी भावना है जो अनुभूति द्वारा संग्राहक होती है। जब वस्तुओं या घटनाओं के लिए भय तर्कहीन हो जाता है तो उसे "फोबीया" कहा जाता है। डर इन्सानों मैं तब देखा जाता है जब उन्हें किसी वस्तु से किसी प्रकार का जोखिम महसूस होता हो। यह जोख़िम किसी भी प्रकार का हो सकता है- स्वास्थ्य,धन,निजी सुरक्षा,आदि। डर शब्द "फीर" से उत्पन्न हुआ जिसका अर्थ है आपदा या खतरा। अमेरिका में दस प्रकार के डर हैं-- आतंकवादी हमले, मकडियाँ, मौत,असफलता, युद्ध या आपराधिक हालात, अकेलापन, भविष्य या परमाणु युद्ध आदि।[1]

आम फोबिया[संपादित करें]

मकड़ियों का डर अधिक आम फोबिया में से एक है

सर्वेक्षण के अनुसार यह कुछ आम प्रकार के डर हैं-- राक्षस और भूत, बुरी शक्तियों का अस्तित्व, तिलचट्टे, मकड़ियाँ, सांप, हाइट्स, पानी, सुई, सामाजिक अस्वीकृति, परीक्षा और सार्वजनिक बोल आदि। अराकनोफोबिया के साथ एक व्यक्ति मकडियों के आस पास हलचल महसूस करता है यह जानते हुए कि वह कोई नुकसान नहीं देगी। कभी कभी तो वह वस्तु जो मकड़ी के समान दिखती हो, यह व्यक्ति उस से भी डर महसूस करेगा; इस भय को औटोमाटोनोफोबिया केहते हैं। एक और आम डर दर्द का भय होता है। [2]

मौत का भय एवं अनजान का डर[संपादित करें]

मौत के प्रति चिंता बहुआयामी है; यह एक की अपनी मृत्यु से संबंधित आशंकाओं का परिणाम होता है। अज्ञात या तर्कहीन डर चिंता से पैदा होती है, जो नकारात्मक सोच के कारण होता है। बहुत से लोग "अज्ञात" से डरते हैं। इन मामलों में विशेषज्ञों ने एक परिभाषा के रूप में झूठी गवाही जो सच लगती है; इस स्केल क उपयोग किया है। यह एक व्यक्ति मैं आलस्य और शिथिलता पैदा कर सकता है। [3]

कारण[संपादित करें]

कुछ लोगों में डर का विकास सीखने से होता है। यह डर कंडीशनिंग के रूप में मनोविज्ञान में पढ़ा जाता है। भय अनुभव या दर्दनाक दुर्घटना देखने से सीखा जा सकता है। उदाहरण के लिए, एक बच्चा एक कुएं में गिर जाता है और बाहर निकलने के लिए संघर्ष करता है, तो उसमें कुओं के डर का विकास हो सकता है। इस से यह पता चलता है कि डर का विकास ना सिर्फ सीखने से बल्कि निजी इतिहास से भी हो सकता है। डर सांस्कृतिक और ऐतिहासिक संदर्भ से भी प्रभावित होता है। उदाहरण के लिए, बीस्वि सदी में, बहुत से अमेरिकियों को पोलियो से डर लगता था। लोगों की भय के प्रति प्रतिक्रिया लगातार पार सांस्कृतिक मतभेदों से उत्पन्न होती हैं। इसके बावजूद की डर सीखा जाता है, डरने की क्षमता मानव स्वभाव का हिस्सा है। कई अध्ययनों से यह पता चला है कि कुछ डर दूसरों की तुलना में आम है। यह घटना तैयारियों के रूप में जाना जाता है। डर चिंता, भय, आतंक और दहशत के रूप में बढ़ते स्तर पर व्यक्त किया जाता है। डर बिदकाना प्रतिक्रिया के साथ शुरू होता है। भय कई अवचेतन व्यवहार को रास्ता देता है। डर शरीर में जैविक घटनाओं की एक श्रृंखला उत्पन्न करता है। डर तुरन्त कार्य करता है। [4]

डर के संकेत एवं लक्षण[संपादित करें]

शरीर में डर के साथ कई शारीरिक परिवर्तन जुड़े हुए हैं। खतरे का मुकाबला करने के लिए एक सहज प्रतिक्रिया इन लक्षण द्वारा देखी जाती है-- साँस लेने की दर में तेजी, हृदय गति, परिधीय रक्त वाहिकाओं का कसना, मांसपेशियों में तनाव, पसीना, बढ़ता रक्त ग्लूकोज,सफेद रक्त कोशिकाओं में वृद्धि और सोने में अशांति।

Hortus Deliciarum - Hell.jpg

संस्कृति में भय[संपादित करें]

मौत[संपादित करें]

अंत और अपने अस्तित्व का डर दूसरे शब्दों में मृत्यु का भय है। इस भय कि वजह से लोग एक दूसरे के साथ मिलकर कठिनाइयों का सामना करते हैं ना कि अकेले।

धर्म[संपादित करें]

धर्म सदियों से मनुष्य की जिंदगी में अलग अलग तरह के डर के रूप में मौजूद हैं। यह डर नैतिक है। मौत एक और दुनिया के लिए एक सीमा के रूप में देखा जाता है। डर एक संतानोचित या एक स्लाव जुनून को व्यक्त करने के लिए प्रयोग किया जाता है।

जोड़-तोड़[संपादित करें]

भय राजनीतिक और सांस्कृतिक रूप से चालाकी से जोडा-तोडा जा सकता है। भय और बुराई हमेशा से ही एक दूसरे से संबंधित थे।

डर पर काबू पाना[संपादित करें]

फार्मास्युटिकल[संपादित करें]

प्रमस्तिष्कखंड के माध्यम से डर कंडीशनिंग और फोबिया के लिए एक दवा उपचार ग्लुकोकौरटिकौडस का इस्तेमाल होता है।

आपको डराने वाली कोई एक चीज़ रोज़ाना करें[संपादित करें]

अपनी सुविधा क्षेत्र में हमेशा रहना सबसे अच्छा तरीका नहीं है। अपनी सुविधा क्षेत्र के बाहर कदम रखकर सहज बनने पर काम करें।

[5]

ताकत के साथ चिंता का सामना[संपादित करें]

ध्यान आपको शांत करता है और आपको किसी भी स्थिति का सामना करने के लिए आंतरिक शक्ति देता है। ध्यान आपकी चिंता कम करने में मदद करता है।

अपनी कल्पना पर नियंत्रण[संपादित करें]

हमारी सबसे बुरी कल्पना एवं चिंता तब होती है जब हम डर से अपने दिमाग में घिरे हुए हों। डर से बचने के लिए सबसे सही तरीका यह है कि हम अपनी कल्पना पर थोड़ा सा नियंत्रण रखें।

समर्पण कर डर को महसूस करें[संपादित करें]

हम में से कई लोगों को डर पसंद नहीं है क्योंकि डर हमें पंगु बना देता है। लेकिन अगर आप बस अपने आप को भय महसूस करने की अनुमति दें तो, आप खुद देखेंगे कि वह स्थिति प्रबंधनीय है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]