डब्ल्यूयू-14

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डब्ल्यूयू-14/डीएफ-जेडएफ
WU-14/DF-ZF
चीनी की हाइपरसोनिक मिसाइल का विन्यास
प्रकार प्रायोगिक विमान
उत्पत्ति का देश चीन
प्रथम उड़ान 9 जनवरी 2014

डब्ल्यूयू-14 (WU-14)[1][2] अमेरिकी रक्षा मन्त्रालय पेंटागन का एक चीनी प्रयोगात्मक हाइपरसोनिक मिसाइल के लिए कोड नाम था, जिसे अब डीएफ-जेडएफ कहा जाता है।[3]

परीक्षण[संपादित करें]

डीएफ-जेडएफ (पहले डब्लूयू -14 के रूप में नामित) एक हाइपरसोनिक मिसाइल डिलीवरी वाहन है जिसका चीन द्वारा सात बार 9 जनवरी, 7 अगस्त और 2 दिसंबर 2014, 7 जून और 27 नवंबर 2015[3] और फिर अप्रैल 2016 में उड़ान परीक्षण किया गया।[4]

चीनी रक्षा मंत्रालय ने जनवरी 2014 की अपने परीक्षण की पुष्टि की और कहा कि यह परीक्षण "वैज्ञानिक" प्रकृति में था, हालांकि इसे व्यापक रूप से एक व्यापक चीनी सैन्य बिल्ड-अप के हिस्से के रूप में देखा गया है।[5] वाशिंगटन फ्री बीकन के अमेरिकी अधिकारियों के अनुसार अब तक किए गए सभी सात परीक्षण सफल हुए हैं।[6][7] सभी परीक्षणों को चीन के मुख्य मिसाइल परीक्षण केंद्र शांक्सी प्रांत में स्थित ताइयुआन उपग्रह प्रक्षेपण केंद्र में किये गये।[3][4]

क्षमता और डिजाइन[संपादित करें]

डीएफ-जेडएफ हाइपरसोनिक मिसाइल कथित तौर पर मैक 5 और मैक 10 के बीच की गति तक पहुंचा सकता है (यानी, 6,173 किमी/घंटा से 12,359 किमी/घंटा के बीच)। जेन के डिफेंस वीकली और अन्य लोगों के अनुसार, डीएफ-जेडएफ का उपयोग परमाणु हथियारों के वितरण के लिए किया जा सकता था लेकिन इसका उपयोग सटीक-स्ट्राइक बम गिरने के लिए भी किया जा सकता है (उदाहरण के लिए, अगली पीढ़ी के एंटी-शिप बैलिस्टिक मिसाइलों), जो एक अमेरिकी वाहक स्ट्राइक समूह के स्तरित वायु सुरक्षा को बर्बाद कर सकता है।[3][4]

डीएफ-जेडएफ एक खतरनाक हथियार है क्योंकि हाइपरसोनिक ग्लाइडर वाहन "पारंपरिक मिसाइल रक्षा प्रणालियों द्वारा अवरोधन करने में लगभग असंभव है, जो उपग्रह सेंसरों और जमीन, समुद्र रडार के माध्यम से आने वाली वस्तुओं को ट्रैक करता है।"[4] कुछ सूत्रों के मुताबिक,[4] चीनी डीएफ-जेडएफ कार्यक्रम में एक कमजोरी उच्च प्रदर्शन वाली कम्प्यूटिंग शक्ति की कमी है, जो डिजाइन तैयार करती है। हालांकि, चीनी सुपर कम्प्यूटर ने 2016 की टॉप 500 सूची में दुनिया के शीर्ष 2 सबसे तेज प्रणालियों का नाम दिया है और चीन संपूर्ण सुपर कम्प्यूटर प्रतिष्ठानों में अमेरिका के समान है।[8] ऐसी रिपोर्टों के बावजूद, यह कार्यक्रम सात लॉन्च के साथ आगे बढ़ता जा रहा है, जो सभी 2016 तक सफल रहे।[3]

हाइपरसोनिक ग्लाइडर वाहन का परंपरागत पुनः वाहक वाहनों (जिस पर ज्यादातर मिसाइल आधारित है) की तुलना में एंन्टी बैलिस्टिक मिसाइल द्वारा मार गिराने की सम्भावन बहुत कम होती है लगभग न के बराबर। सामान्य पुनः वाहक वाहन वातावरण बैलिस्टिक प्रक्षेपवक्र पर उतरते हैं। इसलिए उनका रास्ता आसानी से पता किया जा सकता है। लेकिन हाइपरसोनिक ग्लाइडर वाहन का पथ तय नहीं होता है और इसकी गाति में बहुत अधिक होती है। इसलिए एंन्टी बैलिस्टिक मिसाइल द्वारा मार गिराने की सम्भावन बहुत कम होती है। ग्लाइडर वाहनो का पथ कभी भी बदला जा सकता है यही इसे मार गिराने में मुश्किल बनाती है।[9]

डब्ल्यूयू-14 की तरह के हाइपरसोनिक वाहनों को विभिन्न चीनी बैलिस्टिक मिसाइलों में लगाया जा सकता है जो इसे और भी खतरनाक बनती है। जैसे चीन को यदि अमेरिका पर हाइपरसोनिक मिसाइल से प्रहार करना है तो वह पहले अपनी 8000 किमी वाली बैलिस्टिक मिसाइल में हाइपरसोनिक वाहन को भेजेगा और अमेरिका पर पहुचने से पूर्व बैलिस्टिक मिसाइल से हाइपरसोनिक वाहन को अलग कर देगा। और तेजी से अमेरिकी ठिकानो पर हमला करेगा। हाइपरसोनिक वाहन की तेज गति के कारण अमेरिका इसे रोक नहीं पाएगा। विश्लेषकों को संदेह है कि डब्ल्यूयू-14 का उपयोग पहली एंटी-शिप मिसाइल और अन्य सामरिक उद्देश्यों के लिए एक बैलिस्टिक मिसाइल के साथ चलती लक्ष्य को मारने की समस्या को हल करने के लिए कम-सीमा वाली भूमिकाओं में किया जाएगा। दीर्घकालिक लक्ष्यों में अमेरिका के खिलाफ रणनीतिक बमबारी या अन्य देशों की संभावना के साथ अमेरिका के मिसाइल क्षमताओं का प्रतिरोध भी इसमे शामिल हो सकते हैं। जिस कारण अमेरिका निर्देशक-ऊर्जा हथियारों के विकास पर ज़ोर दे रहा है क्यूकी निर्देशक-ऊर्जा हथियार हाइपरसोनिक ग्लाइडर वाहन को मार गिरना संभव करता है।[9][10][11]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 28 अगस्त 2014 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 24 सितंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  3. Richard D Fisher Jr, US officials confirm sixth Chinese hypersonic manoeuvring strike vehicle test Archived 29 नवम्बर 2015 at the वेबैक मशीन., IHS Jane's Defence Weekly (November 27, 2015).
  4. Franz-Stefan Gady, China Tests New Weapon Capable of Breaching US Missile Defense Systems Archived 24 सितंबर 2017 at the वेबैक मशीन., The Diplomat (April 28, 2016).
  5. "China confirms hypersonic missile carrier test". Reuters. January 16, 2014. मूल से 24 सितंबर 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  6. "Stratcom: China Moving Rapidly to Deploy New Hypersonic Glider". the Washington Free Beacon. 2016-01-22. मूल से 5 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  7. "China Successfully Tests Hypersonic Missile". the Washington Free Beacon. 2016-04-27. मूल से 7 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  8. "New Chinese Supercomputer Named World's Fastest System on Latest TOP500 List". TOP500 News Team. 2016-06-20. मूल से 3 अक्तूबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 24 सितंबर 2017.
  9. U.S. Navy Sees Chinese HGV as Part of Wider Threat, Aviation Week, 27 January 2014
  10. Introducing the Ballistic Missile Defense Ship Archived 2 सितंबर 2017 at the वेबैक मशीन. - Aviation Week 11 April 2014
  11. U.S., China in Race to Develop Hypersonic Weapons Archived 3 फ़रवरी 2015 at the वेबैक मशीन. - Nationaldefensemagazine.org, 27 August 2014