झुमरी तिलैया

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
झुमरी तिलैया
—  शहर  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य झारखंड
जनसंख्या 87,867 (2011 तक )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 383 मीटर (1,257 फी॰)

निर्देशांक: 24°15′N 85°19′E / 24.25°N 85.31°E / 24.25; 85.31 झुमरी तिलैया भारत के पूर्वांचल में स्थित झारखंड प्रांत के कोडरमा जिले का एक छोटा लेकिन मशहूर कस्‍बा है। झुमरी तिलैया को झुमरी तलैया के नाम से भी जाना जाता है। यहां की आबादी करीब 70 हजार है और स्‍थानीय निवासी मूलत: मगही बोलते हैं। झुमरी तलैया कोडरमा जिला मुख्‍यालय से करीब छ: किमी दूर स्थित है। झुमरी तलैया में करीब दो दर्जन स्‍कूल और कॉलेज हैं। इनमें से एक तलैया सैनिक स्‍कूल भी है।

दामोदर नदी में आने वाली विनाशकारी बाढ़ को रोकने के लिए बनाए गए तलैया बांध के कारण इसके नाम के साथ तलैया जुड़ा है। इस बांध की ऊंचाई करीब 100 फीट और लंबाई 1200 फीट है। इसका रिजरवायर करीब 36 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला हुआ है। काफी हरा-भरा क्षेत्र होने के कारण यह एक अच्‍छे पिकनिक स्‍थल के रूप में भी जाना जाता है।

झरना कुंड, तलैया बांध और ध्‍वजाधारी पर्वत सहित यहां कई पर्यटन स्‍थल भी हैं। इसके अलावा राजगिर, नालंदा और हजारीबाग राष्‍ट्रीय पार्क अन्‍य नजदीकी पर्यटन स्‍थल हैं। झुमरी तलैया पहुंचने के लिए नजदीकी रेलवे स्‍टेशन कोडरमा है जो नई दिल्‍ली-कोलकाता रेलमार्ग पर स्थित है।

झुमरी तलैया को अक्‍सर एक काल्‍पनिक स्‍थान समझने की भूल कर दी जाती है लेकिन इसकी ख्‍याति की प्रमुख वजह एक जमाने में यहां की अभ्रक खदानों के अलावा यहां के रेडियो प्रेमी श्रोताओं की बड़ी संख्‍या भी है। झुमरी तलैया के रेडियो प्रेमी श्रोता विविध भारती के फरमाइशी कार्यक्रमों में सबसे ज्‍यादा चिट्ठियां लिखने के लिए जाने जाते हैं।

इतिहास[संपादित करें]

झुमरी तिलैया एक समय अपने अबरख के खदानों के लिये मशहुर था। 1890 में कोडरमा के आसपाक रेल की पटरी बिछाने के क्रम में अबरख की खानों का पता चला, इसके आसपास से उत्तम किस्म का अबरख निकाला जाता रहा है।[1] CH Private Ltd. of छोटु राम भदानी और होरिल राम भदानी अबरख के खानों के अग्रज थे, जिन्हे माइका किंग भी कहा गया। वे अपने समय में अभ्रक खनन व निर्यात में सबसे अधिक हिस्सा रखते थे। समृद्ध अभ्रक व्यापारियों ने झुमरी तिलैया में कई भव्य भवनों का निर्माण किया। 1960 के अंत में मर्सीडीज़ और Porsche जैसी कारें झुमरी तिलैया में आम थी। झुमरी तिलैया के नाम एक समय सबसे ज्यादा फोन लाइन और फोन करने का रिकार्ड भी है।[1]

सबसे ज्यादा अबरख डोमचांच में मिलता जिसे सोवियत रूस USSR को निर्यात किया जाता था, जिसका प्रयोग वहां अंतरिक्ष और सैनिक कार्यो मे होता था। 1990 के दशक मे सोवियत रुस के विघटन और क्रृत्रिम अबरख की खोज होने से यहां के उधोगों को घाटा होने लगा और खदाने धीरे-धीरे बंद होने लगी।[2] The huge mansions belonging to the mine owners, sprawling over acres of land, can still be found in the town. Mica Kings were still active in Jhumri Telaiya as of 2007. Apart from that business was moved to government corporations sometime in 1973-74 through a government venture called as Bihar Mica Syndicate which was having Mica mines in Sapahi, 40 km from झुमरी तिलैया. This government venture was renamed to Bihar State Mineral Development corporation (BSMDC), which is now known as Jharkhand State Mineral Development corporation (JSMDC) (after the formation of a new state of Jharkhand)। Mica mining through government corporations went on well into the mid 1990s and slowly succumbed to lack of demand / political willpower and changing times.

इन्हें भी देखें: Mica Kings

विविध भारती[संपादित करें]

मूलतः झुमरी तिलैया एक खनन कस्बा था, जो कि 1957 में अपने विविध भारती से संबंध के कारण प्रसिद्ध हुआ। जबकि भारत में कई सारे टीवी चैनल और एफ एम रेडियो स्टेशन शुरू ही नहीं हुए थे, विविध भारती के कार्यक्रम राष्ट्रीय आयोजन बन गये थे। विविध भारती के कार्यक्रमों में बड़ी संख्या में अनुरोध झुमरी तलैया से आया करते थे।[2] इस कस्बे के युवा श्रोता आपस में एक प्रतियोगिता-सी किया करते थे कि एक दिन या महीने में कौन सबसे ज्यादा अनुरोध देता है। श्रोता, रामेश्वर बर्णवाल और नन्दलाल सिन्हा तो अपना नाम लगभग प्रतिदिन इस कार्यक्रम में बुलवाने में सफल रहे। इस प्रकार विविध भारती के श्रोता झुमरी तलैया कस्बे से परिचित हो गये।

नाम के निहितार्थ[संपादित करें]

कुछ लोग झुमरी तलैया के अस्तित्व पर ही शक किया करते थे और सोचते थे कि यह एक काल्पनिक कस्बा है।[2] इस नाम का उपयोग मज़ाकिया लहजे में महत्त्वहीनता दिखाने के लिए भी किया जाता रहा है। जैसे 'मैडिकल जर्नल ऑफ़ झुमरी तलैया' का प्रयोग प्रायः सस्ती व महत्त्वहीन मेडिकल जर्नल को जताने के लिए किया जाता है।

एक तरह से झुमरी तिलैया टिम्बकटु का भारतीय समकक्ष है, जिसे भी एक काल्पनिक जगह माना जाता है। इसका उल्लेख कई हिन्दी फ़िल्मों में दिखता है। अक्सर जब झुमरी तलैया के लोग किसी साक्षात्कार में जाते हैं तो लोग अचम्भे के साथ खुशी जाहिर करते हैं कि उनके बायोडाटा में लिखा कस्बा सचमुच इस धरती पर है।

झुमरी झारखंड में एक गाँव है, जबकि तलैया शब्द हिन्दी शब्द ताल से आया है जिसका मतलब है तालाब। ऐसा भी कहा जाता है कि झुमरी एक स्थानीय लोकनृत्य भी है। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि इसकी उत्पत्ति झुरी से हुई है जो ब्रश के लिए स्थानीय शब्द है, जिसका प्रयोग गाँव में खाना पकाने के ईंधन के रूप में किया जाता है। एक और सिद्धान्त यह है कि झुमरी तलैया का नाम इसके दो अलग-अलग गाँवों झुमरी और तिलैया बाँध के बीच अवस्थित होने से पड़ा है।

भुगोल[संपादित करें]

झुमरी तिलैया 24°26′N 85°31′E / 24.43°N 85.52°E / 24.43; 85.52 पर अवस्थित है।[3] इसकी औसत ऊँचाई 384 मी. (1,260 फुट) है। यह कोडरमा से लगभग आठ किलोमीटर दूरी पर है। यह कस्बा पूर्वी रेलवे की ग्रांड कॉर्ड रेखा से विभाजित होता है, जो इसके बीच में से गुजरती है।

तिलैया डैम और जलाशय[संपादित करें]

तिलैय बाँध दामोदर घाटी निगम द्वारा बनाया गया पहला बाँध और जलविद्यत स्टेशन है। इस बाँध का ऐतिहासिक महत्त्व भी है कि यह स्वातन्त्र्योत्तर भारत में बनाया गया पहला बाँध है और इसका उद्घाटन तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने किया था। यह बाँध 1200 फीट लंबा और 99 फीट ऊँचा है। तिलैया जलाशय 36 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है। तिलैया के आसपास कई शैक्षिक संस्थान हैं, इनमें सबसे प्रसिद्ध है- सैनिक स्कूल (आर्मी स्कूल), तिलैया। सारा क्षेत्र हरे भरे वृक्षों से घिरा हुआ है। यह पिकनिक के लिए भी एक आदर्श स्थान है।[4] इस बाँध का मुख्य उद्देश्य बाढ़ रोकना था। यहाँ के जलविद्युत स्टेशन की क्षमता 4 मेगावाट है।

झुमरी तलैया के आसपास के पर्यटन स्थल राजगीर, नालंदा और हज़ारीबाग राष्ट्रीय पार्क, सोनभंडार गुफाएँ (यहाँ मौर्य खजाने के होने की अफ़वाहें हैं), सम्मेद शिखर जैन तीर्थ, ध्वजधारी पहाड़ी, सतगवाँ पेट्रो फ़ाल्स्, संत परमहंस बाबा की समाधि, मकमरो पहाड़ियाँ और माँ चंचला देवी शक्तिपीठ हैं।

प्रशासनिक व्यवस्था[संपादित करें]

झुमरी तिलैया बिहार से अलग हुए कोडरमा जिले में अवस्थित है और इसका पिन कोड है- 825409.

यातायात[संपादित करें]

इस कस्बा का एक रेलवे स्टेशन है जिसका नाम कोडरमा रेलवे स्टेशन है। चूँकि यह स्टेशन दिल्ली हावड़ा पथ पर पड़ता है अतः बड़े शहरों जैसे दिल्ली, कलकत्ता, मुंबई, अहमदाबाद, लखनऊ, भुवनेश्वर आदि से कई ट्रेनों से जुड़ा हुआ है, जिनमें राजधानी एक्सप्रेस भी है। भारी रेलवे यातायात के कारण इसे जंक्शन में परिवर्तित किया जा रहा है। यह निकटवर्ती कस्बों-गाँवों से बसों जीपों और तिपहिया गाड़ियों से जुड़ा हुआ है।

गया जंक्शन (74 km), गोमो (94 km) (अब सुभाष चन्द्र बोस जंक्शन) इसके निकटतम रेलवे जंक्शन हैं। बोकारो (127 km) इसका एक और निकटवर्ती बड़ा रेलवे जंक्शन है।

सबसे नज़दीकी विमानपत्तन राँची (झारखंड की राजधानी) है (162 km)। पटना (बिहार की राजधानी) इससे 175 किलोमीटर दूर स्थित है।

राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 31 जो झुमरी तलैया से नकलता है राँची-पटना रोड कहलाता है। यह ग्रांड ट्रंक रोड से 23 किलोमीटर दूर स्थित है। कोडरमा घाटी अपने यू-आकार के मोड़ों के लिए प्रसिद्ध है और जिलेबी घाटी (जलेबी घाटी) के नाम से जानी जाती है।

उधोग-धंधे[संपादित करें]

In recent years Telaiya had become incubator for small scale industries because of its proximity to easy access to minerals, better highway and rail connectivity,better power infrastructure because of DVC sub station.It has RIADA industrial area which has hand pump and mica powder manufacturing unit.Telaiya has numerous spong iron plants and mica units. Two mega power plant also coming up. One is the 1000 megawatt Banjhedih power plant and one is ADAG's 4000 megawatt power plant. On the banking sector, many national and private banks are available including State Bank of India, Union Bank of India, Bank of Baroda, Bank of India, United Bank of India, Allahabad Bank, ICICI Bank, HDFC Bank etc. along with their ATMs.

This town has many hotels and restaurant. The Centre Square Hotel CSQ, situated right at the centre of the town, near Jhanda Chowk.

Recently this town has seen a new Web service entrant as WebWOX, Showing concern over the development of such service provider emerging form this place.

जनसंख्याकिकी[संपादित करें]

हिन्दी इस कस्बे की प्रमुख भाषा है। इसके अलावा पंजाबी, बंगाली, मारवाड़ी, मगही और अंग्रेज़ी भी यहाँ बोली जाती हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार, झुमरी तलैया में 87867 जनसंख्या थी। इनमें 53 प्रतिशत पुरुष और 47 प्रतिशत महिलाएँ हैं। यहाँ की औसत साक्षरता 62 प्रतिशत है, जो कि राष्ट्रीय औसत 59.5 प्रतिशत से अधिक है: पुरुष साक्षरता 72 प्रतिशत है और महिला साक्षरता 52 प्रतिशत है। प्रमुख अखबारों के कार्यालय – खबर मन्त्र, हिन्दुस्तान, प्रभात खबर, दैनिक जागरण, रांची एक्सप्रेस

शैक्षिक-व्यवस्था[संपादित करें]

यहाँ 12 प्राथमिक विद्यालय, 8 उच्चतर विद्यालय, 5 माध्यमिक विद्यालय तथा 2 उच्चतर माध्यमिक विद्यालय और 4 डिग्री कॉलेज हैं।[5]

विधालय[संपादित करें]

  • ग्रिजली विधालय : An ISO 2000:9001 Certifield, CBSE Affiliated Residential School.Located in the lap of Damoder Valley.
  • Saraswati Shishu Mandir: This is governed by the Bal Bharti Samiti, on of the sub group of rashtriya swayamsevak sangh (RSS), and is serving the society since 1984.
  • Sainik School Taliya: It is the 12th in the chain of Sainik Schools established in different Indian states.[5] It is a boys-only residential school and was established on 16 सितंबर 1963. It provides education from Class VI to XII.
  • गांधी हाई स्कुल
  • रामेश्वर मोदी महादेव मोदी हाइ स्कूल चंदवारा
  • मॉडर्न पब्लिक स्कूल
  • आदर्श विद्यालय, महात्मा गांधी मार्ग
  • संत.जोसेफ स्कूल
  • पीवीएसएस डी ए वी स्कूल
  • सेक्रेड हार्ट स्कूल
  • सीडी गर्ल्स हाइ स्कूल
  • सीएच हाइ स्कूल (फाउंडेड बाइ माइका किंग्स)
  • श्री दिगंबर जैन विद्यालय
  • इंदिरा सिच्छान संस्थान

कालेज

  • चट्ठूराम होरिल्रम इंटरमीडिएट कॉलेज
  • जगन्नाथ जैन कॉलेज (जेजे कॉलेज)
  • झुमरीतिलैया वाणिज्य (जेटीसीसी) कॉलेज, कर्मा
  • रामगोंविद इंस्टीट्युट ऑफ टेक्नालाजी
  • राम लखन सिंह यादव कालेज, झुमरी तिलैया
  • e-genius'the computer world', Jhumri Telaiya, koderma

References[संपादित करें]

External links[संपादित करें]

PARAMOUNT Career Academy , jhumri telaiya , koderma