झुंझुनू जिला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(झुन्झुनू जिला से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
झुंझुनू
—  जिला  —
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य राजस्थान
क्षेत्रफल 5,928 वर्ग किलोमीटर कि.मी²

निर्देशांक: 28°19′N 76°04′E / 28.31°N 76.06°E / 28.31; 76.06

झुंझुनू जिला भारत के राजस्थान प्रान्त में स्थित है तथा सीकर एंव चूरु जिलों के नज़दीक है।

भूगोल[संपादित करें]

झन्झुनू राजस्थान का एक जिला है। यह दिल्ली से २५० किलोमीटर और जयपुर से १८० किलोमीटर दुरी पर स्थित है। यह एक रेगिस्तानी इलाका है। पूर्व से पश्चिम कि सीमा ११० किलोमीटर व उत्तर से दक्षिण की सीमा १०० किलोमीटर है।

झन्झुनू जिला 27.5' से 28.5'उत्तरी अक्षांश तथा 75 से 76 डिग्री पूर्वी देशान्तर के मध्य है। इसका

जनसांख्यिकी[संपादित करें]

राजस्थान के जनगणना संचालन निदेशालय द्वारा राजस्थान के एक जिले झुनझुनुन (झुनझुनू) की आधिकारिक जनगणना 2011 की जानकारी जारी की गई है। राजस्थान के झुनझुनुन जिले में जनगणना अधिकारियों ने महत्वपूर्ण व्यक्तियों की गणना भी की थी।

2011 में, झुनझुनुन की जनसंख्या 2,137,045 थी, जिसमें पुरुष और महिला क्रमशः 1,095,8 9 6 और 1,041,14 9 थीं। 2001 की जनगणना में, झुनझुनुन की आबादी 1,913,68 9 थी, जिनमें से पुरुष 983,526 थे और शेष 930,163 महिलाएं थीं। झुनझुनुन जिला जनसंख्या कुल महाराष्ट्र आबादी का 3.12 प्रतिशत गठित। 2001 की जनगणना में, झुनझुनुन जिले के लिए यह आंकड़ा महाराष्ट्र आबादी का 3.3 9 प्रतिशत था।

2001 के अनुसार आबादी की तुलना में जनसंख्या में 11.67 प्रतिशत परिवर्तन हुआ था। भारत की पिछली जनगणना में, झुनझुनुन जिले में 1 99 1 की तुलना में इसकी आबादी में 36.90 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

2011 की जनगणना के लिए कुल झुनझुनुन जनसंख्या में से 22.8 9 प्रतिशत जिले के शहरी क्षेत्रों में रहता है। शहरी इलाकों में कुल 48 9, 7 9 7 लोग रहते हैं जिनमें से पुरुष 253,178 हैं और महिलाएं 235, 9 01 हैं। 2011 जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक झुनझुनुन जिले के शहरी क्षेत्र में सेक्स अनुपात 932 है। इसी प्रकार 2011 की जनगणना में झुनझुनुन जिले में बाल लिंग अनुपात 854 था। शहरी क्षेत्र में बाल आबादी (0-6) 65,951 थी जिसमें से पुरुष और महिलाएं 35,579 और 30,372 थीं। झुनझुनुन जिले का यह बाल आबादी कुल शहरी आबादी का 14.05% है। जनगणना 2011 के अनुसार झुनझुनुन जिले में औसत साक्षरता दर 76.53% है जिसमें से पुरुष और महिला क्रमशः 87.3 9% और 65.03% साक्षर हैं। वास्तविक संख्या में शहरी क्षेत्र में 323,811 लोग साक्षर हैं, जिनमें से पुरुष और महिलाएं क्रमशः 190,162 और 133,64 9 हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार, झुनझुनुन जिलों की 77.11% आबादी गांवों के ग्रामीण इलाकों में रहती है। ग्रामीण इलाकों में रहने वाली कुल झुनझुनुन जिला आबादी 1,647, 9 66 है, जिनमें से पुरुष और महिला क्रमशः 842,718 और 805,248 हैं। झुनझुनुन जिले के ग्रामीण इलाकों में लिंग अनुपात प्रति 1000 पुरुष 956 महिलाएं हैं। यदि झुनझुनुन जिले के बाल लिंग अनुपात के आंकड़ों पर विचार किया जाता है, तो प्रति 1000 लड़कों की संख्या 832 लड़कियां हैं। ग्रामीण इलाकों में 0-6 वर्ष की उम्र में बाल आबादी 222,519 है, जिनमें से पुरुष 121,483 थे और महिलाएं 101,036 थीं। झुंजुनुन जिले की कुल ग्रामीण आबादी में बाल आबादी में 14.42% शामिल है। झुनझुनुन जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में साक्षरता दर जनगणना डेटा 2011 के मुकाबले 73.42% है। लिंग के अनुसार पुरुष और महिला साक्षरता क्रमश: 86.75 और 59.77 प्रतिशत थी। कुल मिलाकर, 1,046,549 लोग साक्षर थे जिनमें से पुरुष और महिला क्रमश: 625,672 और 420,877 थीं।

यातायात[संपादित करें]

आदर्श स्थल[संपादित करें]

बगड, बख्तावरपुरा, चिडावा, पिलानी, उदयपूर वाटी , मंडावा , नवलगढ़ आदि कस्बे इसी में है। झुंझुनूं का नाम लेते मन जोश एवं श्रद्धा से भर जाता है। यहां के जर्रे-जर्रे से उठने वाली देशभक्ति की आवाज से जोश तो गांव-गांव में स्थापित शहीदों की प्रतिमाओं को देखकर मन में श्रद्धा का भाव स्वतः ही आ जाता है। सेना में जाने तथा मातृभूमि के लिए शहीद होने का जज्बा जैसा यहां दिखाई देता है, शायद ही कहीं पर दिखाई दे। बात चाहे आजादी से पहले की हो या बाद की, जिले के जाबांज सैनिकों ने दुश्मनों के दांत खट्‌टे कर अपनी बहादुरी का लोहा मनवाया। वीरता के बाद झुंझुनूं का धर्म-कर्म के मामले में अलग मुकाम है। यहां जिला मुख्यालय पर स्थित दादी राणीसती का मंदिर तो विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। झुंझुनूं में हजरत कमरुद्दीन शाह की दरगाह एवं चंचलनाथ जी टीला अपने आप में अनूठे हैं। बताया जाता है कि हजरत कमरुद्दीन एवं चंचलनाथ में गहरी दोस्ती थी। दोनों का साम्प्रदायिक सद्‌भाव भी गजब का था। तभी तो झुंझुनूं में आज भी दोनों जगह होने वाले कार्यक्रमों में गंगा-जमुनी संस्कृति का झलक दिखाई देती है।

यहां पर प्राचीन शिक्षा के केंद्र रहे हैं जिनमें पिलानी का नाम आता है

सन्दर्भ[संपादित करें]