ज्योतिष पक्ष

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
इस कुण्डली में कई ज्योतिक्ष पक्ष दिखाए गए हैं

फलित ज्योतिष में ज्योतिष पक्ष (astrological aspect) कुण्डली में विभिन्न नक्षत्रों के एक-दूसरे से बनाए गए कोणों को कहते हैं। दो नक्षत्रों के बीच का ज्योतिष पक्ष पृथ्वी पर खड़े किसी प्रेक्षक के दृष्टिकोण से इन दो नक्षत्रों के बीच की सूर्यपथ रेखांश के आधार पर अनुमानित कोणीय दूरी होती है। भिन्न ज्योतिष परम्पराओं में ज्योतिक्ष पक्षों का प्रभाव अलग समझा जाता है। प्राचीन यूनानी परम्परा में ९०° का कोण सर्वाधिक प्रभावशाली समझा जाता है। यदि मंगल और शुक्र के बीच ९२° की कोणीय दूरी है तो वह पूर्ण पक्ष से २° कम मानी जाती है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]