ज्ञानराज

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ज्ञानराज () एक भारतीय गणितज्ञ थे।उन्होने सन् १५०३ ई० में ‘सिद्धान्तसुन्दर' नामक ज्योतिष ग्रन्थ की रचना की है जो ग्रहगति से सम्बन्धित है।

सिद्धान्तसुन्दर के मुख्य तीन भाग है- [1]

  • (१) गोलाध्याय
  • (२) ग्रहगणिताध्याय
  • (३) बीजगणिताध्याय

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. The Siddhāntasundara of Jñānarāja: An English Translation with Commentary Archived 13 नवम्बर 2018 at the वेबैक मशीन. (By Jñānarāja, Toke Lindegaard Knudsen)