जैन धर्म में शुभ सपने

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जैन धर्म में सोलह शुभ सपने

शुभ सपनों को अक्सर जैन धर्म के ग्रंथों में वर्णित किया जाता है, जो बच्चे के गुणों की भविष्यवाणी करते है। उनकी संख्या अलग-अलग परंपराओं के अनुसार भिन्न होती है और वे अक्सर चौदह या सोलह सपनों के रूप में वर्णित किये जाते हैं। वे गुणों का वर्णन करते हैं और भविष्य के बच्चे के शासन के रूप में व्याख्या करते हैं। वे विभिन्न कलात्मक मीडिया में एक अलंकरण के रूप में भी पाए जाते हैं।

महत्त्व[संपादित करें]

कल्पसूत्र के अनुसार भविष्यवाणी
सपनों की संख्या भविष्यवाणी
१४ सपने भविष्य के तीर्थंकर या चक्रवर्ती (सार्वभौमिक सम्राट) का जन्म
१४ सपनों में से ७ भविष्य के वासुदेव का जन्म
१४ सपनों में से ४ भविष्य के बलदेव/बलभद्र का जन्म
१४ सपनों में से १ भविष्य के माण्डलिक (राजा) का जन्म

अन्य[संपादित करें]

इन सपनों का कलात्मक मीडिया में प्रतीकीकरण होता हैं और ये इनमें पाया जाते हैं, जैसे कि पाण्डुलिपियों में चित्र और इसके कवर, किताबें, पत्थर के नक्काशियों में सजावट, निमंत्रण स्क्रॉल और मंदिर के फर्नीचर।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]