जैन धर्म के घटनाक्रम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

आम युग (ईसा पूर्व) से पहले[संपादित करें]

आम युग[संपादित करें]

मूर्तिकला में आचार्य कुन्दकुन्द का चित्रण

मध्य युग[संपादित करें]

ब्रिटिश भारत[संपादित करें]

विभाजन के पश्चात[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

टिप्पणियाँ[संपादित करें]

  1. "NamiNatha Bhagwan". http://jainmuseum.com. मूल से 9 अगस्त 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 जुलाई 2016. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  2. "About Tonks Of 24 Jain Tirthankaras On Parasnath Hills Information-Topchanchi". http://www.hoparoundindia.com. मूल से 17 अगस्त 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 जुलाई 2016. |website= में बाहरी कड़ी (मदद)
  3. Zimmer 1953, पृ॰ 226.
  4. Jinasena, Acharya; Jain (Sahityacharya), Dr. Pannalal (2008). Harivamsapurana [Harivamsapurana]. Bhartiya Jnanpith (18, Institutional Area, Lodhi Road, नई दिल्ली - 110003). आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 978-81-263-1548-2. मूल से 4 मार्च 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 जुलाई 2016.
  5. Fisher, Mary Pat (1997). Living Religions: An Encyclopedia of the World's Faiths. London: I.B.Tauris. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 1-86064-148-2.
  6. "Parshvanatha" Archived 15 जून 2020 at the वेबैक मशीन..
  7. Bowker, John (2000).
  8. Deo, Shantaram Bhalchandra (1956). History of Jaina monachism from inscriptions and literature. Poona [Pune, India]: Deccan College Post-graduate and Research Institute. पपृ॰ 59–60.
  9. "Mahavira."
  10. Rapson, "Catalogue of the Indian coins of the British Museum.
  11. "Full text of the Hathigumpha Inscription in English". मूल से 17 नवंबर 2006 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 28 जुलाई 2016.
  12. Cort 2009, पृ॰ 39-41.

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]