जैतारण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जैतारण
समय मंडल: आईएसटी (यूटीसी+५:३०)
देश Flag of India.svg भारत
राज्य राजस्थान
ज़िला पाली
जनसंख्या 19,328 (2001 के अनुसार )
क्षेत्रफल
ऊँचाई (AMSL)

• 307 मीटर (1,007 फी॰)

निर्देशांक: 26°12′N 73°56′E / 26.2°N 73.94°E / 26.2; 73.94

स्थापना जैतारण प्राचीन नगर राजस्थान के मानचित्र के मध्य में लगभग 70 डिग्री पूर्वी देशांतर और 26 पॉइंट 7 डिग्री उत्तरी अक्षांश रेखा पर जिला मुख्यालय पाली से 110 किलोमीटर सूर्य नगरी जोधपुर से 105 किलोमीटर पृथ्वीराज चौहान की राजधानी अजमेर शहर से 110 किलोमीटर एवं मीरा नगरी मेड़ता से 55 किलोमीटर की दूरी पर है इस नगर के पूर्व दिशा में गांव निम्बाज पर पश्चिम दिशा में गांव गरनिया 9 किलोमीटर पर उत्तर दिशा में गांव बलूंदा 12 किलोमीटर पर एवं दक्षिण दिशा में गांव आगेवा 6 किलोमीटर पर स्थित है विक्रम संवत 1343 में जैती नाम की गुजरी की झोपड़ी एवं गायों का बाड़ा ( गोर) था जेती के पिता का नाम श्री धोकलराम गुर्जर था श्री धोकल राम गुर्जर के दो लड़कियों का नाम जैति एवं खेती था धोकल रामजी का गांव रतनपुरा था जेती गुजरी के गांव के बारे में से मोर्ने चोर गाय चुरा कर ले गए उसी समय सिंध के पांच शहजादे जो आपस में सगे भाई थे पाली के पहलवानों से युद्ध में हराकर जंगल में भटकते हुए खेती गुजरी के बारे में पहुंच गए जेती गुजरी ने 5 शहजादो को शरण दीतब पांचों भाइयों ने जैती को अपनी धर्म बहन बना लिया एवं जैती की गायों को ढूंढने के लिए जंगल में निकल गए गिरी गांव के पास पहुंचकर मोर ने चोरों से युद्ध किया बड़ा भाई सईद अली युद्ध में मारा गया दूसरा भाई सईद मिर्जा घायल अवस्था में जैतारण व फुल मालगांव के बीच मर गया उस जगह की आज भी मिर्जापुर की नाडी के नाम से जाना जाता है वहां पर सईद मिर्जा की मजार बनी हुई है उसके चारों और परकोटा खींचा हुआ है अतः प्रतिवर्ष मेला लगता है बाकी तीनों भाई घायल अवस्था में जैती की गाय सुपुर्द कर दी वहीं अपने प्राण त्याग दिए उनके बलिदान को देखकर जैती ने भी जिंदा ही समाधि लेने का निश्चय किया उसी समय भाकर सिंह सिंधल राठौड़ उधर से गुजर रहे थे यहां दो नदियों का संगम देखकर जंगल में नगर बसाने का निश्चय किया और जैती गुजरी से इजाजत मांगी तब जैत्ती ने अपनी गायै भाकर सिह सिधल को दे दी और कहा कि इस गांव का नाम जैतारण रखना सवत 1354 में भाकर सिंह सिंघल ने जैतारण नगर की स्थापना की उसके बाद बाकर सिंह सिंघल की पांच पिडियो ने राज्य किया जैतारण में सिधल राठौड़ वंश का राज्य भाकर सिंह सिंधल की पांचवी पीढ़ी में खिवाजी सिंदल का जैतारण में आधिपत्य था इतिहास जोधपुर नगर के निर्माता एवं मरुधराधीश राव जोधा जी राठौड़ के निधन के बाद आप की राजगद्दी पर राव सूजा जी आरुढ हुए इन्हीं राव सुजा जी कि तीसरे पुत्र उद्धव जी जो कि राव सूजा जी की तीसरी रानी मांगलिया नी से उदय जी प्रांगण जी एवं सांगा जी नेजन्मलिया राव सूजा जी ने उदय जी को आदेश दिया कि जैतारण के राजा खिवा जी सिंदल से बलपूर्वक राज्य छीन कर ले लो ऊदा जी ने अपने मासा खिवा जी को मारकर राज्य लेने से इंकार कर दिया उनसे जाकर मिले कुछ दिन जैतारण रहे तथा खिवा जी ने ऊदा जी का स्वागत किया बाद में खिवा जी ने हाथ खर्च के लिए गांव लोटोती दिया उदा जी लोटोती में रहकर अपने पिता के नाम से सुजा सागर तालाब बनवाया उस समय ग्राम निम्बोल में वचन सिद्ध योगी राज रिदरावल जी रहते थे उन्हें लोग गूदड बाबा भी कहते थे ऊदा जी योगीराज[रणधवल 1] की खूब सेवा की एवं उनके परम भक्त बन गए यहां तक कि प्रतिदिन ऊदाजी लोटोती से निम्बोल जाकर योगीराज के दर्शन करने के बाद ही भोजन किया करते थे योगीराज विद राहुल जी आघात भक्ति से प्रसन्न होकर उदाजी को कहा कि तुम्हें जैतारण का राज्य दिया एक बार तो उदाजी अपने मासाजी को मारकर राज्य लेने का घिनौना कार्य नहीं करना चाहते थे योगीराज के वचन एवं उनके डर से ऊदा जी से युद्ध किया जैतारण पर अपना राज्य जमा लिया विक्रम संवत 1539 वैशाख सुदी तीज को उदाजी जी जैतारण की गद्दी पर बैठे तथा उनका राज्य तिलक राजपुरोहित भोजराज जी ने किया उस के उपलक्ष में उन्हें तालिकीया ग्राम बख्शीश में दिया राव जी ने विक्रम संवत 1541 से 1542 तक ₹81000 में जैतारण का किला गढ़ बनवाया साथ में कृष्ण भगवान का मंदिर बनाकर गोपाल द्वारा की स्थापना की वैशाख सुदी पूर्णिमा को उदय जी का स्वर्गवास हो गया उदा जी के पांच रानी सती हो गई तथा उसके उनके 11 पुत्र थे उनमें से तीसरे पुत्र खिवकरण जी का जन्म विक्रम संवत 1537 भादवा सुदी ग्यारस को हुआ उदा जी के निधन के बाद 30 वर्ष की अवस्था में इनके पुत्र खिव करण जी जैतारण के स्वामी बने

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]


सन्दर्भ त्रुटि: "रणधवल" नामक सन्दर्भ-समूह के लिए <ref> टैग मौजूद हैं, परन्तु समूह के लिए कोई <references group="रणधवल"/> टैग नहीं मिला। यह भी संभव है कि कोई समाप्ति </ref> टैग गायब है।