जेम्स हेपबर्न, बोथवेल का चौथा अर्ल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जेम्स हेपबर्न
ऑर्कने का ड्यूक
मार्क़्विज़ ऑफ फाइफ
बोथवेल का अर्ल
लॉर्ड हाइल्स
James Hepburn, 4th Earl of Bothwell, c 1535 - 1578. Third husband of Mary Queen of Scots - Google Art Project.jpg
बोथवेल के सामंत का चित्र, चित्रकार=अज्ञात, 1566
जीवनसंगी लेडी जीन गॉर्डन
मैरी १
अन्ना थ्रॉंडसेन
पिता पैट्रिक हेपबर्न
माँ एग्नेस सिन्क्लेयर
जन्म लगभग 1534 ई.
मृत्यु 14 अप्रैल 1578(1578-04-14) (उम्र 44)
ड्रैग्सहॉम किला, डेनमार्क
कब्र फैरवेले गिरिजाघर, ड्रैग्सहॉम

जेम्स हेपबर्न, ऑर्क्ने का ड्यूक (ल. 1534 – 14 अप्रैल 1578), जिसे उसके पैतृक नाम बोथवेल का अर्ल (सामंत) से ज्यादा जाना जाता है, १६वीं शताब्दी में स्कॉटलैंड का एक प्रमुख राजनैतिक व कुलीन व्यक्तियों में से एक था। जेम्स को स्कॉटलैंड की रानी मैरी १ के तीसरे पति के रूप में ज्यादा प्रसिद्धि मिली। जेम्स पर रानी के दूसरे पति की हत्या का आरोप लगा था जिससे मुक्त होने के बाद उसने रानी से शादी कर ली।

शुरुवाती जीवन[संपादित करें]

वह बोथवेल के तीसरे अर्ल पैट्रिक और काउंटेस एग्नेस सिन्क्लेयर का बेटा था। जन्म से ही मास्टर ऑफ बोथवेल यानी बोथ्वेल का मालिक कहा जाता था। उसने अपने पिता के बाद बोथवेल के सामंत के रूप में १५५६ ई. में पदभार ग्रहण किया।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  • Les Affaires du Conte du Boduel, l'An 1568, बेन्नाटाइन क्लब, एडिनबर्ग, (1829) 1568 के दौरान घटनाओं की स्व्यँ लिखित जीवनी (फ्रेंच) and डेनमार्क में कारावास संबंधी पत्र लेख (संपादन|वार्ता|इतिहास|कड़ियाँ|ध्यान रखें|लॉग)
  • The Royal Families of England Scotland and Wales, with their descendants, etc., लेखक: जॉन और जॉन बर्नाड बर्क, लंडन, 1848, संसकरण 2, pedigree XII.
  • Scottish Kings, a Revised Chronology of Scottish History, 1005–1625, लेखक: सर आर्किबाल्ड एच. डनबार, बार्ट., एडिनबर्ग, 1899, पृष्ठ: 256.
  • Lord Bothwell, लेखक: रॉबर्ट गोरे ब्राउन, कोलिन्स (1937)
  • Acta Curiae Admirallatus Scotiae, 1557–1562, ed थॉमस कैलेंडर वेड, स्टेयर सोसाइटी (1937) (Bothwell's Admiralty Court records.)
  • Lines of Succession, लेखक: जीरी लौडा और मैकल मैक्लेगेन, लंदन, 1981.
  • Mary Queen of Scots, लेखिका: एंटोनिया फ्रेज़र 13वाँ पुनर्प्रकाशन, लंदन, 1989, ISBN 0-297-17773-7.