जीसैट-6ए

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
जीसैट-6ए
GSAT-6A
मिशन प्रकार संचार उपग्रह
संचालक (ऑपरेटर) इसरो
कोस्पर आईडी 2018-027A
सैटकैट नं॰ 43241
वेबसाइट www.isro.gov.in/Spacecraft/gsat-6a
मिशन अवधि योजना: 10 वर्ष
गुजर चुके: 1 साल, 5 माह, 22 दिन
अंतरिक्ष यान के गुण
बस आई-2के]]
निर्माता इसरो सैटेलाइट सेंटर
अंतरिक्ष अनुप्रयोग केंद्र
लॉन्च वजन 2,140 किलोग्राम (75,000 औंस)
आकार-प्रकार 1.53 × 1.65 × 2.4 मी॰ (5.0 × 5.4 × 7.9 फीट)
ऊर्जा 3,119 वाट
मिशन का आरंभ
प्रक्षेपण तिथि 29 मार्च 2018, 11:26 यु.टी.सी[1]
रॉकेट जीएसएलवी एमके2
प्रक्षेपण स्थल सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र द्वितीय लांच पैड
ठेकेदार इसरो
कक्षीय मापदण्ड
निर्देश प्रणाली भूकेन्द्रीय
काल भू-स्थिर कक्षा
अर्ध्य-मुख्य अक्ष (सेमी-मेजर ऑर्बिट) 37,552 किलोमीटर (20,276 समुद्री मील)[2]
विकेन्द्रता 0.1383056[2]
परिधि (पेरीएपसिस) 29,580 किलोमीटर (15,970 समुद्री मील)[2]
उपसौर (एपोएपसिस) 36,367 किलोमीटर (19,637 समुद्री मील)[2]
झुकाव 3.29 डिग्री[2]
अवधि 20.8 घंटे[2]
युग अप्रैल 11, 2018[2]
ट्रांस्पोंडर
कवरेज क्षेत्र भारत
----
जीसैट
← जीसैट-17 जीसैट-11

जीसैट-6ए (GSAT-6A) भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन द्वारा संचालित एक संचार उपग्रह है।[3] इसमें जीसैट-6 पर इस्तेमाल किए गए 6 मीटर (20 फीट) एस-बैंड एंटीना की सुविधा है।[1] लिफ्ट-ऑफ के लगभग 17 मिनट बाद, जीएसएलवी एमके 2 रॉकेट की जीएसएलवी एफ08 मिशन उड़ान ने सफलतापूर्वक उपग्रह को भू-समकालिक स्थानांतरण कक्षा में छोड़ा।[4] तीन दिन बाद जीसैट-6ए सैटेलाइट से संपर्क टूट गया।[5] बिजली विफलता के कारण जीएसएटी -6 ए उपग्रह के साथ संपर्क टूट गया था, [6][7] इससे पहले चरण में सैटेलाइट के तरल अपॉजी मोटर (एलएएम) को फायर करके अंतिम परिपत्र जियोस्टेशनरी ऑर्बिट (जीएसओ) में उठाया जाना था।

इसरो को एक बड़ी विफलता उस वक्त मिली थी जब 2017 में पीएसएलवी का प्रक्षेपण असफ़ल रहा था, इसमें एक नाविक सैटेलाइट था।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "GSAT-6A". Indian Space Research Organisation. अभिगमन तिथि 29 March 2018.
  2. "GSAT-6A Satellite details 2018-027A NORAD 43241". N2YO. 11 April 2018. अभिगमन तिथि 11 April 2018.
  3. "GSAT-6A से नहीं हो पा रहा संपर्क, 29 मार्च को हुआ था लॉन्च".
  4. "GSLV Successfully Launches GSAT-6A Satellite".
  5. "जीसैट 6ए की नाकामी इसरो के लिए कितना बड़ा सबक?".
  6. "GSAT-6A: 30 years on, ISRO loses another satellite to power failure".
  7. "We now know the exact location of GSAT-6A communication satellite, says Isro chief".