जीवक चिन्तामणि

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जीवक चिन्तामणि (तमिल: சீவக சிந்தாமணி / चीवक चिन्तामणि) एक तमिल महाकाव्य है। यह जैन मुनि तिरुतक्कदेवर द्वारा रचित जैन धर्म ग्रन्थ है। इस ग्रंथ को तमिल साहित्य के 5 प्रसिद्ध ग्रंथों में गिना जाता है। 13 खण्डों में विभाजित इस ग्रंथ में कुल 3,145 पद हैं। इसमें कवि ने 'जीवक' नामक राजकुमार का जीवनवृत्त प्रस्तुत किया है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]