जालन्धर नाथ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जलंधरनाथ , नाथ संप्रदाय के एक प्रमुख संत थे। उन्हें गोरखनाथ का समकालीन माना जाता है । जलंधरनाथ के मंदिर मुख्यतः राजस्थान में जालौर, निवाई (टोंक), महामंदिर (जोधपुर) के अलावा कई स्थानों पर हैं । नाथ संप्रदाय में जलंधरनाथ नवनाथों में सम्मिलित हैं जो भगवान शिव की क्रोधाग्नि से उत्पन्न और समुद्रपुत्र माने जाते हैं ।

नाथ संप्रदाय में योगिराज जलंधरनाथ के व्यक्तित्व और कृतित्व का प्रमुख स्थान रहा है । महर्षि योगी जलंधरनाथ की महिमाओं का बखान नाथ साहित्य (नाथ-पुराणों शिवपुराण व कुछ अन्य हिंदू धर्मग्रंथों में) मिलता है । कहा जाता है इन्होंने अपने तपोबल से बहुत सी चमत्कारिक सिद्धियां प्राप्त की थीं । गोरखनाथ मछेंद्ररनाथ (मत्सेंद्रनाथ के शिष्य थे, और मत्सेंद्रनाथ जालंधरनाथ के शिष्य थे ।