ज़िंदीक़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

ज़िंदीक़ एक मध्ययुगीन इस्लामी पद या शब्दावली है जो मुस्लिमों द्वारा उन लोगों के लिए इस्तेमाल की जाती हैं जिनका मत इस्लामी आस्था तंत्र से भिन्न होता है।[1]

अब्बासिद के तहत[संपादित करें]

अरबी ज़िंदीक़ पूर्व-इस्लामी मध्यवर्ती फारसी ज़ंदीक से स्वीकृत शब्द है जो अनिश्चित व्युत्पत्ति और अर्थ वाला एक पारसी पद है (पूर्व-इस्लामी प्रसंग में पद की चर्चा के लिए, देखें ज़ंदीक)। 8वीं-सदी अब्बासिदों के तहत, अरबी ज़िंदीक़ और विशेषण संबंधी ज़ंदगा "कई भिन्न चीजों को निर्दिष्ट कर सकता था, हालांकि प्राथमिक तौर पर (या कम से कम शुरुआत में) मानी धर्म के अनुयायी को संकेतित करता"।[2]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Lewis, Bernard (1993), Islam in history: ideas, people, and events in the Middle East, Open Court, पृ॰ 287.
  2. Zaman, Muhammad Qasim (1997), Religion and Politics Under the Early 'Abbasids: The Emergence of the Proto-Sunni Elite, Brill, पपृ॰ 63–65.