ज़ाकिर नायक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
ज़ाकिर नाइक
ذاکِر ناعیک
Dr Zakir Naik.jpg
मालदीव में ज़ाकिर नाइक
जन्म ज़ाकिर अब्दुल करीम नाइक
18 अक्टूबर 1965 (1965-10-18) (आयु 54)
मुम्बई, महाराष्ट्र, भारत
शिक्षा एमबीबीएस
शिक्षा प्राप्त की किशनचंद चेलाराम कॉलेज
टोपीवाला नेशनल मेडिकल कॉलेज एंड नायर हॉस्पिटल
मुम्बई विश्वविद्यालय
व्यवसाय इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के अध्यक्ष, पब्लिक स्पीकर
प्रसिद्धि कारण दावाह
बोर्ड सदस्यता इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन,पीस टीवी उर्दू
धार्मिक मान्यता इस्लाम
जीवनसाथी फरहत नाइक
वेबसाइट
IRF.net
PeaceTV.tv

जाकिर नाइक (अंग्रेज़ी: Zakir Naik) एक कट्टर इस्लामी धर्मोपदेशक हैं,जिसे सलाफ़ी विचारधारा का हामी माना जाता है।बांग्लादेश की राजधानी ढाका में हुए आतंकवादी हमले के बाद पुनः मुस्लिम धर्मगुरु डॉ. जाकिर नाईक विवादों में है। इस्लाम के अलावा अन्य धर्मों की आलोचना नाईक की फितरत है। वह अपने भाषण में हिंदू देवी-देवताओं को अपमानित कर मुस्लिम युवाओं का दिमाग बदलता है। गीता के श्लोक की गलत व्याख्या कर कट्टरवाद को बढ़ावा देने की बात भी सामने आई है।

मुस्लिम युवाओं का चहेता बना डॉ जाकिर नाईक कभी दक्षिण मुंबई के भिंडी बाजार की गलियों में एक छोटे से कबाड़खाने जैसे घर में रहता था। लेकिन, कट्टरवादी सोच के साथ इस्लाम का प्रचार कर उसने इतनी दौलत और शोहरत कमा ली है कि आज वह मलेशिया के बेहद पॉश इलाके में आलीशान कोठी में रहता है।जाकिर नायक इस्लामिक रिसर्च फांउडेशन का संस्थापक और अध्यक्ष हैं ।

डॉ. नाईक पीस टीवी नामक एक इस्लामी चैनल का संस्थापक है जिसका अनेक देशों में प्रसारण होता है। 18 अक्तूबर 1965 में जन्मा जाकिर को बचपन में ही कुरान की आयतें कंठस्थ हो गई थीं। उसके बाद उसने मेडिकल की पढ़ाई की। अपने पिता अब्दुल करीम नाईक की मदद से डोंगरी में एक इस्लामिक स्कूल की नींव रखी। डॉ. जाकिर के पिता का महाराष्ट्र के बड़े नेता शरद पवार और पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत अब्दुल रहमान अंतुले से जान पहचान थी।

इसके बल पर जाकिर का इस्लामिक स्कूल चल निकला। उसके बाद उसने कई मदरसे खोले। साल 1991 में इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन की स्थापना कर वह मदरसों में मुस्लिम युवाओं को कट्टरता की ट्रेनिंग देने लगा।

उसके बाद जाकिर कुछ ही दिनों में खुद को इस्लाम का स्कॉलर कहलवाने लगा। इस तरह जाकिर का मजहबी दायरा बढ़ता गया। वह बीते 20 सालों में 30 से ज्यादा देशों में दो हजार से अधिक व्याख्यान दे चुका है।

उर्दू के वरिष्ठ पत्रकार अजीज एजाज बताते है कि इस्लामिक व्याख्यान देने वाले जाकिर के पास सऊदी अरब, बहरीन आदि इस्लामिक देशों से बड़ी रकम पहुंचने लगी। उसके बाद उसने इस्लामिक धर्मगुरु के रूप में खुद को स्थापित कर लिया। ।[1][2] यह पीस टीवी चैनल के भी संस्थापक हैं।[3] कई इस्लामी प्रचारकों के विपरीत, उसके व्याख्यान बोलचाल की भाषा में हैं, यह अंग्रेजी में अपने व्याख्यान देता हैं न कि उर्दू या अरबी में, और यह परंपरागत पहनावे के बजाय एक सूट और टाई पहनता हैं।[4]

एक सार्वजनिक वक्ता बनने से पहले, उसने एक मेडिकल चिकित्सक के रूप में प्रशिक्षण प्राप्त किया। उसने इस्लाम और तुलनात्मक धर्म पर व्याख्यानों की बुकलेट संस्करणों को भी प्रकाशित किया है। हालांकि उसने सार्वजानिक रूप से इस्लाम में सांप्रदायिकता को अस्वीकार किया है,[5] कुछ लोगों के द्वारा उसे सलाफी विचारधारा के एक प्रचारक के रूप में माना जाता है,[6] और, कुछ लोगों द्वारा, वहावी विचारधारा के एक कट्टरपंथी इस्लामी प्रचारक के रूप में। [7][8][9][10][11]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Hope, Christopher. "Home secretary Theresa May bans radical preacher Zakir Naik from entering UK". The Daily Telegraph. 18 June 2010. Retrieved 7 August 2011. Archived 7 August 2011.
  2. Shukla, Ashutosh. "Muslim group welcomes ban on preacher". डेली न्यूज़ एण्ड एनालिसिस. 22 June 2010. Retrieved 16 April 2011. Archived 7 August 2011.
  3. "Saudi Arabia gives top prize to cleric who blames George Bush for 9/11". द गार्डियन. Agence France-Presse. 1 March 2015. मूल से 2 जुलाई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 July 2015.
  4. Hubbard, Ben (2 March 2015). "Saudi Award Goes to Muslim Televangelist Who Harshly Criticizes U.S." New York Times. मूल से 15 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 1 July 2015.
  5. "Dr. Zakir Naik talks about Salafi's & Ahl-e Hadith". यूट्यूब. 2010-09-24. मूल से 3 जून 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2013-12-03.
  6. "Wahabi versus Sufi: social media debates". मूल से 22 जुलाई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  7. "Why Muslims protested against Zakir Naik at the IICC in Delhi". मूल से 1 मई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  8. "Why a Saudi award for televangelist Zakir Naik is bad news for India's Muslims". मूल से 1 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  9. "Why do Muslims hate Dr Zakir Naik?". मूल से 20 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  10. "Zakir Naik, who said Muslims can have sex with female slaves, gets Saudi Arabia's highest honour". मूल से 11 जनवरी 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.
  11. "Zakir Naik, Radical Islamist Video Evangelist". मूल से 12 अप्रैल 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 6 मई 2016.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]