जहाँ काम आवै सुई

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जहाँ काम आवै सुई से अभिप्राय यह है कि हर काम को एक ही उपकरण या औजार से करने की गलती नहीं करनी चाहिए बल्कि काम के अनुसार सम्यक उपकरण चुनकर उससे ही काम करना चाहिए। रहीम का प्रसिद्ध दोहा है-

रहिमन देखि बड़ेन को, लघु न दीजै डारि।
जहाँ काम आवे सुई, कहा करे तरवारि॥

इसे पाश्चात्य जगत में 'हथौड़े का नियम' या 'उपकरण का नियम' (ला ऑफ द इन्स्ट्रुमेन्ट) भी कहते हैं। अब्राहम मास्लो ने १९६६ में कहा था-

"मैं समझता हूँ कि यदि आपके पास हथौड़े के अलावा और कोई औजार नहीं है तो आप हर वस्तु को कील समझने लगते हैं।
(I suppose it is tempting, if the only tool you have is a hammer, to treat everything as if it were a nail.)

'हथौड़े का नियम' हर क्षेत्र में देखने को मिल जाता है- औषधि क्षेत्र मे, शिक्षा के क्षेत्र में, सॉफ्टवेयर के क्षेत्र, लोक प्रशासन के क्षेत्र में, सुरक्षा के क्षेत्र मे आदि।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]