जल विद्युत परियोजना

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भारत मे जल का विशाल भण्डार है। इस दृष्टि से भारत का विश्व मे पांचवा स्थान है। इसकी शुरूआत 1897 ई मे दार्जिलिंग में हुयी जहां पहली बार 130 किलोवाट क्षमता का पहला जल विद्युत गृह बनाया गया। स्वतंत्रता के बाद इस क्षेत्र में भारी वृध्दि हुआ। 1950-51 में विद्युत का उत्पादन 2.5 अरब किलोवाट था जो 1970-71 में बढकर 25.2 अरब किलोवाट, 1980-81 में 46.5 अरब किलोवाट और 1990-91 में 71.7 अरब किलोवाट, 1994-95 में 76.4 अरब किलोवाट हो गया परन्तु 1995-96 मे यह घटकर 73.5 अरब किलोवाट ही रह गया। लेकिन वर्ष 2000 मे यह उत्पादन बढकर 80.555 अरब किलोवाट हो गया। 2003-2004 मे 73.796 अरब यूनिट जल विद्युत क उत्पादन हुआ।

भारत में जल विद्युत परियोजना[संपादित करें]

1. पहली जल विद्युत परियोजना कर्नाटक राज्य मे कावेरी नदीपर शिवासमुद्रम स्थान पर है। 2. महाराष्ट्रके मुम्बईमे पश्चिमी घाट पर टाटा जल विद्युत परियोजना है। जिसका मुख्य उद्देश्य मुंबई को बिजली उपलब्ध कराना था।