जलरञ्जित चित्रकला

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
एक चित्रकार एक गोलाकार तूलिका का इस्तेमाल करते हुए जलरंजित चित्रकला रचते हुये।

जलरंजित चित्रकला (Watercolour Painting वॉटरकलर पेन्टिंग) चित्रकला का वह प्रकार है जिसमें जल-आधारित रङ्गों का इस्तेमाल करते हुए चित्रों की रचना होती है। ऐसे रंग जलरंग या जलरंजक रंग या (उनके अंग्रेज़ी नाम से) वॉटरकलर कहलाते हैं। जलरंग जल में घुलने वाली स्याही से बने होते हैं। इसे काग़ज़ पर लगाने व रञ्जित करने के लिये अनेक तरह की तूलिकाओं का इस्तेमाल होता है। जलरंजित चित्रकला ज़्यादातर काग़ज़ की नींव पर की जाती है, विशेषकर एक विशिष्ट प्रकार का काग़ज़ जिसे जलरंजिक काग़ज़ कहते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]