जगमोहन मुंद्रा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जगमोहन मुंद्रा एक भारतीय निर्देशक हैं।उनका जन्म २९ अक्टोबर १९४८ मे हुआ था।वह ऐ क अमेरिकी शोषण फिल्म निर्देशक के रूप मे उनकी प्रारंभिक जीवन के लिऐ ऐक भारतिय अमेरिकी निर्देशक,निर्माता,और स्क्रीनलेखक सबसे अच्छा ज्ञात किया गया था।अपने पहले नाटक ,सुराग,और सामाजिक रूप से प्रासंगिक फिल्म,कमला,वो देर से १९८० के दशक में निर्देशित और १९९०,डरावना और कामुक रोमांचक फिल्मों के लिऐ नाटकीय वियरण और प्रत्यक्ष वीडियो, के लिऐ ऐक स्ट्रिंग के बाद साहित आरा १९८८, हेलोवीन नाईट १९८८, रात आईस १९९० आदि।बवनदर(२०००),जो वह नाम जगमोहन के तहत निर्देश, के साथ शुरुआत फिर मुंद्रा समस्या-प्रधान फिल्मों के लिऐ गया था।उन्होंने ऐक फिल्म निर्माता बनने के लिऐ ऐक गुप्त महत्वाकांक्ष पाला।अत्यधिक प्रतिस्पर्धी और प्रतिष्ठित आई आई टी बाम्बे में अपने प्रवेश मुंद्रा पर ऐक प्रमुख प्रभाव था।मैं ९ वीं कक्षा तक हिंदी माध्यम के स्कूल में अध्ययन किया था और हमेशा लोग है, जो अंग्रेजी में धाराप्रवाह बात की प्रशंसा की।आई आई टी ने मुझे विनम्रता का ऐक बहुत कुछ सिखाया । मेरे विंग में, वहाँ थे जो थे, और अंग्रेज़ी जहाँ तक अलग राज्यों से छात्र चला गया, जो अपने जीवन को बचाने के लिऐ अंग्रेज़ी बोल नहीं सकता इस व्यक्ति बिहार के साथ बाकी सब थी।मैं अच्छी तरह से किया है, लेखिन जबकि इंजीनियरिंग मेरे लिऐ नहीं था कि आई आई टी में बहुत जल्दी पर महसूस किया । मैं बहुत ही दुखी होगा अगर मैं ऐक इंजीनियर होने के नाते मेरे जीवन जीने के लिऐ किया गया था, लेखिन मैं मेरे माता पिता को नीची करने के लिऐ नहीं चाहता था क्योंकि मैं इस बाहर अटक गया ।वह भी अपने ऐम ऐस इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में के लिऐ चला गया । हालांकि , वह अपने फिल्म कैरियर से पहले मोशन पिक्चर्स , में ऐक पिऐचडी प्रोग्राम के लिऐ बंद कर दिया ।इस से पहले उन्होंने फिल्म निर्माण में ऐक डुबकी लेने का फैलिफोर्नेया में कई विश्वविध्यालयों में पढाया ।वह ऐक ऐन आर आई निदेशक , जो अंतरराष्ट्रीय सितारों के साथ काम किया और फिल्मों में अंग्रेज़ी बनाया से अधिक हो गया है । बाद में वह चन्द्रा नामक ऐक लखकी के साथ शादी की थी । उन्होंने ऐश्वर्या राय से निर्देशिक "प्रोवोक्ड", किरनजीत ,घरेलू हिंसा का शिकार कि वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित ऐक फिल्म का निर्देशक किया । उनकी आखिरी फिल्म , ४० में, शरारती , गोविंदा के साथ था ।वह भी राजपूत के खिला ऐक दलित महिला पर लंदन और इस कोलाहल के बाद में किस्सा कुट्टे की तरह व्यंग्य में ७ जुलाई सबवे बम विस्फोट की पृष्ठभूमि के खिलाफ सेट करने के लिऐ नज़ीरुदीन शाह के साथ ऐक फिल्म किया । बाद में मुंद्रा बाम्बे अस्पताल में सीने में दर्द , पसीना और ऐक रक्त दबाव के रूप में कम के रूप में ५० के साथ शुक्रवार की सुबह पर जल्दी लाया गया था । डॉक्टरों ने जल्द ही ऐहसासा हुआ कि निर्देशक ऐक दिल का दौरा पडने से पीडित नहीं था । उसकी ई सी जी पता चला उसके दिल में सब कुछ सामान्य था । डॉ.बि के रूप में फिल्म निर्माता को अस्पताल लाया था बुलाया गया था जो गोयल , बॉम्बे अस्पताल , से ऐक ने कहा कि उन्होंने लॉस एंजिल्स थी के लिऐ ऐक अधिक से अधिक कारण दिया , पहले चार महीने के लिऐ एंजियोप्लस्टी था । उन्होंने कई पुरस्कार जीती है । उनमे से जगमोहन जी बॉलीवुड मूवी पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ संपादन के लिऐ और बरमुडा अंतरराष्ट्रीय फिल्म दर्शकों के च्वाइस अवार्ड के लिऐ जीता है । वह स्क्रीन साप्ताहिक पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ संपादन के लिऐ भी वे नामित किया गया है । ६४ वर्षीय फिल्मकार जगमोहन मुंद्रा बंबैई में रविवार की सुबह पीडित के बारे में दो दिन पहले वह ऐक से अधिक अंग विफलता थी के लिऐ ऐक जठरात्रं संबंधी रक्तस्त्राव के बाद निधन हो गया है ।जगमोहन जी भारत में ऐक बहुत ही मशहूर फिल्म निर्माता है । वह अपने पूरे ज़िदगी फिल्म निर्माता के लिऐ योगदान दिया है । उनकी सभी फिल्मों से पता चलता है कि वह फिल्म निर्माण की ओर कितना आवेश्पूर्ण था । वह तो कई अच्छा फिल्म , बंगाली आदि भाषाओं मे लिया गया है ।